क्यों अधिकांश मॉडर्न पीसी में ऑप्टिकल ड्राइव ड्राइव नहीं है?

Why No Optical Drives in Modern PC

Why No Optical Drives in Modern PC

कंप्यूटर के शुरुआती दिनों में, स्टोरेज मेगाबाइट्स में होता था और अधिकांश सिस्टम फ्लॉपी ड्राइव पर निर्भर थे। हार्ड ड्राइव के उदय के साथ, लोग अधिक डेटा स्टोर कर सकते थे लेकिन यह बहुत पोर्टेबल नहीं था। CD डिजिटल ऑडियो लाए, लेकिन वे हाई कैपेसिटी वाले पोर्टेबल स्टोरेज प्रदान करने का साधन भी है, जिससे बड़ी मात्रा में डेटा शेयर करना और एप्लिकेशन इंस्टॉल करना आसान हो गया। DVD ने स्‍टोरेज का बहुत अधिक विस्तार किया, जिससे इनपर फिल्मों, टीवी शो और बहुत सारे डेटा को स्‍टोर कर कही भी ले जाना आसान हो गया।

लेकिन अचानक ऐसा क्या हो गया की अब मार्केट में आने वाले कई सारे लैपटॉप और अब तो डेस्‍कटॉप भी इन DVD drive के बिना ही आने लगे हैं? ऐसे कौनसे कारण हैं की एक समय में बहुत अधिक इस्तेमाल होने वाले इन DVD ड्राइव के साथ के लैपटॉप और डेस्‍कटॉप को देखना बहुत मुश्किल हो रहा है?

 

छोटे मोबाइल कंप्यूटर का उदय

आइए इसका सामना करते हैं, ऑप्टिकल डिस्क अभी भी काफी बड़ी हैं। आधुनिक लैपटॉप और अब टैबलेट की साइज़ की तुलना में लगभग पांच इंच व्यास की यह डिस्क बड़ी होती है। भले ही ऑप्टिकल ड्राइव साइज़ में बहुत कम हो गए हैं, लेकिन अब अधिक से अधिक लैपटॉप स्‍पेस को बचाने के लिए इस टेक्‍नोलॉजी को त्याग रहे है।

भले ही बड़ी संख्या में अल्ट्रापोर्टेबल कंप्यूटरों ने पतले और हल्के सिस्टम होने के लिए ड्राइव को छोड़ दिया हो, लेकिन ओरिजनल मैकबुक एयर ने दिखा दिया कि बिना ड्राइव के आधुनिक लैपटॉप कितना पतला हो सकता है।

अब कंप्यूटिंग के लिए टैबलेट के उदय के साथ, सिस्टम में इन बड़े ड्राइव को शामिल करने की कोशिश करना और भी मुश्किल हो रहा है।

यहां तक ​​कि अगर आप मोबाइल कंप्यूटर के आकार के बारे में बात नहीं कर रहे हैं, तो ऑप्टिकल ड्राइव द्वारा उपयोग किए जाने वाले स्थान का उपयोग अधिक व्यावहारिक चीजों के लिए किया जा सकता है। आखिरकार, बैटरी के लिए उस स्थान का बेहतर उपयोग किया जा सकता है जो सिस्टम के रनिंग टाइम को बढ़ा सकते है। यदि सिस्टम परफॉर्मेंस के लिए डिज़ाइन किया गया है, तो इसके अतिरिक्त परफॉर्मेंस के लिए एक हार्ड ड्राइव के अलावा एक नया solid state drive को एड किया जा सकता है। या फिर हो सकता है कि इस जगह पर कंप्यूटर के बेहतर ग्राफिक्स समाधान के लिए एक ग्राफिक्स कार्ड यहां पर लगाया जा सके, जो टास्‍क या गेमिंग के लिए उपयोगी होगा।

 

कपैसिटी जो अन्य टेक्‍नोलॉजीज से मेल नहीं खाती

जब CD ड्राइव ने पहली बार मार्केट में आए, तो उन्होंने एक विशाल स्‍टोरेज कपैसिटी की पेशकश की जिसने उन दिनों के पारंपरिक मैग्‍नेटिक मीडिया को टक्कर दी। आखिरकार, 650 MB स्टोरेज उस समय सबसे बेहतर था, जो उस समय सबसे ज्यादा हार्ड ड्राइव स्‍टोरेज था। DVD ने इस क्षमता को रिकॉर्ड किए गए फॉर्मेट पर 4.7 GB स्‍टोरेज के साथ और भी विस्तार किया। इसकी संकरी ऑप्टिकल बीम के साथ Blu-ray लगभग 200 गीगाबाइट स्‍टोरेज प्राप्त कर सकता है लेकिन अधिक व्यावहारिक कंस्यूमर एप्‍लीकेशन आमतौर पर 25 GB पर बहुत कम हैं।

जबकि इन स्‍टोरेज क्षमताओं का ग्रोथ रेट अच्छा है, लेकिन अब यह उस घातीय विकास के पास है जो कि हार्ड ड्राइव हासिल की हैं। ऑप्टिकल स्टोरेज अभी भी गीगाबाइट्स में अटका हुआ है, जबकि अधिकांश हार्ड ड्राइव अब और भी अधिक टेराबाइट्स की क्षमता के साथ आ रहे हैं। डेटा स्‍टोरेज करने के लिए सीडी, डीवीडी और ब्लू-रे का उपयोग करना अभी इसके लायक नहीं है। टेराबाइट ड्राइव आमतौर पर दो से तीन हजार की रेंज में मिलते है और आपके डेटा को फास्‍ट एक्‍सेस प्रदान करते है। वास्तव में, कई लोगों के पास आज अपने कंप्यूटर में अधिक स्टोरेज है क्योंकि वे सिस्टम के लाइफटाम उपयोग करने की संभावना रखते हैं।

Solid State Drives में भी पिछले कुछ वर्षों में जबरदस्त बढ़त देखी गई है। इन ड्राइव में उपयोग की जाने वाली फ्लैश मेमोरी वही होती है जो USB Flash Drive में पाई जाती है, जिसने फ्लॉपी टेक्‍नोलॉजी को अप्रचलित बना दिया था। एक 16GB USB फ्लैश ड्राइव 400 रु. तक आ सकता है, जो डबल लेयर DVD की तुलना में अधिक डेटा स्‍टोर करता है। कंप्यूटर के भीतर उपयोग किए जाने वाले SSD ड्राइव अभी भी अपनी क्षमताओं के लिए काफी महंगे हैं, लेकिन वे हर साल अधिक से अधिक व्यावहारिक हो रहे हैं, ताकि वे कई कंप्यूटरों में अपने स्थायित्व और कम बिजली की खपत के कारण हार्ड ड्राइव की जगह ले सके।

मत खरीदें नई हार्ड ड्राइव! जब तक आप यह नहीं पढ़ते

 

नॉन-फिजिकल मीडिया का उदय

स्मार्टफ़ोन के उदय और डिजिटल म्यूजिक प्‍लेयर के रूप में उनके उपयोग के साथ, फिजिकल मीडिया डिस्ट्रीब्यूशन की आवश्यकता धीरे-धीरे मिट गई है। जैसा कि अधिक से अधिक लोगों ने इन प्‍लेयर पर और अपने स्मार्टफ़ोन पर अपने म्यूजिक को सुनना शुरू कर दिया, उन्हें आम तौर पर अपने मौजूदा म्यूजिक कलेक्‍शन को कही पर ले जाने के लिए इन बड़े सीडी प्लेयर की आवश्यकता के बिना ही वे अब नए मीडिया प्‍लेयर से गाने सुनने के लिए इसमें MP3 फॉर्मेट में सेव कर सकते थे।

आखिरकार, आईट्यून्स स्टोर, अमेज़ॅन एमपी स्टोर और अन्य मीडिया आउटलेट के माध्यम से ट्रैक को खरीदने की क्षमता के कारण, एक बार का सर्वव्यापी फिजिकल मीडिया फॉर्मेट, आज तेजी से इस उद्योग के लिए अप्रासंगिक हो गया है।

अब सीडी के लिए भी यही समस्या वीडियो उद्योग के लिए भी हो रही है। डीवीडी की बिक्री ने फिल्म उद्योगों के राजस्व का एक बड़ा हिस्सा बनाया। इन वर्षों में, डिस्क की बिक्री में बहुत गिरावट आई है। इसमें से कुछ नेटफ्लिक्स या हुलु जैसी सर्विसेस से फिल्मों और टीवी को स्ट्रीम करने की क्षमता से होने की संभावना है। इसके अलावा, अधिक से अधिक फिल्मों को डिजिटल फॉर्मेट में आईट्यून्स और अमेज़ॅन जैसे स्टोर से खरीदा जा सकता है, जैसे कि वे म्‍यूजिक के साथ कर सकते हैं। यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से सुविधाजनक है जो ट्रैवल करते समय वीडियो देखने के लिए एक टैबलेट का उपयोग करना चाहते हैं। यहां तक ​​कि हाई डेफिनेशन ब्लू-रे मीडिया पिछले डीवीडी बिक्री की तुलना में मार्केट को कैच करने में विफल रहा है।

यहां तक ​​कि सॉफ्टवेयर, जो हमेशा डिस्क पर खरीदे और फिर इंस्टॉल किए गए जाते थे, वे भी अब डिजिटल डिस्ट्रीब्यूशन चैनलों में चले गए। सॉफ्टवेयर के लिए डिजिटल डिस्ट्रीब्यूशन एक नया विचार नहीं है क्योंकि यह शेयरवेयर और बुलेटिन बोर्ड सिस्टम के माध्यम से इंटरनेट पर सालों पहले किया गया था। आखिरकार, पीसी गेम्स के लिए स्टीम जैसी सर्विसेस में तेजी आई और उपभोक्ताओं के लिए अपने कंप्यूटर पर उपयोग करने के लिए प्रोग्राम खरीदना और डाउनलोड करना आसान हो गया। इस मॉडल की सफलता और आईट्यून्स की वजह से कई कंपनियों को कंप्यूटर के लिए डिजिटल सॉफ्टवेयर डिस्ट्रीब्यूशन की शुरुआत करनी पड़ी। टैबलेट ने ऑपरेटिंग सिस्टम में निर्मित अपने ऐप स्टोर के साथ इसे और भी आगे बढ़ाया है।

यहां तक ​​कि अधिकांश आधुनिक पीसी अब फिजिकल इंस्‍टॉलेशन मीडिया के साथ नहीं आते। इसके बजाय, वे एक अलग रिकवरी पार्टिशियन और बैकअप पर भरोसा करते हैं जो सिस्टम की खरीद के बाद उपभोक्ता द्वारा किए जाते हैं।

 

विंडोज मूल रूप से डीवीडी प्लेबैक को नकार रहे हैं

संभवतः सबसे बड़ा फैक्‍टर जो पीसी में ऑप्टिकल ड्राइव के निधन का कारण होगा, वह डीवीडी प्लेबैक के लिए Microsoft का सपोर्ट बंद करने से है। अपने एक डेवलपर ब्लॉग में, वे कहते हैं कि विंडोज 8 ऑपरेटिंग सिस्टम के आधार वर्शन में डीवीडी वीडियो चलाने के लिए आवश्यक सॉफ़्टवेयर शामिल नहीं होंगे। यह निर्णय लेटेस्‍ट विंडोज 10 पर किया गया है। यह एक प्रमुख विकास है क्योंकि यह ऑपरेटिंग सिस्टम के पिछले वर्शन में एक स्‍टैडर्ड विशेषता थी। अब, यूजर्स को या तो OS के लिए मीडिया सेंटर पैक खरीदना होगा या OS के लिए एक अलग प्लेबैक सॉफ़्टवेयर की आवश्यकता होगी।

इस कदम का प्राथमिक कारण लागत को कम करना है। स्पष्ट रूप से, Microsoft का कहना है कि सॉफ़्टवेयर को लाइसेंस देने वाली कंपनियां पीसी पर इंस्‍टॉल किए जाने वाले सॉफ़्टवेयर की समग्र लागत के बारे में चिंतित थीं। डीवीडी प्लेबैक सॉफ्टवेयर को हटाकर, वीडियो प्लेबैक कोडेक्स के लिए संबद्ध लाइसेंस फीस को भी हटाया जा सकता है, जिससे सॉफ्टवेयर की समग्र लागत कम हो जाती है। बेशक, यह सिर्फ यही एक और कारण होगा कि उपभोक्ता अब DVD प्‍लेयर हार्डवेयर का परित्याग करेंगे क्योंकि यह अतिरिक्त सॉफ्टवेयर खर्च के बिना बेकार हो जाएगा।

Optical Disk in Hindi: वे क्या हैं और वे कैसे काम करते हैं?

 

निष्कर्ष:

अब ऑप्टिकल स्‍टोरेज कंप्यूटर से किसी भी समय पूरी तरह से गायब नहीं होने वाला है। यह बहुत स्पष्ट है कि उनका प्राथमिक उपयोग बदल रहा है और कंप्यूटर को उनकी आवश्यकता नहीं है जैसे कि पहले हुआ करती थी।

डेटा स्‍टोर करने, सॉफ़्टवेयर लोड करने या मूवी देखने के लिए उपयोग किए जाने के बजाय, कंप्यूटर और मोबाइल डिवाइसेस पर प्लेबैक के लिए फिजिकल मीडिया को डिजिटल फ़ाइलों में बदलने के लिए ड्राइव की संभावना होगी। यह लगभग तय है कि निकट भविष्य में अधिकांश मोबाइल कंप्यूटर से ड्राइव पूरी तरह से हटा दिए जाएंगे।

हालांकी डेस्कटॉप अभी भी उन्हें थोड़ी देर के लिए उपयोग करेंगे क्योंकि इस टेक्‍नोलॉजी को शामिल करना बहुत सस्ता है और मोबाइल कंप्यूटर के लिए स्‍पेस इश्‍यु नहीं है। बेशक, एक्‍सर्टनल पेरीफेरल ऑप्टिकल ड्राइव थोड़ी देर के लिए बच जाएगा।