Homeकंप्‍यूटर टिप्‍स एंड ट्रिक्‍सनेटवर्किंगTelnet क्या है? क्या इसे अभी भी इस्तेमाल किया जा सकता है?

Telnet क्या है? क्या इसे अभी भी इस्तेमाल किया जा सकता है?

Telnet Hindi

Telnet in Hindi

इंटरनेट पर सर्फिंग करते समय आपने Telnet शब्द को पढ़ा होगा।

कुछ यूजर्स ने इसमें कुछ फन किया होगा, जबकि अन्य यूजर्स अभी भी इसका इस्तेमाल कर रहे होंगे क्योंकि उन्हें बीते वक्त की याद हमेशा आती हैं और उन्हें पुराने दिनों से प्यार हैं।

आप में से जो यूजर्स नहीं जानते कि Telnet क्या है और आधुनिक इंटरनेट में इसकी उपयुक्तता क्या हैं, उन्हें इस आर्टिकल को पढ़ना चाहिए।

Telnet Full Form

Telnet का फूल फॉर्म  – TErminaL NETwork हैं।

What is Telnet in Hindi?

Telnet Kya Hai

Telnet एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है, जो एक कमांड लाइन इंटरफेस का उपयोग कर नेटवर्क से कनेक्‍ट डिवाइस के साथ कम्‍युनिकेशन करता हैं।

Telnet एक सरल, टेक्स्ट-आधारित नेटवर्क प्रोटोकॉल है जिसका उपयोग इंटरनेट जैसे TCP/IP नेटवर्क पर रिमोट कंप्यूटर को एक्‍सेस करने के लिए किया जाता है।

रिमोट-मैनेजमेंट के लिए टेलनेट सबसे अधिक उपयोग किया जाता है, लेकिन कभी-कभी कुछ डिवाइसेस, विशेष रूप से नेटवर्क हार्डवेयर जैसे Switches, Access Point आदि के इनिशियल सेटअप के लिए।

वेब पर, HTTP और FTP प्रोटोकॉल से आप रिमोट कंप्यूटर से विशिष्ट फ़ाइलों के लिए रिक्‍वेस्‍ट कर सकते हैं, लेकिन वास्तव में उस कंप्यूटर के यूजर्स के रूप में लॉग-इन नहीं किया जाता। Telnet के साथ, आप एक रेग्‍युलर यूजर्स के रूप में लॉग-इन करते हैं, और आपको कंप्यूटर के विशिष्ट ऐप्‍लीकेशन और डेटा के एक्‍सेस का विशेषाधिकार होता हैं।

Telnet को 1969 में बनाया और लॉन्च किया गया था, और ऐतिहासिक रूप से बोलते हुए, आप यह कह सकते हैं कि यह पहला इंटरनेट था।

पुराने दिनों में, आपको अपने डेटा का उपयोग करने के लिए सर्वर तक चल के जाना पड़ता था। इसका मतलब है, अन्य बातों के अलावा, आपको सर्वर तक आने-जाने में बहुत समय बिताना पड़ता था और फिर आपको सर्वर के साथ काम करने के लिए अपनी बारी का इंतजार करना पड़ता था। यहां तक ​​कि अगर सर्वर में एक ही समय में कई चीजें करने के लिए हार्डवेयर की पॉवर होती थी, लेकिन आप इसे पूरी तरह से उपयोग करने से ब्‍लॉक कर चुके थे और आपको दूसरों के लिए अपना काम पूरा करने के लिए इंतजार करना पड़ा था। कई परिस्थितियों में आप सर्वर को स्पर्श भी नहीं कर सकते थे।

Telnet ने प्रोसेस में असाधारण परिवर्तन लाया। इसका प्रयोग करने का मतलब था कि अब मल्टीपल यूजर्स एक सर्वर से एक साथ कनेक्ट कर सकते हैं। सर्वर से कनेक्ट करने के लिए, यूजर्स को केवल टर्मिनल के एक्‍सेस की आवश्यकता होती है, जो कि उपलब्ध सबसे आसान और सबसे सस्ता कंप्यूटर हो सकता है। इस कंप्यूटर को पॉवरफूल हार्डवेयर बनाने की आवश्यकता नहीं थी, केवल एक नेटवर्क कनेक्शन और टेक्‍स्‍ट आधारित इंटरफ़ेस की आवश्यकता थी। असल में, उनके टेलनेट क्लाइंट एक कमांड प्रॉम्प्ट की तरह थे, जो लोग अपने सर्वर के साथ काम करने के लिए उपयोग कर सकते थे। इससे प्रोडक्टिविटी में भारी वृद्धि हुई।

टेलनेट का मतलब क्‍या हैं?

Telnet Meaning in Hindi – हिंदी में टेलनेट अर्थ

Telnet का मतलब Terminal Network

टेलनेट कैसे काम करता है?

How Does Telnet Work in Hindi?

Telnet मुख्यतः टर्मिनल या डम्ब कंप्यूटर पर इस्तेमाल किया जाता था। इन कंप्यूटरों को केवल एक कीबोर्ड की आवश्यकता होती है क्योंकि स्क्रीन पर सब कुछ टेक्स्ट के रूप में डिस्‍प्‍ले होता है। आज के जैसे आधुनिक कंप्यूटर और ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ कोई ग्राफिकल यूजर इंटरफेस नहीं होता था।

टर्मिनल, अन्य डिवाइस पर रिमोट लॉग-इन करने का तरीका प्रदान करता है, जैसे कि आप इसके सामने बैठे है और इसे किसी अन्य कंप्यूटर की तरह प्रयोग कर रहे है। यह कम्युनिकेशन Telnet के जरिए किया जाता हैं।

आजकल, टेलनेट का इस्तेमाल वर्चुअल टर्मिनल या टर्मिनल एमुलेटर से किया जा सकता है, जो कि एक आधुनिक कंप्यूटर है जो उसी टेलनेट प्रोटोकॉल के साथ कम्युनिकेशन करता है।

इसका एक उदाहरण टेलनेट कमांड है, जो कि विंडोज़ में कमांड प्रॉम्प्ट पर ही उपलब्ध है। Telnet एक कमांड है जो टेलनेट प्रोटोकॉल का उपयोग किसी रिमोट डिवाइस या सिस्टम के साथ कम्युनिकेशन करने के लिए करता है।

Telnet कमांड को अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे कि लिनक्स, मैक, और यूनिक्स पर भी एक्सीक्यूट किया जा सकता है, ठीक वैसे ही जैसे आप विंडोज़ में करते हैं।

Telnet अन्य TCP/IP प्रोटोकॉल जैसे कि HTTP के समान नहीं है, जो आपको एक सर्वर से फाइलों को ट्रांसफर करने देता है इसके बजाय, Telnet प्रोटोकॉल में आप एक सर्वर पर लॉग-इन करते हैं जैसे कि आप एक्चुअल यूजर्स हैं, और आपको सीधा कंट्रोल मिलता हैं और फाइलों और ऐप्‍लीकेशन के सभी अधिकार मिलते हैं।

Telnet एक प्रोटोकॉल है जो आपको TCP/IP नेटवर्क (जैसे इंटरनेट) पर रिमोट कंप्यूटर्स (होस्‍ट) से कनेक्‍ट करता है। आपके कंप्यूटर पर Telnet क्लाइंट सॉफ़्टवेयर का उपयोग करते हुए, आप टेलनेट सर्वर (यानी रिमोट होस्ट) से कनेक्शन बना सकते हैं। एक बार जब आपका टेलनेट क्लाइंट रिमोट होस्ट के लिए एक कनेक्शन स्थापित करता है, तो आपका क्लाइंट वर्चुअल टर्मिनल बन जाता है, जिससे आप अपने कंप्यूटर से रिमोट होस्ट के साथ कम्युनिकेशन कर सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, आपको रिमोट होस्ट में लॉगइन करना होगा, जिसके लिए आपके पास उस सिस्टम पर एक अकाउंट होना आवश्यक है। कभी-कभी, आप अकाउंट के बिना गेस्‍ट या पब्‍लीक रूप में बिना अकाउंट के लॉगइन कर सकते हैं।

टेलनेट का उदाहरण क्‍या हैं?

Example of Telnet in Hindi – हिंदी में टेलनेट का उदाहरण:

कमांड लाइन टेलनेट क्लाइंट मैकओएस, विंडोज, यूनिक्स, और लिनक्स के अधिकांश वर्श़न में बनाये गये हैं। इन क्लाइंट्स का उपयोग करने के लिए, उनके संबंधित कमांड लाइनों (अर्थात्, मैकओएस में टर्मिनल एप्लीकेशन, यूनिक्स या लिनक्स में शेल, या विंडोज़ में डॉस प्रॉम्प्ट) पर जाएं और फिर यह कमांड टाइप करें:

telnet host port

host को सर्विस के एड्रेस के साथ बदलें, और port कि जगह जिस पर यह सर्विस चलती है (जैसे, http के लिए 80) उसका पोर्ट नंबर।

विंडोज में Telnet Client और Telnet Server क्या हैं?

Windows में, आप दो टेलनेट रिलेटेड फीचर्स को एड कर सकते हैं:

1) Telnet Server:

यदि आप इस फीचर को इंस्‍टॉल करते हैं, तो आप अपने विंडोज कंप्यूटर को टेलनेट सर्वर के रूप में रन करने के लिए कॉन्फ़िगर कर पाएंगे। इसका मतलब यह है कि आपका कंप्यूटर आने वाले कनेक्शनों को स्वीकार करेगा और दूसरों को इसका उपयोग करने की अनुमति देगा। यदि आपके पास एक पब्‍लीक आईपी एड्रेस है और Firewall इसे ब्‍लॉक नहीं कर रहा हैं, तो दुनिया में कोई भी टेलनेट क्लाइंट का उपयोग करके आपके कंप्यूटर को रिमोट कंट्रोल कर सकता है।

2) Telnet Client:

यह टेलनेट के माध्यम से एक कमांड प्रॉम्प्ट विंडो का उपयोग कर इस प्रकार के किसी भी टेलनेट सर्वर पर कनेक्ट होता हैं।

क्‍या Telnet का उपयोग करना सुरक्षित हैं?

यद्यपि टेलनेट ग्रेट था, जब इसका आविष्कार हुआ और उसने टेक्नोलॉजी के उपयोग में क्रांतिकारी बदलाव किया, तो भी इसमें कुछ खामियां हैं उनमें से सबसे खराब यह है कि यह सुरक्षित नहीं है! टेलनेट बिना किसी encryption के सिंपल टेक्स्ट में ही डेटा भेजता और प्राप्त करता है।

इसका मतलब यह है कि जब भी आप टेलनेट सर्वर से कनेक्ट होते हैं, तो आपका पर्सनल डेटा जैसे कि आपका यूज़रनेम और पासवर्ड स्पष्ट टेक्‍स्‍ट के रूप में ट्रांसमिट किया जाएगा। जो कोई भी, जो यह जानता है कि किसी नेटवर्क कनेक्शन के एक्‍सेस के लिए किस एप्लिकेशन का उपयोग कैसे करना है, वह ट्रांसमिट हो रहे इस डेटा को देख सकता हैं।

असल में, वह यूजर केवल एक पागल ही हो सकता हैं, जो किसी भी गंभीर बातों के लिए टेलनेट का उपयोग करने की कोशिश कर रहा है जैसे कि बहुमूल्य जानकारी को ट्रांसमिट करना या बिज़नेस सर्वरों एड्मिनिस्टरिंग करना।

जब इस प्रोटोकॉल का आविष्कार किया गया था, तब हमारे पास हाई बैंडविड्थ इंटरनेट, बहुत सारे हैकर्स, मैलवेयर क्रिएटर्स नहीं थे। इसका उपयोग पहली बार क्‍लोज नेटवर्क वाले संस्थानों द्वारा किया गया था जो टेलनेट के माध्यम से अपने सर्वर पर कंट्रोल एक्‍सेस प्रदान कर रहे थे। उस समय, एन्क्रिप्शन किसी की आवश्यकताओं की लिस्‍ट में नहीं था।

लेकिन आज, टेलनेट सबसे असुरक्षित प्रोटोकॉल है जिसे आप डेटा ट्रांसमिट  करने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

टेलनेट जिरो फ़ाइल ट्रांसफर एन्क्रिप्शन प्रदान करता है, जिसका अर्थ है टेलनेट पर किए गए सभी डेटा ट्रांसफर स्पष्ट टेक्‍स्‍ट में पास किए जाते हैं। आपके नेटवर्क ट्रैफ़िक की निगरानी करने वाला कोई भी, आपके यूजरनेम और पासवर्ड दोनों को देख सकता हैं, जब आप टेलनेट सर्वर पर लॉग इन करते हैं।

इन दिनों, यदि एक टेलनेट सर्वर ऑनलाइन लाया जाता है और पब्‍लीक इंटरनेट से कनेक्‍ट होता है, तो यह बहुत अधिक संभावना है कि कोई भी इसे ढूंढ लेगा और इसे हैक करेगा।

तथ्य यह है कि टेलनेट असुरक्षित है और इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। लेकिन एवरेज कंप्यूटर यूजर्स के लिए यह चिंता का विषय नहीं होना चाहिए।

क्या टेलनेट अभी भी प्रयोग किया जाता है?

आज डिवाइस या सिस्टम से कनेक्ट करने के लिए Telnet को शायद ही कभी उपयोग किया जाता है।

अधिकांश डिवाइस, अब वेब बेस इंटरफेस के जरिए कॉन्फ़िगर और मैनेज किए जा सकते हैं जो टेलनेट की तुलना में अधिक सुरक्षित और उपयोग के लिए आसान हैं।

अब जब आप टेलनेट के बारे में थोड़ा जानते हैं और आप जानते हैं कि यह एक बहुत ही असुरक्षित प्रोटोकॉल है, तो कुछ रियल-लाइफ के उपयोगों को देखते हैं, जो अभी भी किए जाते हैं:

पुराने स्कूल के सर्वरों को एक्सेस करने के लिए, जो कि रिमोट कनेक्शन के लिए इस प्रोटोकॉल का उपयोग करने पर जोर देते हैं।

कुछ नेटवर्क डिवाइस जैसे पुराने स्कूल Cisco Routers से कनेक्‍ट करने के लिए इसका इस्‍तेमाल हो सकता हैं। Telnet क्लाइंट की मदद से आप उसे कॉन्फ़िगर कर सकते हैं।

आज भी लोग टेलनेट का उपयोग करते हैं और इसका मुख्य कारण फन के लिए है। आप फुल-टेक्‍स्‍ट में फिल्में देख सकते हैं, गेम्‍स खेल सकते हैं।

विंडोज में टेलनेट का उपयोग कैसे करें?

How to Use Telnet in Windows

यद्यपि टेलनेट किसी अन्य डिवाइस के साथ कम्युनिकेशन करने का एक सुरक्षित तरीका नहीं है, फिर भी आपको इसका इस्तेमाल करने के लिए एक या दो कारण मिल सकते हैं।

लेकिन दुर्भाग्य से, आप केवल एक कमांड प्रॉम्प्ट विंडो को ओपन कर Telnet कमांड का उपयोग नहीं कर सकते। विंडोज में आपको इसे एनेबल करना होगा।

विंडोज में टेलनेट क्‍लायंट को कैसे एनेबल करें?

Enabling Telnet Client in Windows

विंडोज 10, विंडोज 8, विंडोज 7, और विंडोज विस्टा में, Control Panel में Windows Features से Telnet Client को ऑन करना होगा।

Windows Feature ऑप्‍शन Control Panel के Programs and Features सेक्‍शन में पाया जा सकता है। Windows Feature विंडो से, Telnet Client को सिलेक्‍ट करें और फिर इसे एनेबल करने के लिए OK पर क्लिक करें।

टेलनेट की शुरुआत कब हुई?

टेलनेट एक नेटवर्क वर्चुअल टर्मिनल प्रोटोकॉल को संदर्भित करता है। संक्षिप्त नाम टेलेटाइप नेटवर्क, टर्मिनल नेटवर्क या टेलेकम्युनिकशन्स नेटवर्क से आता है, जो इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस स्रोत पर विश्वास करते हैं। इसे दूर के टर्मिनलों से मेनफ्रेम कंप्यूटरों को मैनेज करने के लिए रिमोट कंट्रोल के रूप में बनाया गया था।

टेलनेट ने शोध छात्रों और प्रोफेसरों को बड़े मेनफ्रेम कंप्यूटर के दिनों में भवन के किसी भी टर्मिनल से विश्वविद्यालय के मेनफ्रेम में लॉग इन करने में सक्षम बनाया। इस रिमोट लॉगिन ने शोधकर्ताओं को प्रत्येक सेमेस्टर चलने के घंटों की बचत की।

जबकि टेलनेट आधुनिक नेटवर्किंग तकनीक की तुलना में फीका है, यह 1969 में क्रांतिकारी था, और टेलनेट ने 1989 में वर्ल्ड वाइड वेब के लिए मार्ग प्रशस्त करने में मदद की।

मुझे कैसे पता चलेगा कि टेलनेट काम कर रहा है?

वास्तविक परीक्षण करने के लिए, Cmd प्रॉम्प्ट लॉन्च करें और कमांड telnet टाइप करें, उसके बाद एक स्पेस फिर टार्गेट कंप्यूटर का नाम, उसके बाद एक और स्पेस और फिर पोर्ट नंबर टाइप करें। यह इस तरह दिखना चाहिए: टेलनेट host_name port_number। टेलनेट करने के लिए एंटर दबाएं।

टेलनेट और पिंग में क्या अंतर है?

पिंग आपको यह जानने की अनुमति देता है कि इंटरनेट के माध्यम से कोई मशीन एक्‍सेस करने योग्य है या नहीं। टेलनेट आपको किसी समस्या के स्रोत को निर्धारित करने के लिए मेल क्लाइंट या एफ़टीपी क्लाइंट के सभी अतिरिक्त नियमों के बावजूद सर्वर से कनेक्शन का परीक्षण करने की अनुमति देता है।

पिंग और ट्रेसरूट के बीच मुख्य अंतर यह है कि पिंग यह बताने के लिए एक त्वरित और आसान उपयोगिता है कि क्या निर्दिष्ट सर्वर पहुंच योग्य है और सर्वर से डेटा भेजने और प्राप्त करने में कितना समय लगेगा जबकि ट्रेसरूट सर्वर तक पहुंचने के लिए लिया गया सटीक मार्ग ढूंढता है और प्रत्येक चरण (हॉप) द्वारा लिया गया समय।

टेलनेट पर अक्‍सर पुछे जाने वाले सवाल

क्या टेलनेट सुरक्षित है?

क्योंकि इसे इंटरनेट के मुख्यधारा के अनुकूलन से पहले विकसित किया गया था, टेलनेट अपने आप में किसी भी प्रकार के एन्क्रिप्शन का उपयोग नहीं करता है, जिससे यह आधुनिक सुरक्षा के मामले में पुराना हो गया है। इसे कम से कम सार्वजनिक इंटरनेट पर सिक्योर शेल (SSH) प्रोटोकॉल (जिसमें रिमोट एक्सेस के आसपास अपने स्वयं के सुरक्षा विचार हैं) द्वारा ओवरलैप किया गया है, लेकिन ऐसे उदाहरणों के लिए जहां टेलनेट अभी भी उपयोग में है, आपके संचार को सुरक्षित करने के लिए कुछ तरीके हैं

टेलनेट के सामान्य उपयोग क्या हैं?

टेलनेट का उपयोग रिमोट वेब या मेल सर्वरों के परीक्षण या समस्या निवारण के लिए किया जा सकता है, साथ ही साथ MUD (बहु-उपयोगकर्ता कालकोठरी खेल) और विश्वसनीय आंतरिक नेटवर्क तक दूरस्थ पहुँच के लिए भी।

लेटेस्ट आर्टिकल्स

अधिक एक्स्प्लोर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.