SSL क्या है? परिभाषा और कैसे SSL काम करता है

SSL Kya Hai in Hindi

क्या आपने कभी देखा है कि कुछ URL “http: //” से शुरू होते हैं जबकि अन्य “https: //” से शुरू होते हैं? शायद आपने देखा कि जब आप बैंक, ऑनलाइन पेमेंट जैसी वेबसाइटें ब्राउज़ करते हैं, जहां पर आपको संवेदनशील इनफॉर्मेशन देने की आवश्यकता होती है, जैसे कि जब आप ऑनलाइन बिलों का पेमेंट करते हैं।

URL in Hindi में! Web Address क्या है? यूआरएल कैसे काम करता है?

लेकिन वह अतिरिक्त “s” कहां से आया हैं, और इसका क्या मतलब है?

इसे सीधे शब्दों में कहें, तो अतिरिक्त “s” का मतलब है कि उस वेबसाइट से आपका कनेक्शन secure है और आपके द्वारा दर्ज किए गए किसी भी डेटा को सुरक्षित रूप से एन्क्रिप्ट किया गया है। वह टेक्‍नोलॉजी जो “s” को थोड़ी पॉवर देती है, SSL कहलाती है।

 

SSL Meaning in Hindi

सर्वर और वेब ब्राउजर के बीच एन्क्रिप्टेड लिंक स्थापित करने के लिए SSL एक स्‍टैंडर्ड सेक्‍युरिटी प्रोटोकॉल है। यह लिंक सुनिश्चित करता है कि ब्राउज़र और सर्वर के बीच सभी डेटा का आदान-प्रदान सुरक्षित रहे।

 

SSL Full Form

Full Form of SSL is –

Secure Sockets Layer

 

SSL Full Form in Hindi

SSL का फूल फॉर्म है –

सिक्योर सॉकेट्स लेयर / Secure Sockets Layer

 

What is SSL in Hindi

SSL क्या है

SSL (Secure Sockets Layer) साइट और उनके साइट विजिटर्स के बीच कनेक्‍शन को सुरक्षित करने के लिए वेबसाइटों द्वारा नियोजित एक एन्क्रिप्शन टेक्नोलॉजी है।

SSL का सबसे व्यापक उपयोग उन पेजेस को सुरक्षित करने के लिए है जहां यूजर्स को क्रेडिट कार्ड नंबर या लॉगिन डिटेल्‍स जैसी संवेदनशील इनफॉर्मेशन देनी होती है।

हाल के वर्षों में वेबसाइट के मालिक, अपनी संपूर्ण साइट पर SSL एन्क्रिप्शन को लागू करने के लिए प्रोत्साहित हुए है, प्रमुख सर्च इंजन प्रोवाइडर्स ने https पेजेज को SEO लाभ प्रदान किया है।

SSL एन्क्रिप्शन ई-कॉमर्स वेबसाइटों के लिए विशेष रूप से उपयोगी है क्योंकि यह उन्हें अपने कस्‍टमर्स के साथ विश्वास बनाने में मदद करता है।

“SSL एक वेब सर्वर और एक ब्राउज़र के बीच एक एन्क्रिप्टेड लिंक स्थापित करने के लिए स्‍टैंडर्ड सेक्‍युरिटी टेक्नोलॉजी है। यह लिंक सुनिश्चित करता है कि वेब सर्वर और ब्राउज़र के बीच पारित सभी डेटा प्राइवेट रहें।”

 

चलो इसे गहराई से समझते हैं-

जब आप एक वेबसाइट पेज पर आते हैं, जिसमें एक फॉर्म होता है, आप उस फॉर्म को भरते है और ‘submit’ बटन को क्लिक करते हैं, तो आपके द्वारा एंटर की गई इनफॉर्मेशन को किसी असुरक्षित वेबसाइट पर हैकर द्वारा इंटरसेप्ट किया जा सकता है।

यह इनफॉर्मेशन किसी बैंक ट्रांजेक्‍शन के लिए दिए गए डिटेल्‍स से लेकर हाई लेवल की इनफॉर्मेशन तक कुछ भी हो सकती है, जिसे आप ऑफ़र के लिए रजिस्टर में एंटर करना चाहते हैं।

हैकर लिंगो में, इस “इंटरसेप्शन” को अक्सर “मैन-इन-द-मिडिल अटैक” कहा जाता है। वास्तविक हमला कई तरीकों से हो सकता है, लेकिन सबसे आम में से एक यह है: एक हैकर एक वेबसाइट को होस्‍ट करने वाले सर्वर पर एक छोटा सा, डिटेक्‍ट न होने वाला प्रोग्राम रखता है। वह प्रोग्राम बैकग्राउंड में तब तक प्रतीक्षा करता है जब तक कि कोई विजिटर वेबसाइट पर इनफॉर्मेशन लिखना शुरू नहीं करता, और जैसे ही कोई अपनी इनफॉर्मेशन भरता हैं, तो यह प्रोग्राम उस इनफॉर्मेशन को कैप्चर करना शुरू करता हैं और फिर इसे हैकर को वापस भेजने के लिए एक्टिव हो जाता हैं। डरावना लगता हैं, लेकिन यह कोई Sci-Fi फिल्म नहीं है।

इसके वितरित जब आप SSL के साथ एन्क्रिप्टेड वेबसाइट पर जाते हैं, तो आपका ब्राउज़र वेबसर्वर के साथ एक कनेक्शन बनाएगा, SSL सर्टिफिकेट को देखेगा, और फिर अपने ब्राउज़र और सर्वर को एक साथ बाँध सकता है। यह बाइंडिंग कनेक्शन सुरक्षित होता है, जिससे आपके और उस वेबसाइट के अलावा कोई भी व्यक्ति नहीं होता, जो यह देख सके की आप अपने ब्राउज़र में क्या   टाइप कर रहे हैं और कौनसी इनफॉर्मेशन सबमिट कर रहे हैं।

यह कनेक्शन तुरंत होता है, और वास्तव में कई लोग यह कहते हैं की यह अब एक असुरक्षित वेबसाइट से कनेक्‍ट होने की तुलना में फास्‍ट है। आपको बस SSL के साथ एक वेबसाइट पर जाना होगा, और आपका कनेक्शन अपने आप सुरक्षित हो जाएगा।

 

Internet Security and Secure Online Transactions

जैसा कि कंपनियां और ऑर्गनाइज़ैशन अधिक ऑनलाइन सर्विसेस और ट्रांजेक्‍शन को ऑफर करते हैं, उनके ऑनलाइन ट्रांजेक्‍शन के लिए इंटरनेट सुरक्षा, एक प्राथमिकता और आवश्यकता बन जाती है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि संवेदनशील इनफॉर्मेशन – जैसे कि क्रेडिट कार्ड नंबर – केवल वैध ऑनलाइन बिज़नेसेस को ट्रांसमिट की जा रही है।

ग्राहकों की इनफॉर्मेशन को निजी और सुरक्षित रखने के लिए, कंपनियों और ऑर्गनाइज़ैशन को सुरक्षित ऑनलाइन ट्रांजेक्शन्स को एनेबल करने के लिए अपनी वेबसाइटों में SSL सर्टिफिकेट्स एड करने की आवश्यकता है।

 

SSL Certificates in Hindi

SSL सर्टिफिकेट्स क्या हैं और मुझे उनकी आवश्यकता क्यों है?

SSL सर्टिफिकेट्स डेटा एन्क्रिप्शन प्रक्रिया का एक अनिवार्य घटक है जो इंटरनेट ट्रांजेक्शन्स को सुरक्षित बनाता है। वे डिजिटल पासपोर्ट हैं जो ब्राउज़रों के साथ वेबसाइट कम्‍यूनिकेशन की प्राइवेसी और अखंडता की रक्षा के लिए प्रमाणीकरण प्रदान करते हैं।

SSL सर्टिफिकेट्स का काम secure sockets layer (SSL) प्रोटोकॉल के माध्यम से यूजर के ब्राउज़र के साथ secure sessions शुरू करना है। यह सुरक्षित कनेक्शन SSL सर्टिफिकेट्स के बिना स्थापित नहीं किया जा सकता है, जो डिजिटल रूप से कंपनी की इनफॉर्मेशन को एक cryptographic key से जोड़ता है।

कोई भी ऑर्गनाइज़ैशन जो e-Commerce में संलग्न है, उसके पास कस्‍टमर और कंपनी की इनफॉर्मेशन, साथ ही फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन्स की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपने वेब सर्वर पर एक SSL सर्टिफिकेट्स होना चाहिए।

e-Commerce in Hindi: e-Commerce क्या है? ई-कॉमर्स को समझें आसान भाषा में!

 

Important of SSL in Hindi

SSL क्यों महत्वपूर्ण है?

SSL सर्टिफिकेट्स स्थापित करने का प्राथमिक महत्व वेब सर्वर और ब्राउज़र के बीच एक सुरक्षित सेशन शुरू करना है। एक बार सुरक्षित कनेक्शन स्थापित हो जाता हैं, तो बाद में वेब सर्वर और विजिटर के बीच पास की गई सभी इनफॉर्मेशन को प्राइवेट और एन्क्रिप्टेड रखा जाएगा।

 

Other SSL advantages in Hindi:

1) ग्राहक के विश्वास में सुधार करता है

URL में यह छोटा s कस्‍टमर को आश्वासन देता हैं कि उनकी इनफॉर्मेशन से समझौता नहीं किया जाएगा। डेटा को इच्छित टार्गेट सर्वर पर भेजा जाएगा, और इसे अनधिकृत थर्ड पार्टी पर रिडाइरेक्‍ट नहीं किया जाएगा। SSL सर्टिफिकेट्स प्राप्त करने से पहले, CA प्रामाणिकता को वेरिफाई करेगा क्योंकि यह केवल वास्तविक कंपनियों और व्यवसायों को SSL सर्टिफिकेट्स वितरित करता है।

 

2) फ़िशिंग हमलों के विरुद्ध इनफॉर्मेशन की सुरक्षा करता है

Phishing साइटें प्रसिद्ध वेबसाइटों की कपटपूर्ण कॉपिज होती हैं, जिनका उद्देश्य आपको अपने क्रेडिट कार्ड या बैंक डिटेल्‍स जैसी मूल्यवान इनफॉर्मेशन जमा करने में धोखा देना है।

Phishing in Hindi: फ़िशिंग क्या हैं, इसे कैसे पहचाने और इनसे कैसे बचें

फ़िशिंग साइटों में अक्सर मूल साइट के समान रूप और दृश्य होते हैं, लेकिन वेबसाइट का एड्रेंस अलग होता है और यह आमतौर पर SSL सर्टिफिकेट्स के साथ सुरक्षित नहीं होता।

उदाहरण के लिए, PayPal.com, इन नकली, कॉपी-कैट फ़िशिंग साइटों के लिए एक लोकप्रिय टार्गेट है। Extended validation certificates आपको एड्रेस बार में वेबसाइट के मालिक का पूरा बिज़नेस नेम दिखाते हुए फ़िशिंग हमलों से बचाता है। फ़िशिंग साइट ऑपरेटर, व्यापक वेरिफिकेशन आवश्यकताओं के कारण EV सर्टिफिकेट्स प्राप्त नहीं कर सकते।

10 आसान (लेकिन महत्वपूर्ण) टिप्स आपके कैशलेस ट्रांन्ज़ैक्शन्स को सिक्योर करने के लिए

 

3) बेहतर सर्च इंजन रैंकिंग

HTTPS को अब दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजनों में से एक Google द्वारा रैंकिंग सिग्‍नल के रूप में माना जाता है। यदि आप ऑप्टिमाइजेशन कर रहे हैं, तो आपको अपनी रैंकिंग को बढ़ाने में मदद करने के लिए SSL सर्टिफिकेट्स प्राप्त करने पर विचार करना चाहिए, खासकर ecommerce साइटों के लिए।

 

Disadvantages of SSL in Hindi

इतने सारे फायदों के साथ, कोई SSL का उपयोग क्यों नहीं करेगा? SSL सर्टिफिकेट्स का उपयोग करने से कोई नुकसान नहीं हैं? लागत एक स्पष्ट नुकसान है। SSL प्रोवाइडर्स को एक विश्वसनीय इंफ्रास्ट्रक्चर स्थापित करने और आपकी पहचान को मान्य करने की आवश्यकता है, इसलिए इसमें एक लागत शामिल होती हैं। हालांकि इस उद्योग में बढ़ती प्रतिस्पर्धा और Let’s Encrypt जैसे प्रोवाइडर्स की शुरूआत ने इसे काफी धीमा कर दिया है।

परफॉर्मेंस SSL से होने वाला एक और नुकसान है। क्योंकि आपके द्वारा भेजी जाने वाली इनफॉर्मेशन को सर्वर द्वारा एन्क्रिप्ट किया जाता है, अगर इनफॉर्मेशन को एन्क्रिप्ट नहीं किया गया है तो यह सर्वर से अधिक सिसोर्सेस लेता है। बहुत बड़ी संख्या में विजिटर्स के साथ वेब साइटों के लिए परफॉर्मेंस में अंतर केवल ध्यान देने योग्य है और ऐसे मामलों में विशेष हार्डवेयर के साथ कम किया जा सकता है।

कुल मिलाकर, SSL का उपयोग करने के नुकसान बहुत कम हैं और फायदे बहुत अधिक हैं। यह महत्वपूर्ण है कि आप सभी वेबसाइटों पर SSL का सही उपयोग करें। SSL सर्टिफिकेट्स का उचित उपयोग आपके कस्‍टमर्स की रक्षा करने में मदद करेगा, आपकी रक्षा करने में मदद करेगा, और आपको अपने कस्‍टमर्स का विश्वास हासिल करने और अधिक बेचने में मदद करेगा।

 

How SSL Certificates Work in Hindi:

SSL सर्टिफिकेट्स कैसे काम करते हैं

निम्नलिखित SSL कनेक्शन प्रोसेस की स्‍टेप-बाई-स्‍टेप रूपरेखा है:

  • एक यूजर अपने इंटरनेट ब्राउज़र का उपयोग करके https: // के साथ शुरू होने वाले वेब एड्रेस को रिक्‍वेस्‍ट करता है। ब्राउज़र रिक्‍वेस्‍ट करता है कि सर्वर स्वयं ही इसकी पहचान करें।

 

  • सर्वर अपने SSL सर्टिफिकेट्स की एक कॉपी भेजकर उत्तर देता है, जिसमें इसकी पब्लिक key शामिल होती है।

 

  • ब्राउज़र यह जानने के लिए सर्टिफिकेट्स रूट की जांच करता है कि क्या वह विश्वसनीय CA से संबंधित है। यह भी जांचता है कि SSL सर्टिफिकेट अनइंस्टाल किया गया है या नहीं। इसके अलावा, यह जाँचता है कि क्या इसका सामान्य नाम वेबसाइट के लिए मान्य है।

 

  • एक बार जब ब्राउज़र पुष्टि करता है कि वह वेबसाइट पर भरोसा कर सकता है, तो वह एन्क्रिप्टस बनाता हैं और सर्वर की public key का उपयोग करके एक symmetric session key वापस भेजता है।

 

  • अब, सर्वर अपनी private key का उपयोग करके symmetric session key को डिक्रिप्ट करता है।

 

  • बदले में, सर्वर एन्क्रिप्टेड सेशन शुरू करने के लिए session key के साथ एन्क्रिप्टेड एक acknowledgment भेजता है।

 

  • अब, सर्वर और ब्राउज़र के बीच ट्रांसमिट होने वाला सभी डेटा एन्क्रिप्ट किया गया है।

 

Who issues SSL Certificates?

SSL सर्टिफिकेट्स कौन जारी करता है?

SSL सर्टिफिकेट एक Certificate Authority (CA) द्वारा जारी किए जाते हैं, साथ में अन्य डिजिटल सर्टिफिकेट भी। वे सर्टिफिकेट के लिए आवेदन करने वाले बिज़नेस या कंपनी की पहचान और स्वामित्व की पुष्टि करते हैं। ये जारी किए गए सर्टिफिकेट आपके चुने हुए CA के स्वामित्व वाले एक विश्वसनीय रूट सर्टिफिकेट की जंजीर हैं। भरोसेमंद रूट सर्टिफिकेट्स फ़ायरफ़ॉक्स, क्रोम, इंटरनेट एक्सप्लोरर और सफारी जैसे लोकप्रिय वेब ब्राउज़रों में एक “सर्टिफिकेट्स स्टोर” में एम्बेडेड हैं।

जब भी आप किसी ऐसी वेबसाइट पर जाते हैं, जो SSL सर्टिफिकेट का उपयोग करती है, तो आपका ब्राउज़र यह जाँचता है कि उसके स्टोर में trusted roots में से एक द्वारा हस्ताक्षरित है। यदि ऐसा नहीं है, तो यह आपको चेतावनी देगा कि कनेक्शन सुरक्षित नहीं है। आपकी साइट पर आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को एक एरर मैसेज भी दिखाई देगा। यही कारण है कि हम केवल एक विश्वसनीय CA से SSL सर्टिफिकेट्स खरीदने की सलाह देते हैं।

 

How do I implement SSL on my site?

मैं अपनी साइट पर SSL कैसे लागू कर सकता हूं?

SSL को अपनी वेबसाइट पर सेट करना आसान है! सामान्य तौर पर, ये आपके नए SSL सर्टिफिकेट्स को इंस्‍टॉल करने के लिए 3 सरल स्‍टेप हैं।

1) एक विश्वसनीय CA द्वारा जारी सर्टिफिकेट खरीद

विश्वसनीय सर्टिफिकेट्स आपके वेब-होस्ट से खरीदे जा सकते हैं या अन्य विश्वसनीय CA से सीधे खरीदे जा सकते हैं। एक विश्वसनीय CA से सर्टिफिकेट्स आपके विजिटर्स (क्रोम, फ़ायरफ़ॉक्स, इंटरनेट एक्सप्लोरर, सफारी आदि) द्वारा उपयोग किए जाने वाले सभी लोकप्रिय इंटरनेट ब्राउज़रों द्वारा मान्यता प्राप्त होंगे।

 

2) सर्टिफिकेट को एक्टिवेट और इंस्‍टॉल करें

यदि आपने अपने वेब-होस्ट से अपना सर्टिफिकेट्स खरीदा है तो वे आपके लिए यह कदम उठा सकते हैं। यदि आप स्वयं साइट को मैनेज कर रहे हैं, तो आपको जिन दो स्‍टेप को पूरा करने की आवश्यकता है, उनमें से एक हैं एक certificate signing request (CSR) और उसके बाद अपना सर्टिफिकेट्स इंस्‍टॉल करें।

 

3) अपनी पूरी साइट को HTTPS में बदलें

अपने सर्टिफिकेट्स को अपने टार्गेट पेजेस पर इंस्‍टॉल करने के बाद, अपनी साइट को मॉडिफाइ करें ताकि सभी कंटेंट सुरक्षित रूप से सर्व हो सके? इंटरनेट तेजी से हर पेज के लिए एक डिफ़ॉल्ट HTTPS की ओर बढ़ रहा है, और यदि किसी वेबसाइट को HTTPS से अधिक सेवा दी जाती है, तो Google वेबसाइटों को बेहतर सर्च रैंकिंग भी दे रहा है।

 

Types of SSL in Hindi:

SSL के कौनसे प्रकार हैं?

दुनिया भर में वेबसाइटों की अलग-अलग मांगों के कारण, SSL सर्टिफिकेट्स विभिन्न प्रकारों की विविधता में हैं। मुख्य वेलिडेशन लेवल Extended Validation certificates (EV) और Domain Validated certificates (DV) हैं।

प्रत्येक प्रकार के यूजर विश्वास के अलग-अलग लेवल हैं। चलो यूजर के इन लेवल के बारे में बात करते हैं-

 

1) Extended Validation Certificates

EV सर्टिफिकेट्स ऑनलाइन बिज़नेसेस के लिए उच्चतम स्तर की सुरक्षा, विश्वास और कस्‍टमर कन्वर्शन प्रदान करते हैं। EV सर्टिफिकेट जारी करने के बाद ही कंपनी को Certificate Authority/Browser (CA/B) फोरम द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों के अनुसार कंपनी पर कठोर बैकग्राउंड चेक दिए जाते हैं। इस वजह से, EV सर्टिफिकेट में एक यूनिक विभेदक होता है जो स्पष्ट रूप से अपने विजिटर्स के लिए वेबसाइट की विश्वसनीयता को स्पष्ट करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

जब भी कोई EV सर्टिफिकेट का उपयोग करने वाली वेबसाइट पर जाता है, तो एड्रेस बार इंटरनेट एक्सप्लोरर, फ़ायरफ़ॉक्स और क्रोम जैसे प्रमुख ब्राउज़रों में ग्रीन हो जाएगा। EV सर्टिफिकेट सभी प्रमुख ऑनलाइन रिटेलर्स और बैंकों द्वारा उपयोग किए जाते हैं और उन बिज़नेसेस के लिए अत्यधिक रेकमेंडेड हैं जो तुरंत अपनी साइट में ग्राहक विश्वास का निर्माण करना चाहते हैं।

 

2) Domain Validated Certificates

DV सर्टिफिकेट्स EV और OV के समान उच्च डेटा एन्क्रिप्शन प्रदान करते हैं लेकिन वेबसाइट के पीछे बिज़नेस की पहचान के बारे में आश्वासन नहीं देते हैं। जबकि EV और OV सर्टिफिकेट, सर्टिफिकेट अथॉरिटी द्वारा मैन्युअल रूप से भली प्रकार जाँच करने के बाद ही एप्‍लीकेंट ऑर्गनाइज़ेशन को जारी किए जाते हैं, DV सर्टिफिकेट्स को एक आटोमेटिक, ऑनलाइन प्रक्रिया का उपयोग करके डोमेन कंट्रोल इंस्‍टॉल होने के बाद जारी किया जाता है। DV सर्टिफिकेट्स छोटे-मध्यम आकार की वेब साइटों के बीच एक लोकप्रिय विकल्प हैं, क्योंकि वे तेजी से जारी किए जाते हैं और लागत कम होती हैं।

 

SSL Hindi.

SSL in Hindi, SSL Full Form, What is SSL in Hindi, SSL Meaning in Hindi, Definition of SSL, SSL Kya Hai in Hindi, SSL Certificates in Hindi.

Summary
Reviewed Item
SSL in Hindi
Author Rating
51star1star1star1star1star