Software Hindi में: सॉफ्टवेयर क्या है?

2294
Software Hindi

Software in Hindi

What is Software in Hindi

सॉफ्टवेयर प्रोग्राम (प्रोग्राम्‍स) एक कंप्यूटर के लिए है जो ऑर्केस्ट्रा को चलाने वाले सिम्फनी के जैसा लिए है। वे कंप्यूटर को बताते हैं कि उसे सही तालमेल के लिए क्या और कैसे करना है। एक कंप्यूटर को विभिन्न प्रकार के सॉफ़्टवेयर की आवश्यकता होती है, जो विभिन्न प्रकार के कार्यों से लेकर हमें अभिवादन करने जैसे कार्यों तक ले जाता है जब हम जटिल गेमिंग सिस्टम को चलाने के लिए सिस्टम पर स्विच करते हैं जिसके लिए कुछ गंभीर प्रोग्रामिंग कौशल की आवश्यकता होती है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर व्यावसायिक लाभ में वृद्धि कर सकता है, जिसमें उत्पादकता में वृद्धि, निर्णय लेने, अधिक विश्वसनीय डेटा, बेहतर डेटा सुरक्षा, बेहतर विश्लेषण, बेहतर ग्राहक सेवा और बिक्री की क्षमता में वृद्धि शामिल है।

हम सभी पुराने कंप्यूटरों से एक लंबा सफर तय कर चुके हैं, जिसमें सिर्फ एक सॉफ्टवेयर था, जिसे फ्लॉपी डिस्क और सीडी रोम से अलग-अलग मशीनों में इंस्‍टॉल किया गया था। अब हमारे पास हर जरूरत और उद्देश्य के अनुरूप कई सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन हैं। जबकि यह अद्भुत है, यह हमारे सामने विकल्पों की एक सरणी भी रखता है। लेकिन आप सोच रहे होंगे कि वास्तव में सॉफ्टवेयर क्या हैं और कैसे काम करता हैं?

आइए हम सॉफ्टवेयर क्या है की परिभाषा को समझने के साथ शुरू करते हैं।

What is Software in Hindi

सॉफ्टवेयर क्या है? सॉफ्टवेयर, व्यापक शब्दों में, इंस्ट्रक्शन का एक सेट है (आमतौर पर इसे कोड के रूप में जाना जाता है), जो आपके और डिवाइस के हार्डवेयर के बीच होता है, जिससे आप इसका उपयोग कर सकें।

लेकिन कंप्यूटर सॉफ्टवेयर वास्तव में क्या है? आम आदमी के शब्दों में यह कंप्यूटर सिस्टम का एक अदृश्य घटक है जो आपके कंप्यूटर के फिजिकल कंपोनेंट्स के साथ इंटरैक्ट करना संभव बनाता है।

सॉफ्टवेयर, जो आपको स्मार्टफोन, टैबलेट, गेम बॉक्स, मीडिया प्लेयर और इसी तरह के अन्‍य डिवाइसों के साथ कम्‍यूनिकेशन करने की अनुमति देता है।

Meaning of Software in Hindi

सॉफ्टवेयर का अर्थ:

Compute Software, या सिर्फ Software, एक कंप्यूटर सिस्टम का एक हिस्सा है जिसमें डेटा या कंप्यूटर इंस्ट्रक्शन शामिल हैं, फिजिकल हार्डवेयर के विपरीत, जिनसे सिस्टम को बनाया गया है।

यह नोट करना महत्वपूर्ण है कि हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच एक अलग अंतर है। सॉफ्टवेयर एक छूए न जा सकने वाला रिसोर्स है। आप इसे अपने हाथों में ले नहीं सकते। लेकिन हार्डवेयर में माउस, कीबोर्ड, यूएसबी पोर्ट, सीपीयू, मेमोरी, प्रिंटर जैसे ठोस रिसोर्सेस होते हैं। हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर एक साथ काम करते हैं, ताकि सिस्‍टम फंक्‍शन कर सके।

History of Software in Hindi

History of Software in Hindi- सॉफ्टवेयर का इतिहास:

सॉफ्टवेयर के पहले भाग के लिए एक आउटलाइन (एल्गोरिदम) एंडा लवलेस द्वारा 19 वीं शताब्दी में लिखा गया था, जो कि एनालिटिकल इंजन के लिए था।

हालांकि, न ही एनालिटिकल इंजन और न ही कोई सॉफ्टवेयर इसके लिए कभी बनाया गया।

सॉफ़्टवेयर के बारे में पहला सिद्धांत – कंप्यूटर के निर्माण से पहले, जैसा कि आज हम जानते हैं – एलन ट्यूरिंग ने अपने 1953 के निबंध में गणना के लिए समेकित संख्याएं Entscheidungsproblem (डिसिजन प्रॉब्‍लम) के लिए ऐप्‍लीकेशन के साथ प्रस्तावित कीया था।

इसके बाद से कंप्यूटर साइंस और सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के फिल्‍ड का सृजन हुआ। कंप्यूटर साइंस अधिक सैद्धांतिक है (ट्यूरिंग कंप्यूटर विज्ञान का निबंध एक उदाहरण है), जहां सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग अधिक प्रैक्टिकल कारोबार पर केंद्रित है।

हालांकि, 1946 से पहले, सॉफ़्टवेयर के रूप में जैसा अब हम इसे समझते हैं- डिजिटल कंप्यूटर की मेमोरी से स्‍टोर प्रोग्राम -अभी तक मौजूद नहीं थे। पहले इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटिंग डिवाइसों को इसके बजाय “रिप्रोग्राम” करने के लिए रीवायर करना होता था।

Types of Software in Hindi

Types of Software in Hindi- सॉफ़्टवेयर के प्रकार:

जबकि सभी सॉफ़्टवेयर, सॉफ्टवेयर होते है, लेकिन आमतौर आप हर दिन उपयोग कर रहे सॉफ़्टवेयर दो तरह के होते है: एक system software है और दूसरा application software के रूप में।

1) Systems Software

सिस्टम सॉफ्टवेयर में ऐसे प्रोग्राम शामिल हैं, जो कंप्यूटर को खुद को मैनेज करने के लिए समर्पित हैं, जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम, फ़ाइल मैनेजमेंट युटिलिटीज, और Disk Operating System (या DOS)।

DOS Full Form:इतिहास, विवरण, कमांड, क्लोन, भविष्य के दृष्टिकोण

ऑपरेटिंग सिस्टम ऐप्‍लीकेशन डेटा को मैनेज करने के अलावा कंप्यूटर हार्डवेयर रिसोर्सेस को भी मैनेज करते है। हमारे कंप्यूटरों में इंस्‍टॉल सिस्टम सॉफ़्टवेयर के बिना हमें हर चीज के लिए इंस्‍ट्रक्‍शन टाइप करने होंगे जो हम कंप्यूटर से करवाना चाहते हैं!

इस सॉफ़्टवेयर के बिना आप अपने कंप्यूटर को स्‍टार्ट नहीं कर पाएंगे, विंडोज में नहीं आ सकते हैं, और डेस्कटॉप भी एक्सेस नहीं कर सकते।

आईफ़ोन और एंड्रॉइड डिवाइस सहित सभी स्मार्ट डिवाइस में सिस्टम सॉफ़्टवेयर होते हैं।

Types of Systems Software

सिस्टम सॉफ्टवेयर के प्रकार:

1) Operating system (OS):

यह एक सिस्टम सॉफ्टवेयर कर्नेल है जिसे कंप्यूटर पर सबसे पहले इंस्टाल किया जाता है ताकि एप्लिकेशन और डिवाइस को पहचाना जा सके और कार्य किया जा सके। सॉफ्टवेयर की पहली लेयर होने के नाते, इसे हर बार एक कंप्यूटर द्वारा संचालित होने पर मेमोरी में लोड किया जाता है। कुछ प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम वास्तविक समय के ओएस, सिंगल-यूजर और सिंगल-टास्‍क ओएस, नेटवर्क ओएस और मोबाइल ओएस हैं।

२) Device drivers:

ये कंप्यूटर डिवाइसेस और एक्‍सर्टनल डिवाइसेस को जीवन में लाते हैं। डिवाइस ड्राइवर कंपोनेंट और एक्‍सर्टनल ऐड-ऑन को जोड़ते हैं ताकि वे अपने इच्छित कार्यों को कर सकें। ड्राइवर्स के बिना, ऑपरेटिंग सिस्टम किसी भी कर्तव्य को निर्दिष्ट नहीं करेगा। माउस, कीबोर्ड, स्पीकर, और प्रिंटर डिवाइस के कुछ उदाहरण हैं, जिन्हें कार्य करने के लिए ड्राइवरों की आवश्यकता होती है।

What are Device Drivers in Hindi? आप सभी को डिवाइस ड्राइवरों के बारे में क्‍या पता होना चाहिएं?

3) Firmware:

यह ऑपरेटिंग सिस्टम के पहचान के लिए एक ROM, फ्लैश, या EPROM मेमोरी चिप के भीतर एम्बेडेड ऑपरेशनल सॉफ्टवेयर है। यह सीधे सिंगल हार्डवेयर की सभी गतिविधियों का प्रबंधन और नियंत्रण करता है। सेमीकंडक्टर चिप्स को स्वैप किए बिना फर्मवेयर को आसानी से अपग्रेड किया जा सकता है।

Firmware in Hindi: फर्मवेयर क्या है और सॉफ़्टवेयर से यह अलग कैसे है?

4) Programming language translators:

ये इंटरमीडिएट प्रोग्राम हैं जिनका उपयोग हाई लेवल लैंग्‍वेज सोर्स कोड को मशीन लैंग्‍वेज कोड में ट्रांसलेट करने के लिए किया जाता है। लोकप्रिय लैंग्‍वेज ट्रांसलेटर्स में assemblers, compilers, और interpreters शामिल हैं। उनका उपयोग प्रोग्राम कोड का पूरा अनुवाद करने के लिए किया जा सकता है या वे एक बार में प्रत्येक निर्देश का अनुवाद कर सकते हैं।

5) Utilities:

यह कंप्यूटर के लिए डायग्नोस्टिक ​​और मेंटेनेंस टास्‍क के लिए अभिप्रेत है। उनके कार्य महत्वपूर्ण डेटा सुरक्षा से लेकर डिस्क ड्राइव डीफ़्रैग्मेन्टेशन तक हो सकते हैं।

System Software in Hindi: सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या हैं? वे कितने प्रकार के हैं?

2) Applications Software

Applications Software या सिर्फ एप्लिकेशन, इन्हें अक्सर प्रोडक्टिविटी प्रोग्राम या एंड-यूज़र प्रोग्राम कहा जाता है। क्योंकि वे यूजर्स को टास्‍क पूरा करने में सक्षम बनाते है, जैसे डयॉक्‍यूमेंटस्, स्प्रैडशीट, डाटाबेस और पब्‍लीकेशन, ऑनलाइन रिसर्च, ईमेल भेजने, ग्राफिक्स डिजाइन करने, व्यवसाय चलाने, और यहां तक ​​कि गेम खेलना आदि!

एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर विशेष टास्‍क्‍ के लिए स्पेसिफिक होते है और उन्‍हे विशिष्‍ट टास्‍क के लिए डिज़ाइन किया गया जाता है।

यह एक कैलकुलेटर एप्लिकेशन के रूप में सरल या एक वर्ड प्रोसेसिंग ऐप्‍लीकेशन के रूप में कॉम्प्लेक्स हो सकता है। जब आप कोई डयॉक्‍यूमेंट बनाना शुरू करते हैं, तो वर्ड प्रोसेसर सॉफ्टवेयर को पहले ही मार्जिन, फ़ॉन्ट स्‍टाइल और साइज के लिए सेट कर दिया है। आप इन सेटिंग्‍स को बदल सकते हैं, और आपके लिए इसमें कई फॉर्मेंटिंग ऑप्‍शन भी उपलब्‍ध होते हैं।

उदाहरण के लिए, वर्ड प्रोसेसर एप्लिकेशन आपके कलर, हेंडिंग्‍स और पिक्‍चर को एड करना आसान बनाता है या कॉपी, मूव और अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप डयॉक्‍यूमेंट के अपीयरेंस को बदल सकते हैं।

कुछ सामान्य प्रकार के एप्‍लीकेशन सॉफ़्टवेयर में शामिल हैं:

1) Productivity Software:

प्रोडक्टिविटी सॉफ्टवेयर, जिसमें अधिकांश कंप्यूटर यूजर्स द्वारा उपयोग किए जाने वाले वर्ड प्रोसेसर, स्प्रेडशीट और टूल शामिल हैं।

2) Presentation software:

ग्राफिक डिजाइनर के लिए ग्राफिक्स सॉफ्टवेयर।

3) CAD/CAM software:

विशिष्ट साइंटिफिक ऐप्‍लीकेशन।

4) Vertical Market या Industry-Specific Software:

इनमें बैंकिंग, इन्शुरन्स, रिटेल, मैन्युफैक्चरिंग जैसे विशिष्ट सॉफ्टवेयर आते हैं।

5) Security Software:

कंप्यूटर सिस्टम के लिए Anti-Virus Software और Firewall जैसे सेक्‍युरिटी सॉफ्टवेयर।

How To Get Software?

सॉफ्टवेयर कैसे प्राप्त करें?

ऑपरेटिंग सिस्टम में कुछ सॉफ्टवेयर पहले से ही इंस्टॉल किए होते हैं। उदाहरण के लिए, विंडोज में वेब ब्राउज़र है, वर्डपैड और पेंट जैसे ऐप्‍लीकेशन। Android में फ़ोटो, वेदर, कैलेंडर और क्‍लॉक डिफ़ॉल्ट रूप से होते हैं।

यदि आपको इसके अलावा अन्‍य सॉफ़्टवेयर चाहिए हो, तो आप इंटरनेट से फ्री या पेड प्रोग्राम डाउनलोड कर सकते हैं या वेंडर से सी‍डी या डिविडी खरीद सकते हैं।

सॉफ़्टवेयर shareware के रूप में खरीदा या प्राप्‍त किया जा सकता है (ट्राइल पिरियड के बाद बेचा गया सॉफ़्टवेयर), liteware (कुछ कैपेबिलिटीज को डिसेबल किए गए शेयरवेयर), freeware (बिना किसी प्रतिबंध के मुक्त सॉफ्टवेयर), पब्‍लीक डोमेन सॉफ्टवेयर (बिना प्रतिबंध के मुक्त) और ओपन सोर्स, जिनके कोड को यूजर बदल सकते हैं।

विंडोज के लिए 10 सबसे सुरक्षित मुफ्त सॉफ्टवेयर डाउनलोड साइटस्

Types of Software License in Hindi

License of Software in Hindi- सॉफ़्टवेयर लाइसेंस के प्रकार:

सॉफ्टवेयर का लाइसेंस यूजर को लाइसेंस प्राप्त एनवायरनमेंट में सॉफ़्टवेयर का उपयोग करने का अधिकार देता है।

सॉफ्टवेयर लाइसेंस एक कानूनी रूप से एंग्रीमेंट है जो एक एप्‍लीकेशन के लिए उपयोग की शर्तों को निर्दिष्ट करता है और सॉफ्टवेयर मैन्युफैक्चरर और एंड-यूजर के अधिकारों को परिभाषित करता है।

मैन्युफैक्चरर द्वारा फ़िल्टर किए गए डिफ़ॉल्ट लाइसेंस टाइप की लिस्‍ट इस प्रकार है-

1) Freeware:

जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, फ्रीवेयर एक ऐसा सॉफ़्टवेयर है जो डाउनलोड करने और उपयोग करने के लिए फ्री है।

फ़्रीवेयर का डिस्ट्रीब्यूशन किसी भी कॉपीराइट द्वारा रिस्ट्रिक्टेड नहीं है। आप इसे डाउनलोड कर सकते हैं और पेमेंट किए बिना इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। लिमिटेड टाइम के बाद फ़्रीवेयर एक्‍सपायर नहीं होते।

2) GNU – General Public License:

यह एक विशिष्ट प्रकार का लाइसेंस है जो कि नि:शुल्क या नि:शुल्क नहीं हो सकते है, लेकिन यूजर्स सॉफ्टवेयर को उनकी इच्छा के अनुसार मॉडिफाइ कर सकते हैं।

2) Shareware:

Shareware एक कॉपीराइट सॉफ्टवेयर है जो डाउनलोड करने के लिए फ्री है, लेकिन इसका उपयोग किसी तरह से लिमिटेड होता है।

Shareware सीमित अवधि के बाद एक्‍सपायर हो सकते है, उसके बाद आपको सॉफ़्टवेयर का उपयोग करने के लिए फिर से पेमेंट करना पड़ सकता है।

अन्य मामलों में, कोई समय सीमा नहीं हो सकती है, लेकिन जब तक आप कोई पेमेंट नहीं देते तब तक आप सॉफ्टवेयर के सभी फीचर्स को एक्‍सेस नहीं कर सकते हैं।

3) Limited License:

लिमिटेड लाइसेंस सॉफ्टवेयर केवल नॉन- कमर्शियल उद्देश्यों के लिए उपयोग करने के लिए होते है। इस सॉफ्टवेयर का उपयोग करने के लिए कस्‍टमर्स को कंप्यूटरों की संख्या पर प्रतिबंधित किया जाता है।

4) Unlimited Site License:

इस लाइसेंस टाइप में इस बात पर कोई प्रतिबंध नहीं होता कि आप कितने कंप्‍यूटर पर इस सॉफ्टवेयर को इस्‍टॉल कर रहे हैं।

इस तरह के सॉफ्टवेयर एजूकेशन इंस्टीटूशन्स में लोकप्रिय है ताकि वे इसे अपने फैकल्टी और स्टाफ को प्रोवाइड कर सके।

लेकिन इस प्रकार के अनलिमिटेड साइट लाइसेंस केवल एक ही फिजिकल लोकेशन, जैसे एक कॉलेज कैम्‍पस या ऑफिस में सॉफ़्टवेयर के उपयोग की अनुमति देता है।

5) Enterprise Site License:

एक एंटरप्राइज लाइसेंस अनलिमिटेड साइट लाइसेंस की तरह है लेकिन यह केवल एक फिजिकल लोकेशन तक सीमित नहीं है।

एक कंपनी जिसकी विभिन्न लोकशन पर ऑफिसेस हैं, को अपने सभी ऑफिसेस में सॉफ्टवेयर इंस्‍टॉल करने की अनुमति देते है।

कस्‍टमर्स को ऐसे कंप्यूटरों की संख्या लिमिटेड कि जा सकती है, जिनपर इस सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जा सकता है, जैसे कि 50 या 100 कंप्यूटर।

6) Volume Purchase Agreement:

वॉल्यूम परचेस एग्रीमेंट, आर्गेनाइजेशन के लिए कम कीमत पर बड़ी संख्‍या में कॉपीराइट सॉफ्टवेयर खरीदना संभव बनाता है।

कस्‍टमर्स आमतौर पर एक डीवीडी या सीडी से कई कंप्यूटरों पर इस सॉफ़्टवेयर को इंस्‍टॉल कर सकते है, और आमतौर पर इन सभी के लिए एक ही प्रॉडक्‍ट कि‍ज होती हैं, जिनसे वे एक्टिवेट होते हैं।

7) Single License:

इस प्रकार के लाइसेंस आपको केवल एक कंप्यूटर पर सॉफ़्टवेयर को इंस्‍टॉल करने कि अनुमति देता है। यदि आपको अतिरिक्त कंप्यूटरों पर सॉफ़्टवेयर इंस्‍टॉल करना है, तो आपको प्रत्येक कंप्यूटर के लिए एक अलग लाइसेंस खरीदना होगा।

जब आप ब्रैंडेड लैपटॉप या कंप्‍यूटर खरदीते हैं और उसके साथ यदि माइक्रोसॉफ्ट विंडोज का लाइसेंस मिला हैं, तो वह सिंगल लाइसेंस (OEM) हैं।

8) Client Access License (CAL):

क्लाइंट एक्सेस लायसेंस (CAL) लाइसेंस टाइप में यूजर्स को सर्वर का एक्‍सेस करने का राइट दिया जाता हैं।

जितने क्लाइंट एक्सेस लायसेंस आप लेंगे, उतने ही क्लाइंट सर्वर से कनेक्‍ट हो सकते हैं।

9) Node Locked:

यह लाइसेंस टाइप विशिष्‍ट कॉन्फ़िगरेशंस के वर्कस्‍टेशन के लिए होते हैं और वे उन्‍ही पर रन होते हैं।

10) Open Source Software:

ओपन सोर्स सॉफ़्टवेयर, मुफ्त सॉफ्टवेयर लाइसेंस के साथ आते है, जो यूजर्स को सॉफ्टवेयर को मॉडिफाइ करने और रिडिस्ट्रीब्यूट का अधिकार प्रदान करता है।

Enterprise Software in Hindi

Enterprise Software in Hindi- एंटरप्राइज़ सॉफ़्टवेयर, जिन्‍हे Enterprise Application Software (EAS) के रूप में भी जाना जाता है, यूजर्स की बजाय आर्गेनाइजेशन की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उपयोग किया जाने वाला कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर है।

आज, उपयोग हो रहे यह एंटरप्राइज़ ऐप्‍लीकेशन के कई उदाहरण हैं-

1) Artificial intelligence:

Artificial Intelligence (AI) का विकास कुछ सालों पहले एक मुश्किल संभावना लगता था। लेकिन यह वास्तव में, तेजी से डेवलप हो रही टेक्नोलॉजी हैं, जो व्यवसायों के लिए अवसरों प्रस्तुत करती है जो अपने कर्मचारियों को बढावा देने और यूजर्स के एक्सपीरियंस को बदलते हैं।

यह इतना लोकप्रिय हो रहा है कि अनुमान है कि 2020 तक AI हर सॉफ्टवेयर प्रॉडक्‍ट में होगा।

2) Machine learning:

मशीन लर्निंग सबसे आधुनिक सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी में से एक है जिसे इंटरप्राइजेस गले लगा रहे हैं। यह आटोमेशन की दुनिया से आता है और आर्गेनाइजेशन को इंटरनल ऑपरेशन बढ़ाने और नए कस्‍टमर एक्‍सपिरियंस प्रदान करने में मदद करता है।

3) Customer Relationship Management (CRM):

CRM सॉफ्टवेयर का उपयोग बिक्री और सेवा से संबंधित दोनों प्रश्नों में ग्राहकों के साथ एंटरप्राइज एंगेजमेंट में किया जाता है।

यह Business-To-Customer (B2C) और Business-To-Business (B2B) इंटरैक्‍शन पर अप्‍लाई होता हैं।

यह कॉन्‍ट्रैक्‍ट, कस्‍टमर्स, क्‍लाइंट, सेल्‍स, लीड्स और अधिक कि इनफॉर्मेशन को ट्रैक करता है।

यह आर्गेनाइजेशन को रिलेवंट डेटा प्रदान करने में मदद करता हैं, जिससे कस्‍टमर्स जो चाहते हैं वह सर्विस या प्रॉडक्‍ट कि पहचान करनें में सेल्‍स टिम को मदद होती हैं।

इससे वे कस्‍टमर्स को बेहतर सर्विस दे सकते हैं, सेल्‍स टिम को क्रॉस-सेल और अप-सेल के लिए मदद करने, कस्‍टमर्स की आवश्यकताओं को एफ्फेक्टिवली और बेहतर तरीके से समझने के लिए मदद करता हैं।

4) Enterprise Resource Planning (ERP):

ERP एक Business Process Management (BPM) सॉफ्टवेयर है, जो एक आर्गेनाइजेशन को बिजनेस को मैनेज करने और टेक्नोलॉजी, सर्विस और हयुमन रिसोर्सेस संबंधित इंटिग्रेडेड एप्‍लीकेशन का इस्‍तेमाल करने की अनुमति देता है।

ERP सॉफ्टवेयर महत्वपूर्ण बैकएंड प्रोसेसेस को हैंडल करता है; पर्चेस हिस्‍ट्री, बिलिंग और शिपिंग डिटेल्‍स, अकाउंटिंग इनफॉर्मेशपन, फाइनेंशियल डेटा, और सप्‍लाइ चेन मैनेजमेंट डिटेल्‍स। यह एक ही डेटाबेस, एप्‍लीकेशन और यूजर इंटरफेस में आर्गेनाइजेशन से सभी ऑपरेशन को इंटिग्रेट करता हैं।

5) Human Capital Management (HCM):

Human Resource Management System (HRMS) और HR सिस्‍टम को एम्प्लॉइ रिकॉर्ड और टैलेंट मैनेजमेंट सिस्‍टम को इंटिग्रेट कर हयुमन रिसोर्सेस को डिस्‍प्‍ले करने के लिए इस्‍तेमाल किया जाता हैं।

यह एम्प्लॉइ डेटा को ट्रैक रखने के लिए यह आवश्यक है, और यह आम बात है कि वर्तमान में ज्यादातर कंपनियों के पास एक प्रमुख हयुमन कैपिटल मैनेजमेंट सिस्‍टम है जो payroll, compliance और admin जैसे क्षेत्रों के आसपास केंद्रित है।

6) Business Intelligence Software:

Business intelligence software का प्राथमिक लक्ष्य ऑर्गनाइज़ेशन के रॉ डेटा से महत्वपूर्ण डेटा निकालना होता हैं, ताकि बिजनेस को फास्‍ट और अधिक सटीक निर्णय लेने में सहायता मिल सके।

यह एक ऐसा ऐप्‍लीकेशन है जिसे बिजनेस इं‍टलिजंस के लिए रिट्रिव, ऐनलाइज़, ट्रांसफॉर्म और डेटा रिपोर्ट करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

7) Enterprise Information Management (EIM):

EIM इनफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी के भीतर एक विशेष फिल्‍ड है। यह ऑर्गनाइज़ेशन के अंदर इनफॉर्मेशन के सर्वोत्कृष्ट उपयोग का समाधान खोजने में माहिर है।

उदाहरण के लिए, निर्णय लेने की प्रोसेस या दिन-प्रति-दिन के टास्‍क्‍ को सपोर्ट देने के लिए उन्‍हे नॉलेज के उपलब्धता की आवश्यकता होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.