RAM Hindi में? एक अल्टिमेट गाइड़ रैम के बारे में सब कुछ जानने के लिए

3435
RAM Hindi

RAM Full Form – RAM in Hindi

पीसी से लेकर स्मार्टफोन से लेकर गेम कंसोल तक, सभी डिवाइसेस में रैंडम-एक्सेस मेमोरी या रैम एक आवश्यक घटक है। RAM के बिना, किसी भी सिस्टम पर लगभग कुछ भी करना बहुत, बहुत धीमा होगा। दूसरी तरफ, आपके द्वारा चलाए जा रहे एप्लिकेशन या गेम के लिए पर्याप्त नहीं होने से चीजें क्रॉल में आ सकती हैं या यहां तक कि उन्हें चलने से भी रोक सकती हैं।

लेकिन वास्तव में RAM क्या है? संक्षेप में, यह एक उच्च गति वाला घटक है जो अस्थायी रूप से उन सभी सूचनाओं को संग्रहीत करता है जिनकी डिवाइस को अभी और तुरंत दोनों की आवश्यकता होती है। रैम में डेटा एक्सेस करना बहुत तेज़ है, हार्ड ड्राइव के विपरीत जो धीमी होती है लेकिन लंबी अवधि के स्टोरेज प्रदान करती है।

यदि यह सब शब्दार्थ है और आपको यह जानने की आवश्यकता है कि कुछ RAM कैसे इंस्‍टॉल करें या यह पता लगाना चाहते हैं कि आपको कितनी RAM की आवश्यकता है, तो यहां ऐसे सारे सवालों के जवाब दिए गए हैं।

- Advertisement -

RAM Full Form

Full Form of RAM is – Random Access Memory

RAM Full Form in Hindi

RAM ka Full Form – रैम  फूल फॉर्म –  रैंडम एक्‍सेस मेमोरी (Random Access Memory) हैं

What is RAM in Hindi?

Random Access Memory, या RAM, कंप्यूटर के मदरबोर्ड पर स्थित एक फिजिकल हार्डवेयर है जो टेम्‍पररी डेटा स्‍टोर करता है और कंप्यूटर की “वर्किंग” मेमोरी के रूप में सेवा करता है।

RAM आमतौर पर मदरबोर्ड पर होती है।

रैम अनिवार्य रूप से एक डिवाइस की शॉर्ट-टर्म मेमोरी है। यह अस्थायी रूप से डिवाइस पर चल रही सभी चीज़ों को अस्थायी रूप से संग्रहीत (याद रखता है), जैसे सभी OS-विशिष्ट सेवाएँ और कोई भी वेब ब्राउज़र, इमेज एडिटर, या आपके द्वारा चलाए जा रहे गेम।

रैंडम एक्सेस मेमोरी (RAM) आपके कंप्यूटर को सीपीयू (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) द्वारा एक्सेस किए जाने वाले डेटा को पढ़ने और लिखने के लिए जगह प्रदान करती है। जब लोग कंप्यूटर की मेमोरी का उल्लेख करते हैं, तो उनका मतलब आमतौर पर इसकी रैम से होता है।

यदि आप अपने कंप्यूटर में अधिक RAM जोड़ते हैं, तो आप अपने CPU द्वारा आपकी हार्ड डिस्क से डेटा पढ़ने की संख्या को कम कर देते हैं। यह आमतौर पर आपके कंप्यूटर को काफी तेजी से काम करने की अनुमति देता है, क्योंकि रैम हार्ड डिस्क की तुलना में कई गुना तेज होती है।

RAM अस्थिर (volatile) है, इसलिए RAM में संग्रहीत डेटा केवल तब तक रहता है जब तक आपका कंप्यूटर चल रहा हो। जैसे ही आप कंप्यूटर को बंद करते हैं, रैम में स्टोर डेटा गायब हो जाता है।

जब आप अपने कंप्यूटर को फिर से चालू करते हैं, तो आपके कंप्यूटर का बूट फर्मवेयर (पीसी पर BIOS कहा जाता है) आपके ऑपरेटिंग सिस्टम और डिस्क से संबंधित फाइलों को पढ़ने और उन्हें वापस रैम में लोड करने के लिए ROM चिप्स में अर्ध-स्थायी रूप से संग्रहीत निर्देशों का उपयोग करता है।

रैम का मतलब क्या है?

RAM Meaning in Hindi

RAM- Random Access Memory

RAM को Main Memory, Internal Memory, Primary Storage, Primary Memory के रूप में भी जाना जाता है।

रैम क्या है?

RAM Kya Hai in Hindi

RAM डेटा को रैंडम ऑर्डर में एक्‍सेस कर सकता है, जिससे किसी विशेष इनफॉर्मेशन के पार्ट को खोजना इसके लिए बहुत फास्‍ट बन जाता है।

जबकि स्‍टोरेज के अन्य टाइप में डेटा का रैंडम-एक्‍सेस नहीं होता। उदाहरण के लिए, एक हार्ड डिस्क ड्राइव और सीडी में डेटा को एक पूर्व निर्धारित क्रम में रिड और राइट किया जाता हैं। इन डिवाइसों के मैकेनिकल डिज़ाइन निर्धारित करते हैं कि डेटा एक्सेस सलग है। इसका मतलब यह है कि विशिष्ट जानकारी प्राप्त करने के लिए जो समय लगता है, वह इस बात पर निर्भर करता है कि यह डिस्क पर कहाँ स्थित है।

RAM को कंप्‍यूटर सिस्‍टम में मुख्य मेमोरी के रूप में उपयोग किया जाता है। RAM को volatile memory माना जाता है, जिसका अर्थ है कि कंप्यूटर बंद होने पर RAM में स्‍टोर सभी इनफॉर्मेशन नष्ट हो जाती है। इसलिए, RAM का उपयोग सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (सीपीयू) द्वारा किया जाता है। जब कोई कंप्यूटर इनफॉर्मेशन स्‍टोर करने के लिए रन होता है, जिसे इसे बहुत तेज़ी से इस्तेमाल करने की आवश्यकता है, लेकिन यह किसी भी इनफॉर्मेशन को स्थायी रूप से स्‍टोर नहीं करता।

वर्तमान-दिन के रैम, डिवाइस इनफॉर्मेशन स्‍टोर करने के लिए इंटीग्रेटेड सर्किट का उपयोग करते हैं। यह स्‍टोरेज का एक अपेक्षाकृत महंगा प्रकार है और स्‍टोरेज की लागत प्रति यूनिट हार्ड ड्राइव जैसे डिवाइसेस की तुलना में काफी अधिक है।

हालांकि, रैम के डेटा एक्‍सेस करने का समय इतना फास्‍ट है कि इसके कारण रैम के लागत में बढ़ोतरी हुई है। इसलिए, कंप्यूटर, फास्ट-एक्सेस, इनफॉर्मेशन का टेम्‍पररी स्‍टोरेज और हार्ड डिस्क ड्राइव की तरह परमानेंट स्‍टोरेज के लिए एक निश्चित मात्रा में रैम का उपयोग करता है।

रैम के कुछ लोकप्रिय टाइप में Kingston, Transcend, Hynix, Samsung, Lenovo, HP आदि शामिल हैं।

रैम क्या करता है?

RAM वह सभी डेटा रखता है जिसके साथ आप सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं, और आप इस डेटा को किसी भी क्रम में एक्सेस कर सकते हैं – यह रैंडम एक्सेस है न कि अनुक्रमिक एक्सेस। RAM सीधे आपके कंप्यूटर के मदरबोर्ड से जुड़ा होता है, जिससे सबसे तेज़ गति संभव हो पाती है। आपके पास जितनी अधिक RAM होगी, आपका कंप्यूटर उतना ही बेहतर प्रदर्शन करेगा।

जब भी आप अपने कंप्यूटर पर कुछ भी करते हैं तो सैकड़ों प्रक्रियाएं निष्पादित होती हैं – एक वाक्य टाइप करें, एक फ़ाइल सेव करें, एक टैब ओपन करें, एक वीडियो गेम में कूदें – यही रैम का काम है। हार्ड डिस्‍क के विपरीत, रैंडम एक्सेस मेमोरी को एक बार में केवल छोटे डेटा के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

रैम क्यों जरूरी है?

Why RAM is necessary?

रैम की इंटरकनेक्टेडनेस इसे जितनी जल्दी हो सके डेटा को संभालने देती है। “रैंडम एक्सेस” का मतलब है कि आप रैम में किसी भी स्थान पर उतनी ही जल्दी पहुँच सकते हैं जितनी जल्दी आप किसी अन्य स्थान पर पहुँच सकते हैं। रैम प्रोसेसर के शीर्ष पर बैठता है, यही वजह है कि आपका प्रोसेसर कार्यों को तुरंत कर सकता है।

RAM वह है जिसका उपयोग आप अपने कंप्यूटर पर कुछ भी करने के लिए करते हैं। ठीक है, आप अपनी हार्ड ड्राइव की सामग्री के माध्यम से ब्राउज़ कर सकते हैं और फ़ोल्डर्स और फाइलों के माध्यम से देख सकते हैं, लेकिन इनमें से किसी भी फाइल को ओपन करने का अर्थ है एक कॉपी को बाहर निकालना और उसे रैम पर रखना। डेटा को केवल नैनोसेकंड में पढ़ा और लिखा जा सकता है।

जब आप किसी माइक्रोसॉफ्ट वर्ड फ़ाइल को एडिट करते हैं, तो आप सोच सकते हैं कि आप अपनी हार्ड ड्राइव के फ़ोल्डरों के अंदर गहराई से काम कर रहे हैं। लेकिन जहां तक ​​कंप्यूटिंग का सवाल है, हार्ड ड्राइव आपके वर्कस्टेशन से काफी दूर है।

उदाहरण के लिए – आप किसी व्यक्ति को फोन पर आपको एक पैराग्राफ पढ़ने के लिए कह सकते हैं, यह हार्ड ड्राइव से पूछना जैसा है – लेकिन आप उसी पैराग्राफ को अपनी आँखों से अधिक तेज़ी से और आसानी से पढ़ सकते हैं। RAM आपके लिए आवश्यक जानकारी को आपके प्रोसेसर के ठीक सामने रखता है।

क्या आपने कभी एक साथ इतने सारे प्रोग्राम ओपन किए हैं कि आपके कंप्यूटर की क्रॉल करने की गति धीमा हो गई हैं? इस तरह से कंप्यूटर हर समय प्रदर्शन करेंगे यदि उन्हें पूरी तरह से अपनी हार्ड ड्राइव पर निर्भर रहना पड़े, क्योंकि मेमोरी के अतिभारित होने पर वे ठीक यही कर रहे हैं।

क्या होगा यदि आपने अपने कंप्यूटर को बिना RAM के बूट करने का प्रयास किया? लगभग कोई भी कंप्यूटर आपको एक एरर मैसेज देगा, क्योंकि इसे चलाने का कोई मतलब नहीं होगा।

रैम का उपयोग किस लिए किया जाता है?

Uses of RAM in Hindi

RAM आपके कंप्यूटर को उसके कई दैनिक कार्य करने देता है, जैसे एप्लिकेशन लोड करना, इंटरनेट ब्राउज़ करना, स्प्रेडशीट एडिट करना, या लेटेस्‍ट गेम का अनुभव करना। मेमोरी आपको इन कार्यों के बीच जल्दी से स्विच करने की अनुमति देती है, यह याद करते हुए कि जब आप किसी अन्य कार्य पर स्विच करते हैं तो आप एक कार्य में कहाँ होते हैं। एक नियम के रूप में, आपके पास जितनी अधिक मेमोरी होगी, उतना ही बेहतर होगा।

जब आप अपना कंप्यूटर चालू करते हैं और एडिट करने के लिए एक स्प्रेडशीट ओपन करते हैं, लेकिन पहले अपना ईमेल चेक करने जाते हैं, तो आपने कई अलग-अलग तरीकों से मेमोरी का उपयोग किया होगा।

मेमोरी का उपयोग एप्लिकेशन को लोड करने और चलाने के लिए किया जाता है, जैसे कि आपका स्प्रैडशीट प्रोग्राम, कमांड का जवाब देना, जैसे कि आपके द्वारा स्प्रैडशीट में किए गए कोई भी एडिटिंग, या कई प्रोग्रामों के बीच टॉगल करना, जैसे कि जब आपने ईमेल को चेक करने के लिए स्प्रैडशीट छोड़ा था। मेमोरी लगभग हमेशा आपके कंप्यूटर द्वारा सक्रिय रूप से उपयोग की जा रही है।

एक तरह से मेमोरी आपके डेस्क की तरह होती है। यह आपको विभिन्न परियोजनाओं पर काम करने की अनुमति देता है, और आपका डेस्क जितना बड़ा होगा, उतने ही अधिक पेपर, फोल्डर और कार्य जो आप एक समय में कर सकते हैं। आप फाइलिंग कैबिनेट (आपकी स्टोरेज ड्राइव) में जाए बिना जानकारी को जल्दी और आसानी से एक्सेस कर सकते हैं। जब आप एक परियोजना को पूरा कर लेते हैं, या दिन के लिए बाहर निकलते हैं, तो आप कुछ या सभी परियोजनाओं को सुरक्षित रखने के लिए फाइलिंग कैबिनेट में रख सकते हैं। आपकी स्टोरेज ड्राइव (हार्ड ड्राइव या सॉलिड स्टेट ड्राइव) फाइलिंग कैबिनेट है जो आपकी परियोजनाओं को ट्रैक करने के लिए आपके डेस्क के साथ काम करती है।

यदि आपका सिस्टम धीमा या अन-रेस्पॉन्सिव है, तो मेमोरी अपग्रेड परफॉर्मेंस को बेहतर बनाने के सबसे आसान और सबसे अधिक लागत प्रभावी तरीकों में से एक है।

मोबाइल की रैम क्या हैं? आपको कितने रैम की जरूरत हैं?

आपके कंप्यूटर को जल्दी से डेटा का उपयोग करने के लिए रैम की आवश्यकता है

आसान भाषा में समझने के लिए, रैम का उद्देश्य एक स्टोरेज डिवाइस पर क्विकली रिड और राइट एक्‍सेस प्रदान करना है। आपका कंप्यूटर, डेटा लोड करने के लिए रैम का उपयोग करता है क्योंकि यह एक हार्ड ड्राइव से सीधे उसी डेटा को रन करने में बहुत फास्‍ट है।

इसे एक उदाहरण से समझते हैं, आप अपने ऑफिस के डेस्क पर बैठे हैं और आपके डेस्‍क पर डयॉक्‍युमेंटस्, पेन, कैल्‍युलेटर और अन्‍य सामान रखा हैं ताकि आप उन्‍हे जल्‍दी से हासील कर सकें।

यदि आप इन सामान को अपने डेस्‍क पर न रखकर हर एक चीज़ को अपनी जगह पर रखेंगे जैसे फाइलों को कैबिनेट में, लिखने के सामान को ड्रॉवर में, तो आपको इन्हें एक्‍सेस करने के लिए ज्‍यादा समय लगेगा।

जिसका मतलब है कि आपके रोजमर्रा के कार्यों को पूरा करने में अधिक समय लगेगा, क्योंकि आपको लगातार इन स्टोरेज डिब्बों तक पहुंचने की आवश्यकता होती है, और आपको अतिरिक्त समय खर्च करना होगा।

इसी प्रकार, आपके कंप्यूटर (या स्मार्टफोन, टैबलेट आदि) पर सक्रिय रूप से उपयोग किए जाने वाले सभी डेटा को टेम्पररी रैम में स्‍टोर किया जाता है।

इस तरह इस अनैलॉजी में रैम एक डेस्क की तरह हैं, जो हार्ड ड्राइव की तुलना में अधिक फास्‍ट रिड / राइट टाइम प्रदान करता है। रोटेशन स्पीड जैसे फिजिकल सीमाओं के कारण अधिकांश हार्ड ड्राइव, रैम की तुलना में काफी स्‍लो हैं।

रैम के प्रकार कितने हैं?

RAM के दो मुख्य प्रकार हैं:

स्टेटिक रैम

डाइनामिक रैम

1) Static RAM

SRAM का फुल फॉर्म Static RAM होता है। यह चार से छह ट्रांजिस्टर से बना है। यह डेटा को तब तक मेमोरी में रखता है जब तक कि DRAM के विपरीत सिस्टम को बिजली की आपूर्ति की जाती है, जिसे समय-समय पर रिफ्रेश करना पड़ता है। हालांकि, SRAM तेज है, लेकिन अधिक महंगी भी है, जिससे DRAM कंप्यूटर सिस्टम में अधिक प्रचलित मेमोरी बन जाती है।

स्टेटिक रैम का उपयोग ज्यादातर प्रोसेसर (सीपीयू) के लिए कैश मेमोरी के रूप में किया जाता है।

2) Dynamic RAM

DRAM का मतलब Dynamic Random Access Memory है।

DRAM एक ट्रांजिस्टर और कैपेसिटर जोड़ी का उपयोग करके डेटा संग्रहीत करता है, जो एक DRAM सेल बनाते हैं। DRAM का उत्पादन कम खर्चीला है, लेकिन SRAM की तुलना में थोड़ा धीमा है। डायनामिक रैम कई आधुनिक डेस्कटॉप कंप्यूटरों की एक स्‍टैंडर्ड कंप्यूटर मेमोरी है।

SRAM बनाम DRAM

SRAMDRAM
SRAM का एक्सेस टाइम कम है, इसलिए यह DRAM की तुलना में तेज़ है।DRAM का एक्सेस टाइम अधिक होता है, इसलिए यह SRAM की तुलना में धीमा है।
SRAM डीआरएएम से महंगा है।SRAM की तुलना में DRAM की लागत कम होती है।
SRAM को निरंतर बिजली की आपूर्ति की आवश्यकता होती है, जिसका अर्थ है कि इस प्रकार की मेमोरी जो अधिक बिजली की खपत करती है।DRAM कम बिजली की खपत प्रदान करता है क्योंकि जानकारी कैपेसिटर में संग्रहीत होती है।
यह एक जटिल इंटरनल सर्किटरी है, और यह DRAM मेमोरी चिप के समान भौतिक आकार की तुलना में कम स्‍टोरेज कैपेसिटी प्रदान करता है।यह DRAM की एक-बिट मेमोरी सेल में छोटी आंतरिक सर्किटरी है। बड़ी स्‍टोरेज कैपेसिटी उपलब्ध है।
SRAM में कम पैकेजिंग डेनसिटी है।DRAM में उच्च पैकेजिंग डेनसिटी है।

कुछ अन्य RAMS हैं

(a) EDO (Extended Data Output) RAM: एक EDO RAM में, किसी भी मेमोरी लोकेशन को एक्सेस किया जा सकता है। डेटा जानकारी के 256 बाइट्स को लैच में स्टोर करता है। लैच में अगले 256 बाइट्स की जानकारी होती है ताकि अधिकांश प्रोग्राम, जो क्रमिक रूप से निष्पादित होते हैं, डेटा बिना प्रतीक्षा स्थिति के उपलब्ध होते हैं।

(b) SDRAM (Synchronous DRAMS), SGRAMs (Synchronous Graphic RAMs)  ये रैम चिप्स सीपीयू के समान क्‍लॉक रेट का उपयोग करते हैं। जब सीपीयू उनसे तैयार होने की अपेक्षा करता है तो वे डेटा ट्रांसफर करते हैं।

(b) DDR-SDRAM (Double Data Rate – SDRAM) : यह RAM क्‍लॉक के दोनों किनारों पर डेटा ट्रांसफर करती है। इसलिए डेटा की ट्रांसफर दर दोगुनी हो जाती है।

रैम का इतिहास क्या है?

History of RAM in Hindi

1940 के दशक में सबसे पहले कंप्‍यूटर्स में रैम का इस्‍तेमाल किया गया। मैग्‍नेटिक-कोर मेमारी मैग्‍नेटिक रिंग के एरे पर निर्भर थी। प्रत्येक रिंग को मैग्नेटिकेट करके डाटा को स्‍टोर किया जाता था। हर एक रिंग में एक बिट डेटा स्‍टोर होता था और मैग्नेटिज़ेशन कि डायरेक्शन झीरो या वन को इंडिकेट करते थें।

टेक्नोलॉजिकल प्रगति के परिणामस्वरूप छोटे डिवाइस सामने आए जो अधिक इनफॉर्मेशन स्‍टोर कर सकते थे, लेकिन उसी सिद्धांत पर भरोसा कर सकते थे।

कंप्यूटर मेमोरी के लिए वास्तविक सफलता 1970 के दशक में इंटिग्रेटेड सर्किट में सॉलीड-स्‍टेट मेमोरी के आविष्कार से आई थी। इसमें बहुत छोटे ट्रांजिस्टर का उपयोग किया जाता था, जिससे यह बहुत छोटे एरिया पर बहुत अधिक इनफॉर्मेशन को स्‍टोर करना संभव हो गया। हालांकि, मेमोरी डेनसिटी में यह वृद्धि अस्थिरता की कीमत पर आई: प्रत्येक ट्रांजिस्टर की स्थिति बनाए रखने के लिए एक निरंतर बिजली की आपूर्ति की आवश्यकता होती है।

1990 के दशक की शुरुआत में, क्‍लॉक स्‍पीड को रैंडम एक्सेस मेमोरी के साथ सिंक्रनाइज़ किया गया।

SDRAM अपनी सीमा पर जल्दी पहुंचा, क्योंकि यह सिंगल डेटा रेट में इसे ट्रांसफर करता है।

वर्ष 2000 के आसपास, Double Data Rate Random Access Memory (DDR RAM) डेवलप किया गया था। यह एक क्‍लॉक साइकल में दुगना डेटा ट्रांसफर कर सकता था। DDR RAM की शुरूआत ने SDRAM की परिभाषा को भी बदल दिया है, क्योंकि कई सोर्स अब इसे सिंगल डाटा रेट रैम के रूप में परिभाषित करते हैं।

DDR RAM तीन बार विकसित हुआ है, DDR2, DDR3 और DDR4 के माध्यम से। प्रत्येक पुनरावृत्ति में डेटा की स्‍पीड और कम बिजली उपयोग में सुधार हुआ। हालांकि, प्रत्येक वर्जन पिछले वाले के साथ कम्पेटिबल नहीं है।

RAM का प्रकारआविष्कार का वर्ष
FPM- (फास्ट पेज मोड रैम)1990
EDO RAM (एक्सटेंडेड डाटा ऑपरेशन रीड-ओनली मेमोरी)1994
SDRAM (सिंगल डायनेमिक रैम)1996
RDRAM (रैम्बस रैम)1998
DDR (डबल डेटा रेट)2000
DDR22003
DDR32007
DDR42012

रैम की गति और फ्रीक्वेंसी क्या है?

रैम FSB स्पीड

RAM का उपयोग सिस्टम द्वारा प्रोग्राम डेटा और निर्देशों को संग्रहीत करने के लिए एक अस्थायी स्‍टोरेज के रूप में किया जाता है। प्रोग्राम के निष्पादन के दौरान सीपीयू अक्सर रैम पर मेमोरी रीड और राइट ऑपरेशन दोनों करता है।

और इसलिए, इष्टतम CPU प्रदर्शन के लिए आवश्यक डेटा और प्रोग्राम निर्देश प्रदान करने की क्षमता के संदर्भ में RAM की गति मायने रखती है।

जब भी सीपीयू डेटा (मेमोरी लेटेंसी) के पढ़ने और लिखने के संचालन के लिए प्रतीक्षा करता है, तो सीपीयू प्रोसेसिंग स्‍पीड प्रभावित होती है।

RAM FSB (फ्रंट साइड बस) की गति मेगाहर्ट्ज़ (मेगाहर्ट्ज) में मापी जाती है। यह जानकारी आमतौर पर रैम मॉड्यूल पर चिपकाए गए लेबल पर उल्लिखित होती है।

इस लेबल में मेमोरी के प्रकार (DDR, DDR2, DDR3, DDR4) और आवृत्ति या तो MHz या इसके पीसी कोड का भी उल्लेख है।

किसी भी कंप्यूटर के लिए रैम मॉड्यूल का चयन करते समय मदरबोर्ड चिपसेट FSB गति के साथ रैम कंपेटिबिलीटी सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है।

रैम स्‍टैंडर्डरैम FSB स्‍पीडरैम कोड
DDR100 मेगाहर्ट्जPC - 1600
DDR266 मेगाहर्ट्जPC - 2100
DDR333 मेगाहर्ट्जPC - 2700
DDR400 मेगाहर्ट्जPC - 3200
DDR2400 मेगाहर्ट्जPC2 - 3200
DDR2533 मेगाहर्ट्जPC2 - 4200
DDR2667 मेगाहर्ट्जPC2 - 5300
DDR2800 मेगाहर्ट्जPC2 - 6400
DDR21066 मेगाहर्ट्जPC2 - 8500
DDR3800 मेगाहर्ट्जPC3 - 6400
DDR31066 मेगाहर्ट्जPC3 - 8500
DDR31333 मेगाहर्ट्जPC3 - 10600
DDR31600 मेगाहर्ट्जPC3 - 12800
DDR31867 मेगाहर्ट्जPC3 - 14900
DDR41867 मेगाहर्ट्जPC4 - 14900
DDR42133 मेगाहर्ट्जPC4 - 17000
DDR42400 मेगाहर्ट्जPC4 - 19200
DDR42666 मेगाहर्ट्जPC4 - 21300
DDR44000 मेगाहर्ट्जPC4 - 32000

मुझे कितने रैम की आवश्यकता है?

RAM in Hindi – बस एक सीपीयू और हार्ड ड्राइव कि तरह ही आपके पीसी के लिए कितनी रैम कि आवश्यकता हैं यह आपके द्वारा उपयोग किए जाने पर पूरी तरह निर्भर करता है।

उदाहरण के लिए, यदि आप बड़े गेमिंग के लिए कंप्यूटर खरीद रहे हैं, तो आपको स्मूथ गेमप्ले को सपोर्ट करने के लिए पर्याप्त रैम की आवश्यकता होगी। कम से कम 4 जीबी की सिफारिश करने वाले गेम के लिए सिर्फ 2 जीबी रैम उपलब्ध होने पर गेम बहुत स्‍लो परफॉर्मेंस देंगे, या फिर आप गेम खेलने में पूर्ण असमर्थ होंगे।

दूसरे छोर पर, यदि आप अपने कंप्यूटर को सिर्फ इंटरनेट ब्राउज़िंग और प्रेजेंटेशन के लिए उपयोग करना चाहते हैं तो आपके लिए 2 जीबी रैम पर्याप्त हैं।

आम तौर पर आप कंप्यूटर या लैपटॉप को खरीदने से पहले पता लगा सकते हैं कि कोई विशिष्ट प्रोग्राम या गेम के लिए कितनी रैम की आवश्यकता होगी।

रैम पर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या मेमोरी और रैम एक ही है?

रैम और हार्ड ड्राइव मेमोरी दोनों को मेमोरी कहा जाता है, जो अक्सर भ्रम पैदा करती है। RAM का मतलब रैंडम एक्सेस मेमोरी है। जब आपका कंप्यूटर चालू होता है, तो यह डेटा को RAM में लोड करता है। प्रोग्राम जो वर्तमान में चल रहे हैं, और खुली फ़ाइलें, RAM में संग्रहीत हैं; आप जो कुछ भी उपयोग कर रहे हैं वह कहीं न कहीं RAM में चल रहा

रैम किस प्रकार का स्टोरेज है?

RAM कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी होती है। हार्ड डिस्क ड्राइव (HDD), सॉलिड-स्टेट ड्राइव (SSD) या ऑप्टिकल ड्राइव जैसे अन्य प्रकार के स्टोरेज से पढ़ने और लिखने के लिए यह बहुत तेज़ है। रैंडम एक्सेस मेमोरी अस्थिर है।

क्या ज्यादा रैम या स्टोरेज रखना बेहतर है?

आपके कंप्यूटर में जितनी अधिक मेमोरी होगी, उतना ही वह एक ही समय में सोचने में सक्षम होगा। अधिक RAM आपको अधिक जटिल प्रोग्राम और उनमें से अधिक का उपयोग करने की अनुमति देता है। स्टोरेज’ का मतलब लॉन्ग टर्म स्टोरेज से है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.