मल्टीमीडिया के बारें में सब कुछ जानने के लिए एक अल्टीमेट गाइड

Multimedia Hindi:

Multimedia Hindi

What Is Multimedia in Hindi?

मल्टीमीडिया क्या है?

Multimedia ऐसे कंटेंट है, जो टेक्‍स्‍ट, ऑडियो, इमेजेस, एनिमेशन, वीडियो और इंटरैक्टिव कंटेंट जैसे विभिन्न कंटेंट फॉर्मों के कॉम्बिनेशन उपयोग करता है।

मल्टीमीडिया और मीडिया में फर्क हैं, क्योंकि मीडिया केवल प्रिंटेड ‍टेक्स्ट या हैंड-प्रोडयुस ट्रेडिशनल फॉर्म को ही डिस्‍प्‍ले करता हैं।

Multimedia को रिकॉर्ड और प्‍ले किया जा सकता हैं, इनफॉर्मेशन कंटेंट प्रोसेसिंग डिवाइसेस से इन्टरैक्ट या एक्‍सेस किया जा सकता हैं, जैसे कि कम्प्यूटरीकृत और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेस, लेकिन इसके साथ ही यह लाइव परफॉरमेंस का पार्ट होता हैं।

 

Meaning of Multimedia in Hindi:

आसान शब्दों में, मल्टीमीडिया का अर्थ है “एक से अधिक मेडियम।” दूसरे शब्दों में, टेलीविजन प्रोग्राम, मूवीज, यहां तक ​​कि सचित्र पुस्तकें यह सभी मल्टीमीडिया के उदाहरण हैं – ये सभी टेक्‍स्‍ट, इमेजेस, साउंड और मुवमेंट का उपयोग करते हैं।

 

What is Multimedia Technology in Hindi?

मल्टीमीडिया टेक्नोलॉजी क्या है?

मल्टीमीडिया टेक्नोलॉजी इंटरैक्टिव, कंप्यूटर आधारित ऐप्‍लीकेशन से संबंधित है, जिसमें लोग डिजिटल और प्रिंट एलिमेंट के साथ आइडियाज और इनफॉर्मेशन कम्यूनिकेट करते हैं।

इस फिल्‍ड के प्रोफेशनल ऑनलाइन ग्राफिक्स और कंटेंट को डेवलप और मैनेज करने के लिए कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर का उपयोग करते हैं। मीडिया टेक्नोलॉजी विशेषज्ञों का काम कई मीडिया में किया जाता है, जैसे ट्रेनिंग प्रोग्राम्‍स, वेब पेज, और न्यूज़ साइटस्।

 

What Is A Multimedia File in Hindi?

मल्टीमीडिया फ़ाइल क्या है?

एक मल्टीमीडिया फ़ाइल आपके कंप्‍यूटर पर कोई भी फाइल हो सकती है जो ऑडियो और वीडियो, या केवल ऑडियो या वीडियो प्‍ले करती है। लोकप्रिय मल्टीमीडिया फ़ाइलों के कुछ उदाहरण। .mp3 ऑडियो फ़ाइल, .mp4 वीडियो, और avi वीडियो, और WMV फाइल शामिल हैं।

 

What Is A Multimedia Software in Hindi?

मल्टीमीडिया सॉफ्टवेयर क्या है?

मल्टीमीडिया सॉफ्टवेयर वह सॉफ्टवेयर होता हैं, जिसमें साउंड, पिक्‍चर, फिल्म, और टेक्‍स्‍ट को मिक्‍स किया जा सकता हैं।

Multimedia Software को नए मल्टीमीडिया कंटेंट बनाने और पहले से मौजूद कंटेंट के विजूअल और ऑडिटरी फीचर को बढ़ाने के लिए डेवलप किया गया हैं।

जैसा कि इसके नाम का अर्थ है, Multimedia Software में हमेशा कई प्रकार के मीडिया शामिल होते हैं जो एक-दूसरे के साथ इंटरलिंक होते हैं। टर्म मीडिया में म्‍युजिक, वीडियो और एनिमेटेड इमेजेस शामिल होते है जिन्‍हे मल्टीमीडिया सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके क्रिएट और ऑप्टिमाइज़ किया गया है।

Multimedia Software को अक्सर मल्टीमीडिया प्रेजेंटेशन में उपयोग किया जाता है, जो ऊपर के सभी एलिमेंटस् को इटिग्रेट और कनेक्‍ट करता है।

इससे, जो कहा गया है उसे ऊपर उठाने में मदद मिलती है और विचारों को प्रभावी ढंग से प्रस्तुत करना आसान बन जाता है।

 

Types of Multimedia in Hindi?

मल्टीमीडिया के प्रकार?

मल्टीमीडिया की आपकी डेफिनेशन के आधार पर, कहीं भी एक दर्जन से ज्यादा मल्टीमीडिया के सैकड़ों अद्वितीय टाइप हो सकते हैं।

टर्म “मल्टीमीडिया” कला कि दुनिया में उत्पन्न हुआ, कलाकृति का वर्णन करने का एक तरीका है, जिसमें कई अलग-अलग मीडिया, जैसे कि कोलाज, वीडियो, या संगीत का उपयोग किया जाता हैं।

इसका अर्थ अधिक सामान्य हो गया, और अब यह शब्दों, चित्र, एनीमेशन, वीडियो, ऑडियो और अन्तरक्रियाशीलता सहित किसी भी इनफॉर्मेशन कंटेंट को भी रेफर करता है।

इनमें से मल्टीमीडिया के टाइप कुछ इस प्रकार के हैं –

 

1) टेलीविजन पर मल्टीमीडिया:

शायद मल्टीमीडिया देखने के लिए सबसे कॉमन जगह आपका टेलीविजन स्क्रीन है। टेलीविज़न सेगमेंट में उनके मैसेज को प्रस्तुत करने के लिए एनीमेशन, वर्ड और वीडियो को कंबाइन किया जाता हैं। अक्सर, टेलीविजन प्रोगाम्‍स में मल्टीमीडिया ग्राफिक्स और एनीमेशन होते हैं। जो लोग इस तरह के मल्टीमीडिया बनाते हैं उन्हें ब्रॉडकास्ट डिजाइनर कहते हैं।

 

2) मल्टीमीडिया वेबसाइट्स:

वेबसाइटें दूसरे प्रमुख स्थान हैं जहां मल्टीमीडिया का उपयोग किया जाता है। उदाहरण के लिए, एक न्यूज़ साइट लिखित लेख प्रस्तुत करती है जो दिन की घटनाओं का वर्णन करती है। इसमें स्लाइड शो, भाषणों या समाचार प्रसारणों की ऑडियो क्लिप, प्रमुख घटनाओं के वीडियो कवरेज, और एनीमेशन शामिल हो सकते हैं जो समाचार विषयों को दिखाते है।

मल्टीमीडिया वेब डिज़ाइनर उनकी साइटों पर मल्टीमीडिया कंटेंट को ऑर्गनाइज़ करते हैं और पेश करते हैं।

 

3) मल्टीमीडिया इनफॉर्मेशन कियोस्क:

मल्टीमीडिया का एक अन्य रूप अक्सर मॉल, हवाई अड्डों और दुकानों जैसे स्थानों पर देखा जाता है, इनफॉर्मेशन कियोस्क के रूप में। आज kiosks पूरी तरह से आटोमेडेट और इंटरैक्‍टीव होते हैं।

 

Components Of Multimedia In Hindi

मल्टीमीडिया के कंपोनेंट्स हिंदी में

मल्टीमीडिया के विभिन्न कंपोनेंट्स टेक्स्ट, ऑडियो, ग्राफिक्स, वीडियो और एनीमेशन हैं। ये सभी कंपोनेंट्स एक प्रभावी और आसान तरीके से जानकारी का प्रतिनिधित्व करने के लिए एक साथ काम करते हैं।

1) Text:

टेक्स्ट इन्फॉर्मैशन का प्रतिनिधित्व करने का सबसे आम माध्यम है। मल्टीमीडिया में, टेक्स्ट का उपयोग ज्यादातर शीर्षक, हेडलाइंस, मेनू आदि के लिए किया जाता है। टेक्स्ट फ़ाइलों को देखने के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला सॉफ्टवेयर माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, नोटपैड, वर्ड पैड आदि हैं। ज्यादातर टेक्स्ट फाइलों के फॉर्मेट, DOC, TXT आदि एक्सटेंशन के साथ होते है।

 

2) Audio:

मल्टीमीडिया ऑडियो में रिकॉर्डिंग, प्लेइंग आदि से संबंधित है। ऑडियो मल्टीमीडिया का एक महत्वपूर्ण कंपोनेंट्स है क्योंकि यह कंपोनेंट्स समझ को बढ़ाता है और अवधारणा की स्पष्टता में सुधार करता है। ऑडियो में भाषण, संगीत आदि शामिल हो सकते हैं। ऑडियो फ़ाइलों को चलाने के लिए आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले सॉफ़्टवेयर हैं:

i) Quick Time

ii) Real player

iii) Windows Media Player

 

3) Graphics:

हर मल्टीमीडिया प्रेजेंटेशन ग्राफिक्स पर आधारित है। मल्टीमीडिया में ग्राफिक्स का उपयोग कांसेप्ट को अधिक प्रभावी और प्रस्तुत करने योग्य बनाता है। आमतौर पर ग्राफिक्स देखने के लिए उपयोग किया जाने वाला सॉफ्टवेयर windows Picture, Internet Explorer आदि हैं। आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले ग्राफिक्स एडिटिंग सॉफ्टवेयर एडोब फोटोशॉप है जिसके माध्यम से ग्राफिक्स आसानी से एडिट किए जा सकते हैं और प्रभावी और आकर्षक बना सकते हैं।

 

4) Video:

वीडियो का अर्थ है साउंड के साथ मूविंग पिक्‍चर। यह एक दूसरे के साथ संवाद करने का सबसे अच्छा तरीका है। मल्टीमीडिया में इसका उपयोग इन्फॉर्मैशन को अधिक प्रेजेंटेबल करने के लिए किया जाता है और यह बड़ी मात्रा में समय बचाता है। वीडियो देखने के लिए आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले सॉफ़्टवेयर हैं:

i) Quick Time

ii) Window Media Player

iii) Real Player

 

5) Animation:

कंप्यूटर एनीमेशन में इमेज में बदलाव करने के लिए उपयोग किया जाता है ताकि चित्रों का क्रम चित्रों को मूव होते हुए दिखाई दे। एक एनिमेटेड अनुक्रम यूजर्स की आंख में गति के प्रभाव का उत्पादन करने के लिए प्रति सेकंड कई फ्रेम दिखाता है। एनीमेशन देखने के लिए आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले कुछ सॉफ्टवेयर हैं:

i) Internet Explorer

ii) Windows Pictures

iii) Fax Viewer

ये मल्टीमीडिया के कंपोनेंट्स हैं। अब मैं इसके एप्‍लीकेशन के बारे में बात करने जा रहा हूं।

 

Application Of Multimedia In Hindi

आजकल मल्टीमीडिया के एप्लीकेशन विभिन्न क्षेत्रों जैसे शिक्षा, मनोरंजन, व्यवसाय और अन्य में देखे जाते हैं। मैसेज को पिक्‍चर, साउंड, वीडियो के रूप में कम्यूनिकेट करने के लिए, एनीमेशन मल्टीमीडिया की प्राथमिक भूमिका है। मल्टीमीडिया के कुछ एप्लीकेशन इस प्रकार हैं:

 

1) शिक्षा में मल्टीमीडिया:

मल्टीमीडिया शिक्षा के क्षेत्र में लोकप्रिय हो रहा है। यह आमतौर पर छात्रों के लिए अध्ययन सामग्री तैयार करने के लिए उपयोग किया जाता है और उन्हें विभिन्न विषयों की उचित समझ भी प्रदान करता है। आजकल एडुटेनमेंट, शिक्षा और मनोरंजन का एक संयोजन बहुत लोकप्रिय हो गया है। यह प्रणाली सीखने के साथ-साथ यूजर्स को मनोरंजन भी प्रदान करती है।

 

2) मनोरंजन में मल्टीमीडिया:

कंप्यूटर ग्राफिक्स तकनीक अब आमतौर पर फिल्मों और गेम बनाने में उपयोग की जाती है। इससे मल्टीमीडिया की वृद्धि होती है।

i) फिल्में:

फिल्मों में प्रयुक्त मल्टीमीडिया एक विशेष ऑडियो और वीडियो प्रभाव देता है। आज मल्टीमीडिया ने दुनिया में फिल्में बनाने की कला को पूरी तरह से बदल दिया है। मुश्किल प्रभाव और एक्‍शन केवल मल्टीमीडिया के माध्यम से संभव है।

 

ii) गेम्स:

कंप्यूटर ग्राफिक्स, एनीमेशन, वीडियो का उपयोग करके गेम्स में उपयोग किए जाने वाले मल्टीमीडिया ने गेमिंग अनुभव को बदल दिया है। वर्तमान में, फास्‍ट एक्‍शन, 3-D इफेक्‍ट और हाई क्‍वालिटी साउंड इफेक्‍ट प्रदान करते हैं जो केवल मल्टीमीडिया के माध्यम से संभव है।

 

3) बिजनेस में मल्टीमीडिया:

आज मल्टीमीडिया का उपयोग व्यवसाय के हर पहलू में किया जाता है। ये कुछ एप्लीकेशन हैं:

i) वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग:

यह प्रणाली अपने कंप्यूटरों के माध्यम से दो अलग-अलग स्थानों के बीच ऑडियो और वीडियो का उपयोग करके संवाद करने में सक्षम बनाती है। जब दुनिया भर में जानकारी भेजी जाती है, तो यह तकनीक व्यवसाय को लागत लाभ प्रदान करती है जो उनके समय, ऊर्जा और धन की बचत करती है।

 

ii) मार्केटिंग और विज्ञापन:

आजकल मल्टीमीडिया के साथ टेलीविजन और इंटरनेट पर किसी भी प्रोडक्‍ट के बारे में अलग-अलग विज्ञापन और मार्केटिंग विचार संभव है।

 

Development Platform For Multimedia In Hindi

वह सेवा जो पहले से विकसित और ऑपरेशनल मल्टीमीडिया सामग्री के वितरण के एक मंच पर विकसित रिमोट एप्‍लीकेशन और सर्विसेस को डेवपल करने की अनुमति देती है।

रिमोट सर्विसेस में से कुछ हैं:

license based content (MPEG-21, OMA, Creative Commons …) के उपयोग का अधिकार।

Security Assertion Markup Language ” (SAML) का उपयोग करके यूजर्स और सर्विसेस का प्रमाणीकरण।

 

इस प्लेटफॉर्म पर एप्‍लीकेशन के कुछ उदाहरण जो डेवलप किए जा सकते हैं:

स्‍टैंडर्ड का उपयोग कर Sekeers मल्टीमीडिया (इमेज, वीडियो)।

मैनेजमेंट और डिस्ट्रीब्यूशन के लिए अंतरराष्ट्रीय स्‍टैंडर्ड के आधार पर डिजिटल वस्तुओं का निर्माण।

नियंत्रण और बिलिंग, उपयोग के आँकड़े आदि के लिए संरक्षित सामग्री के उपयोग पर रिपोर्ट का निर्माण और स्‍टोरेज।

 

History of Multimedia in Hindi:

मल्टीमीडिया का इतिहास:

वास्तविक दुनिया में, हालांकि, जब अधिकांश लोग मल्टीमीडिया के बारे में बात करते हैं, तो वे कंप्यूटर मल्टीमीडिया के बारे में बात कर रहे होते हैं। यह शब्द कंप्यूटर ग्राफिक्स, वीडियो गेम, ऑन-स्क्रीन प्रेजेंटेशन, और अन्य संभावनाओं की एक पूरी दुनिया के दायरे का प्रतिनिधित्व करने के लिए आ गया है।

यह सब कहां से शुरू हुआ? यह कहना मुश्किल है, लेकिन मल्टीमीडिया के शुरुआती और सर्वोत्तम ज्ञात उदाहरणों में से एक वीडियो गेम Pong था। नोलन बुशनेल (अटारी नाम की एक नई कंपनी के संस्थापक) द्वारा 1972 में विकसित, इस खेल में दो सरल पैडल शामिल थे, जो टेनिस की तरह, एक स्क्रीन पर “बॉल” को पीछे और आगे बढ़ाते थे। यह एक आर्केड गेम के रूप में शुरू हुआ, और अंततः कई घरों में समाप्त हुआ।

एक नई क्रांति 1976 में शुरू हुई जब स्टीव जॉब्स और स्टीव वोज़्नियाक ने ऐप्पल कंप्यूटर नामक एक स्टार्टअप कंपनी की स्थापना की। एक साल बाद उन्होंने एप्पल II का अनावरण किया, जो पहले रंगीन ग्राफिक्स का उपयोग करने वाला कंप्यूटर था।

इसके बाद कंप्यूटर क्रांति तेजी से चली: 1981 में आईबीएम का पहला पीसी देखा गया, और 1984 में एप्पल ने मैकिंटोश को रिलीज़ किया, जो एक ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (GUI) का इस्तेमाल करने वाला पहला कंप्यूटर सिस्टम था। मैकिन्टोश ने पहले माउस को भी लाया, जिसने लोगों के कंप्यूटर के साथ इंटरैक्ट करने के तरीके को हमेशा के लिए बदल दिया।

1985 में, माइक्रोसॉफ्ट ने अपने विंडोज ऑपरेटिंग सिस्‍टम का पहला वर्जन जारी किया। उसी वर्ष, कमोडोर ने Amiga नामक एक मशीन जारी की, जिसमें कई विशेषज्ञ अपने उन्नत ग्राफिक्स प्रोसेसिंग पावर और अभिनव यूजर इंटरफेस के कारण पहला मल्टीमीडिया कंप्यूटर्स मानते थे। लेकिन Amiga ने कुछ वर्षों में अच्छा नहीं किया, हालांकि, और विंडोज, डेस्कटॉप कंप्यूटिंग के लिए स्‍टैंडर्ड बन गया।

नई खोज विंडोज़ और मैकिनटोश ऑपरेटिंग सिस्टम दोनों ने मल्टीमीडिया में तेजी से विकास के लिए मार्ग प्रशस्त किया। चूंकि दोनों विंडोज़ और मैक ओएस ग्राफिक्स और साउंड को हैंडल करते हैं – डेवलपर्स ऐसे प्रोग्राम बनाने में समर्थ हो गए, जो मल्टीमीडिया का उपयोग अधिक शक्तिशाली प्रभाव से करते हैं।

एक ऐसी कंपनी जिसने मल्टीमीडिया में अपनी प्रारंभिक शुरुआत से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, वह है Macromedia (जिसे पूर्व में Macromind कहा जाता है)। 1988 में, Macromedia ने अपने मील का पत्थर Director program जारी किया, जिसने कंप्यूटर यूजर्स को आश्चर्यजनक,  इंटरैक्टिव मल्टीमीडिया प्रेजेंटेशन को बनाना संभव किया। आज आप इंटरनेट पर जो भी एनीमेशन और मल्टीमीडिया देखते हैं वह Macromedia Flash drives करता है।

प्रत्येक बीतते वर्ष के प्रत्येक नए विकास को अगले वर्ष की तकनीक में अवशोषित किया जाता है, मल्टीमीडिया अनुभव, बेहतर, तेज़ और अधिक दिलचस्प बनाने के लिए।

 

Usage Of Multimedia in Hindi:

मल्टीमीडिया का उपयोग:

कम्युनिकेशन के इस वर्तमान युग में, सब कुछ को प्रचारित करने की आवश्यकता है, चाहे वह समाचार या कोई भी जानकारी हो। अधिक से अधिक टीवी चैनलों के उद्घाटन के साथ, विज्ञापन एजेंसियों, इवेंट मैनेजमेंट कंपनियां, मीडिया की आवश्यकता वास्तव में बढ़ गई है।

मल्टीमीडिया कुछ भी हो सकता है और सब कुछ जो आप देख सकते हैं और टेक्‍स्‍ट, फोटो, ऑडियो, वीडियो और बहुत कुछ के रूप में सुन सकते हैं। प्रत्येक उद्योग में, चाहे हॉस्पिटैलिटी, एविएशन, बैंकिंग, बीमा, साइंस और टेक्‍नोलोजी आदि, मल्टीमीडिया का उपयोग लगभग हर क्षेत्र में किया जा रहा है, या तो कुछ को प्रकाशित करने या किसी अन्य उद्देश्य के लिए।

 

1) Advertising:

विज्ञापन के क्षेत्र में, मल्टीमीडिया एक महान और महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं। चाहे जो भी हो चाहे प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक विज्ञापन, वे प्रोफेशनल सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके कंप्यूटर पर पहले तैयार होते हैं और फिर इसे अंतिम ऑडियंस के सामने लाया जाता है। इन सॉफ्टवेयर में मल्टीमीडिया का जन्म होता है।

 

2) Education:

शिक्षा के क्षेत्र में, मल्टीमीडिया का बहुत महत्व है। स्कूलों के बारे में विशेष रूप से बात करते हुए, बच्चों के लिए मल्टीमीडिया का उपयोग बहुत महत्वपूर्ण है। यह शिक्षा और प्रशिक्षण के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है। यहां तक ​​कि परंपरागत तरीके से हमने शिक्षा देने के लिए ऑडियो का इस्तेमाल किया था, जहां चार्ट, मॉडल आदि का इस्तेमाल किया गया था। आजकल क्लास रूम की ज़रूरत उस पारंपरिक पद्धति तक सीमित नहीं है बल्कि इसे अब ऑडियो और विज़ुअल मीडिया की आवश्यकता है। मल्टीमीडिया एक सिस्टम में इन सभी को इंटिग्रेट करता है।

इन सभी ने कंप्यूटर आधारित प्रशिक्षण की एक विस्तृत श्रृंखला के विकास को बढ़ावा दिया है।

 

3) Mass Media:

यह सामूहिक मीडिया के क्षेत्र में प्रयोग किया जाता है। उदाहरण के लिए,  पत्रकारिता, विभिन्न मैगजीन्स और न्यूज़ पेपर में, जो समय-समय पर प्रकाशित होते हैं।

मल्टीमीडिया का उपयोग पब्लिशिंग हाउस में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि अख़बारों के डिजाइन और अन्य काम इससे होते हैं। और आजकल यह न केवल टेक्‍स्‍ट है, जिसे हम अख़बार में देख सकते हैं, बल्कि हम अखबार में फोटोग्राफ्स भी देख सकते हैं। यह न केवल न्यूज़ पेपर को एक आदर्श उदाहरण बनाता है बल्कि मल्टीमीडिया की योग्यता भी साबित करता है।

 

4) Gaming Industry:

मल्टीमीडिया के सबसे रोमांचक ऐप्‍लीकेशन में से एक गेम्‍स है। आजकल लाइव इंटरनेट का प्रयोग गेमिंग के लिए किया जाता है जिसमें मल्टीपल प्‍लेयर गेम लोकप्रिय हैं।

इंटिग्रेटेड ऑडियो और वीडियो इफेक्‍ट विभिन्न प्रकार के गेम्‍स को अधिक मनोरंजक बनाते हैं।

 

5) Science and Technology:

मल्टीमीडिया के पास साइंस और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में व्यापक ऐप्‍लीकेशन हैं। यह ऑडियो, मैसेज और फॉर्मेटेड मल्टीमीडिया डयॉक्‍युमेटस् को ट्रांसफर करने में सक्षम है। साथ ही यह ऑडियो मैसेजेस के माध्यम से लाइव इंटरैक्शन में भी मदद करता है और मल्टीमीडिया के साथ ही यह संभव है।

 

Advantages And Disadvantages Of Multimedia in Hindi:

मल्टीमीडिया के एडवांटेज और डिसएडवांटेज:

कम्युनिकेशन में मल्टीमीडिया का उपयोग करने के कुछ फायदे और नुकसान हैं।

 

Advantages Of Multimedia in Hindi:

यह एक बहुत युजर-फ्रैडली है। इसके लिए एनर्जी यूजर्स की आवश्यकता नहीं है, मतलब आप आराम से बैठकर डेमो देख सकते हैं, टेक्‍स्‍ट पढ़ सकते हैं और साउंड सुन सकते हैं।

यह एक बहु-संवेदी है। मल्टीमीडिया में कई सेंसेस का उपयोग किया जाता हैं, जिससे यूजर का मल्टीमीडिया देखने का एक्सपीरियंस बढ़ जाता हैं।

यह एक व्यापक और इंटरैक्टिव है। डिजिटल इंटिग्रेशन की प्रोसेस में विभिन्न मीडिया के माध्यम से बातचीत की आसान प्रतिक्रिया बहुत बढ़ जाती है।

यह लचीला है। डिजिटलीकरण, अलग-अलग स्थितियों और ऑडियंस के अनुकूलन के लिए यह मीडिया आसानी से बदला जा सकता है।

इसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के ऑडियंस के लिए किया जा सकता है, जिसमें एक व्यक्ति से लेकर पूरे समूह तक हो सकता हैं।

क्रिएटिव इंडस्ट्रीज: एडवरटाइजिंग, मीडिया और न्यूज़ सहित वे मल्टीमीडिया में मज़ेदार और इंटरैक्टिव तरीके से अपने विचार व्यक्त करते हैं।

एंटरप्राइज में लैटेस्‍ट डेवलपमेंट: टेक्‍नोलॉजी और मल्टीमीडिया एनवायरनमेंट ने एंटरप्राइज को उनके प्रोडक्‍ट और सर्विसेस कि जानकारी कि वेबसाइट या प्रेजेंटेशन बनाना संभव बनाया हैं।

मार्केटिंग: साइट टेक्स्ट, इमेजेस, वीडियो में निर्माण से पता चलता है कि यह प्रोडक्‍ट बहुत लोकप्रिय है। मीडिया के साथ लिंक, हमारी आइडियाज को प्रमोट करने के लिए सोशल नेट‍वर्किंग अनिवार्य है। मैसेज को समझने के लिए कस्टमर्स आसानी से विज़ुअलाइज़ेशन और वेबसाइट से लिंक कर सकते हैं।

टेलीकम्युनिकशन्स इंडस्ट्री: आज, हर कोई स्पष्ट Multimedia Messaging Service (MMS) का इस्‍तेमाल करता है। इस सर्विस ने हमारे मोबाइल फोन से ऑडियो और वीडियो कंटेंट को भेजना संभव बनाता है। पहले, यह केवल एक निश्चित संख्या में टेक्‍स्‍ट मैसेज तक ही सीमित था। फोन के मल्टीमीडिया ऐप्‍लीकेशन के क्षेत्र में 2012 में तरक़्क़ी हुई और म्‍युजिक, गेम्‍स, मुविज देखना, और हमारे मोबाइल पर न्यूज देखना आसान हुआ।

 

Disadvantages of Multimedia in Hindi:

बहुत ज्यादा जानकारी। क्योंकि यह उपयोग करना इतना आसान है, इसमें एक बार में बहुत सारी इनफॉर्मेशन हो सकती है।

कंपाइल के लिए समय लगता है। यद्यपि यह फ्लेक्सिबल हैं, इसे ड्राफ्ट के लिए समय लगता हैं।

यह महंगा हो सकता है। जैसा कि मल्टीमीडिया रिसोर्सेस की एक विस्तृत श्रृंखला का उपयोग करता हैं,  इसलिए यह बहुत खर्चीला हो सकता हैं।

मल्टीमीडिया कि फ़ाइलों कि साइज बहुत बड़ी हो सकती हैं, क्योंकि इसमें वीडियो और ऑडियो इफेक्‍ट होता हैं, तो इसे लोड करने में लगने वाला समय बहुत अधिक होता हैं।

HDMI क्या है? यह कैसे काम करता है? इसके उपयोग क्या है?

 

Multimedia Hindi.

History Of Multimedia In Hindi, Features Of Multimedia In Hindi, Types Of Multimedia In Hindi, Application Of Multimedia In Hindi, Advantage Of Multimedia In Hindi, Multimedia In Hindi PDF, Multimedia Notes In Hindi PDF, Components Of Multimedia In Hindi.

सारांश
आर्टिकल का नाम
Multimedia in Hindi
लेखक की रेटिंग
51star1star1star1star1star