मोबाइल की रैम क्या हैं? आपको कितने रैम की जरूरत हैं?

1988

Mobile Ram Hindi

What is Mobile Ram in Hindi?

Mobile Ram Kya Hai In Hindi

मोबाइल की रैम वही हैं, जो आपके पीसी में होती हैं। लेकिन आपके पीसी की रैम आपके एंड्रॉइड फोन से काफी अलग काम करती है, जिनमें से अधिकांश बेसिक यूजर्स बेहतर परिचित हैं। आपके द्वारा डाउनलोड और इंस्टॉल करने वाले ऐप्स को पहले RAM में लोड किया जाता है और फिर एक्‍सेक्‍यूट किया जाता है। जब आप उनका उपयोग नहीं कर रहे हैं तब वे ऐप्स रैम में रहते हैं और उन्हें बैकग्राउंड में शिफ्ट कर दिया जाता है। अगली बार जब आप उन ऐप्स का उपयोग करेंगे तो वे रैम से तेज़ी से रिट्रिवल के लिए उपलब्ध होंगे जब तक कि उन्हें रिमूव नहीं कर दिया जाता है। निरंतर उपयोग के साथ, जिन ऐप्स का आप अक्सर उपयोग करते हैं उन्हें आपकी रैम पर रखा जाता है, यदि आपके पास पर्याप्त रैम है।

क्या होता है जब मेरी रैम भर जाती है?

बहुत से यूजर्स अपने रैम से तेजी से उपभोग करते हैं। एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम को अधिकांश रैम का उपयोग करने के लिए डिजाइन किया गया है और यूजर इंटरफेस के सुचारू कामकाज के लिए कुछ रैम छोड़ दी जाती है। आपको बिल्कुल चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है और उपयोग के बाद प्रत्येक एप्लिकेशन को किल करने की आवश्यकता नहीं है। जब आवश्यक हो तो एंड्रॉइड, रैम को मुक्त कर देगा और यह एक शानदार तरीके से ऐसा करता है। यह कुछ स्‍टेप्‍स और प्रोटोकॉल का पालन करता है और फ्री स्‍पेस पर अपने ऐप्स को खतरनाक रूप से किल नहीं करता हैं। आपके डिवाइस पर बिना उपयोग की रैक बर्बाद हो जाती है और आपके फोन में जितनी अधिक रैम होगी, उतने अधिक ऐप्स आप एक साथ चला सकते हैं।

- Advertisement -

क्या रैम में एप्स लोड होने पर मेरे बैटरी की परफॉर्मेंस पर असर होगा?

रैम में बस पड़ा हुआ एक फ्री ऐप आपकी बैटरी का उपभोग नहीं करता है। यदि आप नोटिफिकेशन के साथ फेसबुक जैसे ऐप का उपयोग कर रहे हैं, तो यह आपकी बैटरी का उपयोग करेगा, क्योंकि यह सर्वर से इंटरैक्‍ट करेगा। अधिकतर ऐप्स आपकी बैटरी को बहुत प्रभावित नहीं करेंगे लेकिन हमारे एंड्रॉइड एक्‍सपिरियंस बहुत अच्छी तरह से बताते हैं कि ऐप्स का भरोसा नहीं किया जा सकता है। अगर आपको अपने बैटरी बैकअप में अप्रत्याशित गिरावट मिलती है, तो सेटिंग्स मेनू में बैटरी ऑप्‍शन पर जाकर चेक कर सकते हैं या आप बैटरी चेकर ऐप डाउनलोड कर सकते हैं और आप आसानी से दुर्व्यवहार करने वाले ऐप को समझ सकते हैं और लिंक किए गए ट्यूटोरियल का उपयोग करके इसे किल कर सकते हैं।

रैम में बस एक पड़ा हुआ ऐप ख़तरा नहीं है; रैम में अधिक ऐप्स का फास्‍टर परफॉर्मेंस होगा क्योंकि प्रोसेसर को उन्हें इंटरनल स्टोरेज से फिर से लोड नहीं करना पड़ेगा।

एंड्रॉइड फोन में रैम का काम क्या है?

Function Of RAM In An Android Phone In Hindi

RAM का मलतब Random Access Memory हैं। यह आपको बताता है कि इसमें स्टोर डेटा के किसी भी हिस्से को सीधे एक्सेस किया जा सकता है। फ़ोन को अनुक्रमिक रूप से स्‍टोर डेटा के माध्यम से स्कैन करने की आवश्यकता नहीं है, जैसे आप पुराने टेप कैसेट के साथ कर सकते हैं। यह प्रभावी रूप से इंस्‍टंट एक्‍सेस है।

आज के फोन का सामान्य स्‍टोरेज भी रैंडम एक्‍सेस है, क्योंकि इसमें छोटी स्पिनिंग डिस्क प्लेटर्स की बजाय eMMC चिप्स शामिल होती हैं। यही इसमें सबसे महत्वपूर्ण अंतर है। ऐप और म्यूजिक स्टोर करने के लिए आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले 8 GB -64 GB स्टोरेज की तुलना में एक फोन की रैम बहुत फास्‍ट होगी।

एंड्रॉइड पर रैम कैसे काम करता है

How RAM Works on Android in Hindi:

सबसे पहले, हमें एंड्रॉइड पर रैम कैसे काम करता है, इस पर एक नज़र डालने की आवश्यकता होगी। यदि आप विंडोज कंप्यूटर से परिचित हैं, तो आप जानते हैं कि अधिक रैम आमतौर पर बेहतर होता है और एक अच्छी तरह से परफॉर्मिंग सिस्‍टम के लिए फ्री रैम एक बेसिक आवश्यकता है।

एंड्रॉइड के साथ, हालांकि, यह थोड़ा अलग काम करता है। एंड्रॉइड लिनक्स कर्नेल पर आधारित है, जो विंडोज-बेस कंप्यूटरों की तुलना में नियमों के पूरी तरह अलग सेट के तहत संचालित होता है। और जब रैम की बात आती है, तो बोर्ड पर एक बयान लागू होता है: फ्री रैम बर्बाद रैम होती है।

इसलिए, एंड्रॉइड पर, अन्य ऐप्स को लोड होने के लिए रैम को क्लिन करने की आवश्यकता नहीं है- यह प्रोसेस आटोमेटिकली और सहजता से होती है। रैम ऐसा कुछ नहीं है जिसे आपको अधिकांश लिनक्स-आधारित मशीनों पर सोचना है।

बहुत कम रैम हमेशा एक समस्या पैदा कर सकती है। अगर सिस्टम के साथ काम करने के लिए पर्याप्त रैम नहीं है, तो चीजें एक समस्या बनने लगती हैं-बैकग्राउंड में चल रहे ऐप्स समय-समय पर बंद हो जाएंगे (या जब आप उन्हें नहीं चाहते हैं)।

एक एंड्रॉइड फोन की वास्तव में कितनी रैम की आवश्यकता है?

How Much RAM Does An Android Phone Really Need?

यह समस्या एंड्रॉइड डिवाइसेस पर तब बहुत प्रमुख हो गई जब लॉलीपॉप (5.x) जारी किया गया था, क्योंकि इसमें ओएस के पिछले वर्शन की तुलना में अधिक आक्रामक मेमोरी मैनेजमेंट शामिल था। चूंकि अधिकांश फोन तब 2 GB रैम तक सीमित थे, यह एक स्पष्ट समस्या बन गई।

उदाहरण के लिए, फोरग्राउंड में अपनी कार में मैप ऐप का उपयोग करते समय, बैकग्राउंड में म्‍यूजिक प्‍ले हो रहा हैं, तब बाद में ओएस द्वारा म्यूजिक को बंद किया जाता हैं। और यदि बैकग्राउंड में मैप रन हो रहा हैं और फोरग्राउंड में म्यूजिक, तो मैप को बंद कर दिया जाता हैं। ऐसे समय यह असाधारण रूप से निराशाजनक होता हैं।

इसका समाधान हैं अधिक रैम!

“बहुत अधिक” राम एक बुरी चीज नहीं है; लेकिन यह बेकार है!

इस समय जब कई लैपटॉप अभी भी 4GB (या कुछ मामलों में 8 GB) के साथ आ रहे हैं, तो आपको सवाल करना होगा कि फोन को 10 GB की आवश्यकता क्यों होगी। जवाब एक ही : यह जरूरी नहीं है।

जबकि यह बहुत रैम अत्यधिक और ईमानदारी से कहा जाए तो मूर्खतापूर्ण है- यह उन लोगों में से एक है जो केवल वह पहले बनना चाहते हैं, जिनके माबाइल में10 GB रैम हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि इससे वास्तव में कुछ भी नुकसान होगा। लेकिन क्या आप कभी भी उतनी रैम का उपयोग करेंगे? नहीं, कम से कम अभी तो नहीं।

मोबाइल के लिए कितनी रैम पर्याप्त है?

4GB रैम

बाजार में अलग-अलग रैम क्षमता वाले स्मार्टफोन उपलब्ध हैं। 12GB तक रैम तक, आप एक खरीद सकते हैं जो आपके बजट और उपयोग के अनुकूल हो। इसके अलावा, एंड्रॉइड फोन के लिए 4 जीबी रैम को एक अच्छा विकल्प माना जाता है।

इन दिनों आपको ज्यादा से ज्यादा मेमोरी से भरे स्मार्टफोन मिल जाएंगे। और, उच्च रैम क्षमता वाले स्मार्टफोन को स्पेसिफिकेशन के लिहाज से अच्छा माना जाता है लेकिन यह महंगे हो सकते हैं। बाजार में आपको अलग-अलग रैम क्षमता वाले कई तरह के मोबाइल मिल जाएंगे। 2020 में ज्यादातर यूजर्स के लिए 8GB रैम वाला फोन काफी अच्छा है।

अगर आप बहुत सारे मल्टीटास्किंग करते हैं और बैकग्राउंड में कई ऐप चलते रहते हैं तो आपको निश्चित रूप से एक अच्छी मात्रा में रैम वाला स्मार्टफोन चाहिए। इस तरह आपको ऐप्स के अपने आप बंद होने या फोन लैग होने की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

8GB रैम वाले स्मार्टफोन हाई-एंड और मिड-रेंज दोनों सेगमेंट में उपलब्ध हैं। आप अपने बजट और अन्य आवश्यक विशिष्टताओं को ध्यान में रखते हुए चुनाव कर सकते हैं। 8GB रैम वाले फोन के साथ, आप बिना किसी लैग या मोबाइल के धीमा होने की समस्या का सामना किए बिना आसानी से मल्टीटास्क कर सकते हैं। इसके अलावा, आप एक गेम खेल सकते हैं और साथ ही संदेशों का जवाब दे सकते हैं, या स्प्रेडशीट पर काम करते हुए इंटरनेट ब्राउज़ कर सकते हैं। 8GB रैम वाले ज्यादातर फोन अच्छा परफॉर्मेंस देते हैं।

मोबाइल रैम पर अक्‍सर पुछे जाने वाले सवाल

क्या फोन में रैम मायने रखती है?

RAM बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपके फ़ोन में डेटा रखती है। आपके स्मार्टफोन में जितनी अधिक रैम होगी, आप उतने ही अधिक एप्लिकेशन जल्दी से एक्सेस कर सकते हैं। साथ ही, आप बिना किसी अंतराल के कई ऐप्स के बीच स्विच कर सकते हैं।

क्या ज्यादा रैम का मतलब है फोन का तेजी से काम करना?

हां, ज्यादा रैम एक बेहतर विकल्प माना जाता है। अधिक RAM के साथ, आपका फ़ोन डेटा को तेज़ी से एक्सेस कर सकता है। इसके अलावा, आप उन ऐप्स के बीच तेजी से स्विच कर सकते हैं जो पहले से बैकग्राउंड में चल रहे हैं।

मोबाइल में RAM का उद्देश्य क्या है?

RAM (रैंडम एक्सेस मेमोरी) स्टोरेज है जिसका उपयोग डेटा को रखने के लिए किया जाता है। यदि आपके मोबाइल डिवाइस या टैबलेट में थोड़ी मात्रा में रैम है, तो आप पाएंगे कि जब आप एक ही समय में कई अलग-अलग एप्लिकेशन खोलेंगे और उपयोग करेंगे तो यह धीमा होना शुरू हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.