धूल आपके कंप्यूटर के परफॉर्मेंस को कैसे प्रभावित करती है?

How Dust Affect Computers Performance Hindi

धूल का निर्माण आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को दो मुख्य कारणों से प्रभावित कर सकता है (और निश्चित रूप से): यह आपके कंप्यूटर के कंपोनेंट्स को गर्मी बनाए रखने का कारण बनता है और इंटरनल फैन्‍स के लिए सिस्टम से गर्मी को बाहर निकालना अधिक कठिन बना देता है, जिससे पूरे सिस्टम की एफिशिएंसी कम हो जाती है।

क्या आपने कभी नोटिस किया हैं की आपका कंप्यूटर असामान्य रूप से स्‍लो हो गया हैं? इसे बूट होने में और बेसिक टास्‍क करने में सामान्य से अधिक समय लग रहा हैं, और पहले की तुलना में अधिक बार क्रैश हो रहा हैं?

जबकि समय बीतने के साथ कंप्यूटर का स्‍लो होना एक वास्तविक चीज है और हर कंप्यूटर के साथ यह होता है, लेकिन यह प्रोसेस काफी क्रमिक होती है और सामान्य उपयोग से होने वाले नुकसान के कई वर्षों के परिणामस्वरूप होता है।

क्यों मेरा कंप्यूटर इतना स्लो है? इसका जवाब WhySoSlow आपको बताएगा!

ऐसे मामले यदि आपने सॉफ्टवेयर के मोर्चे पर जो कुछ भी कर सकते हैं वह कर लिया हैं, लेकिन फिर भी परफॉर्मेंस में कोई सुधार नहीं दिख रहा हैं, तो मुझे लगता कि कंप्यूटर कैबिनेट खोलने और अंदर देखने का समय आ गया है।

एक संक्षिप्त गाइड जिससे आप सबसे आम कंप्यूटर प्राब्लेम्स को खुद हल कर सकते हैं

“कंप्यूटर कैबिनेट” खोलने पर (कुछ लोग इसे “कंप्यूटर टॉवर” या केवल “सीपीयू” के रूप में संदर्भित करते हैं), क्या आपको अंदर धूल जमी हुई दिख रही हैं? तो यही कारण हैं की आपका कंप्यूटर इतना स्‍लो क्यों हो गया।

यदि आप उन लोगों में से एक हैं जो अपने कंप्यूटर की वास्तव में अच्छी देखभाल करते हैं, तो आप निश्चित रूप से कंप्यूटर सिस्टम में “धूल के खतरे” के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं।

थंब रूल के एक सामान्य नियम के रूप में, धूल के निर्माण को शायद ही कभी किसी संदर्भ में एक अच्छी बात माना जाता है। हालांकि, कंप्यूटर और उनके इंटरनल कंपोनेंट्स के मामले में, धूल सिस्टम के प्रदर्शन को गंभीर रूप से बाधित कर सकती है, जिससे इसकी एफिशिएंसी कम हो जाती है।

 

कंप्यूटर काम करते समय गर्मी उत्पन्न करते हैं

यहां तक ​​कि अगर आप कंप्यूटर कैसे काम करता हैं यह नहीं जानते और वास्तव में यह नहीं समझते हैं कि उनके इंटरनल सिस्टम कैसे काम करते हैं, लेकिन फिर भी आप यह तो जान ही सकते हैं कि कंप्यूटर, जैसे कि किसी भी मशीन जिसमें विद्युत सर्किट शामिल हैं, लगातार गर्मी पैदा करते हैं। अब, यह ऊष्मा आउटपुट नहीं, बल्कि इलेक्ट्रिक सर्किट के कार्यप्रणाली की अवांछनीय बायप्रोडक्ट हैं, यदि इसे नियंत्रित किया जाता है, तो यह वास्तव में एक संकेत है कि आपका सिस्टम डिज़ाइन के अनुसार काम कर रहा है। संक्षेप में, प्रत्येक कंप्यूटर काम करते समय गर्मी पैदा करता है।

वास्तव में, एक कंप्यूटर तब भी गर्मी पैदा करता है जब इसपर कोई काम नहीं कर रहे होते हैं (यह गर्मी कंप्यूटर सिस्टम के steady state पॉवर उपयोग से आती है)।

अब, एक कंप्यूटर में गर्मी का एक छोटा सा आउटपुट कुछ भी नहीं है, लेकिन जब कंप्यूटर अधिक गर्मी पैदा कर सकता है तो यह अत्यधिक गर्मी को बाहर निकाल सकता है। कंप्यूटर सिस्टम के ऐसे अनियमित हीटिंग के लिए धूल का निर्माण सबसे बड़ा योगदानकर्ताओं में से एक है।

 

कंप्यूटर कैबिनेट के अंदर धूल हवा के प्रवाह को बाधित करती हैं

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, जितना अधिक कंप्यूटर काम करता है, उतना गर्म हो जाता है। उदाहरण के लिए, जब आप अपने कंप्यूटर पर-हाई-ग्राफिक्स ’गेम खेलते हैं, तो आप इसे सामान्य से अधिक कठिन काम करने के लिए मजबूर करते हैं। नतीजतन, यह अधिक से अधिक गर्मी पैदा करता है।

दुनिया की ज्यादातर चीजों की तरह, किसी भी चीज की अति करना अक्सर ज्यादा नुकसान करती है। यह पुरानी कहावत कंप्यूटरों पर भी लागू होती है। बहुत अधिक गर्मी आपके कंप्यूटर के विभिन्न कंपोनेंट्स की कार्य क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव डालती है।

 

Processor throttling

इसे frequency scaling के रूप में भी संदर्भित किया जाता हैं, प्रोसेसर थ्रॉटलिंग कम पॉवर का उपयोग करने और ओवरहिटिंग से बचने के लिए कंप्यूटर (विशेष रूप से, इसके प्रोसेसर) को धीमा कर देता है। इसलिए, कैबिनेट के अंदर (और अधिक और प्रोसेसर के आसपास) धूल निर्माण के कारण, कैबिनेट के भीतर एयरफ्लो में बाधा आती है और कंपोनेंट्स सामान्य से अधिक गर्म हो जाते हैं। यदि थ्रॉटलिंग तापमान को गिराने में मदद नहीं करता है, तो अत्यधिक गर्मी के कारण जल जाने से बचने के लिए विभिन्न कंपोनेंट्स स्वयं को बंद कर लेते हैं।

जब अत्यधिक धूल का निर्माण होता है, तो छेद ब्‍लॉक हो जाते हैं और, परिणामस्वरूप, कैबिनेट के भीतर एक सुरक्षित तापमान बनाए रखने के लिए कूलिग फैन को अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ती है।

धूल, न केवल कैबिनेट के अंदर airflow को प्रतिबंधित करती है, बल्कि यह सीधे कूलिंग सरफेस को भी इन्सुलेट करती है, जिससे कैबिनेट के अंदर हीटिंग की समस्या बिगड़ती है।

क्यों कंप्यूटर को Restart करने पर ज्यादातर समस्याएं ठीक हो जाती हैं?

 

बार-बार सफाई करने से समस्या को ठीक करने में मदद मिलती है

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके कंप्यूटर के सभी सिस्टम कुशलता से चलते हैं, हमेशा यह रेकमेंड किया जाता हैं की कम से कम हर कुछ महीनों में एक बार अपने कंप्यूटर की कैबिनेट को ओपन करें और इसके इंटरनल कंपोनेंट्स, विशेषकर वे जो मदरबोर्ड पर होते हैं, उन्हें क्लिन करें।

यह न केवल आपके कंप्यूटर के स्‍लो होने की समस्या का ध्यान रखेगा, बल्कि सीपीयू की क्‍लॉक रेट को बढ़ाकर इसे गति भी देगा।