फर्मवेयर क्या है और सॉफ़्टवेयर से यह अलग कैसे है?

Firmware Hindi.

Firmware Hindi

What is Firmware?

फर्मवेयर क्या है?

Firmware एक सॉफ़्टवेयर है जिसे हार्डवेयर के एक हिस्से में एम्बेड किया गया है। आप फ़र्मवेयर को बस “हार्डवेयर के लिए सॉफ़्टवेयर” के रूप में सोच सकते हैं।

फर्मवेयर एक ऐसा प्रोग्राम है जो हार्डवेयर, जैसे एक कीबोर्ड, हार्ड ड्राइव, BIOS, या वीडियो कार्ड में एम्बेडेड आता है। यह इन डिवाइसेस को सिस्टम में अन्य डिवाइसेस के साथ कम्‍यूनिकेशन करने और बेसिक इनपुट/आउटपुट टास्‍क जैसे बेसिक फंक्‍शन परफॉर्म करने के लिए इंस्ट्रक्शंस देता हैं।

हालांकि, फर्मवेयर सॉफ्टवेयर के लिए एक इन्टरचेंजेबल शब्द नहीं है।

ऐसे डिवाइसेस जिन्हें आप हार्डवेयर के रूप में सोच सकते हैं जैसे कि ऑप्टिकल ड्राइव, नेटवर्क कार्ड, राउटर, कैमरा या स्कैनर, इन सभी में एक  सॉफ्टवेयर होता हैं जो हार्डवेयर में मौजूद विशेष मेमोरी में प्रोग्राम किए जाते हैं।

 

Why Does Firmware Need To Be Updated?

फ़र्मवेयर को अपडेट करने की आवश्यकता क्यों है?

कभी-कभी मैन्युफैक्चरर्स, डिवाइस (फर्मवेयर) को रन करने वाले प्रोग्रामों में इम्प्रूवमेंटस् करते है इन इम्प्रूवमेंटस् को फर्मवेयर अपडेट के रूप में जारी किए जाते हैं।

फर्मवेयर पर रने होने वाले डिवाइसेस के फर्मवेयर हमेशा अपडेट किए जाने चाहिए। फर्मवेयर अपडेट करने से, इन डिवाइसेस की कार्यक्षमता में किए गए सुधारों को तुरन्त और बिना लागत के अप्‍लाई किया जा सकता है। इससे इनका इस्‍तेमाल करते समय एक्सपीरियंस को बढ़ाया जा सकता है।

इस बात कि बहुत अधिक गारंटी की जा सकती है कि जब आप पहली बार कोई प्रोडक्ट खरीदते हैं जो फ़र्मवेयर का उपयोग करता है, तो वह अच्छे तरीके से रन नहीं होते। अधिकांश डिवाइसेस के फ़र्मवेयर में बग या होल हो सकते हैं जो अक्सर अपडेट रिलीज़ में सही हो सकते हैं।

 

How to Update Firmware?

फ़र्मवेयर अपडेट कैसे करें?

डिवाइसेस के मैन्युफैक्चरर्स अक्सर अपने हार्डवेयर के साथ कम्पेटिबल नियमित फ़र्मवेयर अपडेट जारी करते हैं।

Firmware को आप सीधे मैन्युफैक्चरर्स कि वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं या इसकी सीडी / डीवीडी से भी अपडेट कर सकते हैं।

डिवाइस के Firmware को अपडेट करना मुश्किल काम नहीं होना चाहिए। विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम सहित अधिकांश, आपको सूचित करेंगे कि आपका सिस्टम अपडेट होने के लिए कब तैयार है। जैसे ही कोई कंपनी अपने नेटवर्क के माध्यम से आवश्यक अपडेट भेजती है, तो आपको बस पीसी को शट डाउन कर उसे रिस्‍टार्ट करना होता हैं।

बाद में, आपका कंप्यूटर फास्‍ट हो सकता हैं और प्रोडक्‍ट के उपयोग को सीमित करने वाले कुछ बग भी हल हो सकते हैं।

केवल वही अपडेट को आप भरोसेमंद मान सकते हैं जो सीधे मैन्युफैक्चरर्स या सॉफ्टवेयर कंपनी द्वारा भेजे जाते हैं। किसी भी चीज को अपडेट करने के लिए कभी भी थर्ड पार्टी के सोर्स पर भरोसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह इन डिवाइसेस के फंक्शनलिटी के विपरीत हो सकता है या इससे सिस्टम में वायरस आ सकता है।

अपडेट फर्मवेयर में शायद आपके ड्राइव के लिए कंप्यूटर कोड का एक नया सेट शामिल होता है।

नेटवर्क राउटर मैन्युफैक्चरर्स अक्सर नेटवर्क के परफॉरमेंस में सुधार करने या अतिरिक्त फीचर को जोड़ने के लिए अपने डिवाइस पर फर्मवेयर के अपडेट जारी करते हैं। यह डिजिटल कैमरा मैन्युफैक्चरर्स, स्मार्टफोन मैन्युफैक्चरर्स, आदि के लिए भी जाता है।

 

Where Is The Firmware Stored?

फर्मवेयर कहाँ स्‍टोर होते है?

अब हम जानते हैं कि फर्मवेअर सॉफ्टवेयर सीधे हमारे हार्डवेयर डिवाइसेस में लिखे जाते हैं। लेकिन यह डिवाइस पर कैसे स्‍टोर होता है?

फर्मवेयर आमतौर पर विशेष प्रकार की मेमोरी में स्‍टोर होता है, जिसे फ्लैश रॉम कहा जाता है। ROM का मतलब Read Only Memory हैं और इसे केवल पढ़ सकते हैं। इस प्रकार कि मेमोरी को हार्डवेयर मैन्युफैक्चरर्स द्वारा केवल एक बार प्रोग्राम स्‍टोर होता हैं।

किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के लिए ROM की आवश्यकता होती है, क्योंकि यह डेटा को परमानेंटली स्‍टोर करता हैं भले ही डिवाइस ऑफ हो जाता है या जब कोई पावर आउटेज नहीं होता।

लेकिन फिर, फ्लैश रॉम मेमोरी एक रीराइटेबल रोम मेमोरी है, क्योंकि इसमें हार्डवेयर मैन्युफैक्चरर्स द्वारा शुरू में राइट किया जाता है, इसे बाद में अपडेट करने के लिए फिर से राइट किया जा सकता है।

बेशक, आप एक हार्डवेयर डिवाइस पर नया फर्मवेयर राइट कर सकते हैं। हालांकि, आप इसे केवल एक उचित फर्मवेयर अपडेट टूल के साथ कर सकते हैं, जो विशेष रूप से उस हार्डवेयर डिवाइस के लिए काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

 

How to Apply Firmware Updates:

फ़र्मवेयर अपडेट कैसे लागू करें:

इस बात का जवाब देना लगभग असंभव हैं कि सभी डिवाइसेस पर फर्मवेयर अपडेट कैसे इंस्‍टॉल करें, क्योंकि सभी डिवाइस समान नहीं हैं।

कुछ फ़र्मवेयर अपडेट को इंटरनेट से डाउनलोड कर सीधे इंस्‍टॉल किए जाते है, जैसा रेग्‍युलर सॉफ़्टवेयर अपडेट की तरह किया जाता हैं। लेकिन अन्‍य में फर्मवेयर को एक पोर्टेबल ड्राइव में कॉपी कर डिवाइसेस में मैन्‍युअली रूप से लोड किया जाता हैं।

 

फर्मवेयर के बारे में महत्वपूर्ण फैक्‍ट:

जैसे की सभी मैन्युफैक्चरर्स अपने प्रोडक्‍ट पर वार्निंग डिस्‍प्‍ले करते हैं, यह सुनिश्चित करना बेहद महत्वपूर्ण है कि फर्मवेयर अपडेट करते समय डिवाइस बंद नहीं होना चाहिए। क्‍योकि आंशिक फर्मवेयर अपडेट, फर्मवेयर को करप्‍ट कर सकता हैं, जो डिवाइस के काम करने को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकता है।

उतना ही महत्वपूर्ण है, डिवाइस पर गलत फर्मवेयर अपडेट करने से बचना। एक डिवाइस के फर्मवेयर को दूसरे डिवाइस पर अपडेट करने से वह वैसा काम नहीं कर सकता जैसा उसे करना चाहिए।

फर्मवेयर अपडेट करने से पहले यह हमेशा सुनिश्चित करना चाहिए कि आपने सही फर्मवेयर डाउनलोड किया हैं और वह डिवाइस के मॉडल नंबर से मैच हो रहा हैं।

फर्मवेयर अपडेट करते समय आपको पहले उस डिवाइस के मैनुअल को पढ़ना चाहिए। हर डिवाइस युनिक है और डिवाइस के फ़र्मवेयर को अपडेट या रिस्‍टोर करने के लिए एक अलग तरीका होता हैं।

 

What is Difference Between Firmware and Software?

फर्मवेयर बनाम सॉफ्टवेयर: फर्मवेयर सॉफ्टवेयर से कैसे अलग है?

अक्सर, फर्मवेयर और सॉफ़्टवेयर शब्द इंटरैक्टिव रूप से उपयोग किए जाते है, अर्थात्, मशीन पर टास्‍क करने के लिए कुछ प्रोग्राम असाइन होते हैं।

लेकिन वास्तविकता में, यह ऐसा काम है जो इन कैटेगरीज (फर्मवेयर और सॉफ्टवेयर) की रूट को डिफाइन करता है जिसमें हम उन्हें डालते हैं।

उदाहरण के लिए, सॉफ्टवेयर वर्चुअल है, इसलिए इसे कॉपी, बदला और नष्ट किया जा सकता है। इसे अक्सर उस मेमोरी में स्‍टोर किया जाता है जिसे यूजर आसानी से एक्‍सेस कर सकता हैं या यूजर द्वारा रिप्‍लेस भी हो सकता है।

लेकिन फर्मवेयर के मामले में, मेमोरी जो फर्मवेयर को स्टोर करती है वह अक्सर डिवाइस में ही एम्बेडेड होती है और यूजर इसे बदल नहीं सकते।

यह जानबूझकर किया जाता है ताकि कोई भी इसके साथ छेड़छाड़ या रिमूव न कर सके, क्योंकि डिवाइस रन होने के लिए यह महत्वपूर्ण है और यदि इसे रिमूव किया जाए तो गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

इसके अलावा, सॉफ़्टवेयर को अक्सर अपग्रेड किया जाता है, लेकिन फर्मवेयर को हमेशा अपडेट करनी कि जरूरत नहीं होती।

फ़र्मवेयर और एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर के बीच मुख्य अंतर यह है कि फ़र्मवेयर को non-volatile मेमोरी (ROM, EPROM या flash memory) में स्‍टोर किया जाता है, जबकि एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर volatile और virtual मेमोरी में होते है।

फैक्‍ट यह है कि फ़र्मवेयर उस मेमोरी में होते हैं, जिनकी साइज लिमिटेड होती है। इसका अर्थ है कि फर्मवेयर प्रोग्राम कि साइज बहुत छोटी होती हैं।

फर्मवेयर कि साइज कुछ किलोबाइट्स हो सकती है, यद्यपि यह उस डिवाइस के विशेष पर निर्भर करता है जहां आप इसे रन करते हैं। इसकी साइज कभी बड़ी भी हो सकती है।

 

Firmware Hindi:

What Is Firmware In Hindi, What Is Firmware In Computer In Hindi, Firmware Kya Hai, Firmware Meaning In Hindi.

आर्टिकल्स, जो आपको पसंद आ सकते है:

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*