डिजिटल सिग्नेटचर क्या है और यह कैसे काम करता है?

8214
Digital Signature Hindi

Digital Signature Hindi

भारत, यूरोपीय संघ और संयुक्त राज्य अमेरिका सहित दुनिया के कई हिस्सों के माध्यम से, कानूनी रूप से बाध्यकारी माने जाने वाले इलेक्ट्रॉनिक हस्ताक्षर को लागू करने के तरीके के रूप में डिजिटल सिग्नेचर को अपनाया गया है।

लेकिन यह डिजिटल सिग्नेचर क्या होता है? यह कैसे काम करते हैं?

आइए इस आर्टिकल में जानते हैं –

- Advertisement -

What is Digital Signature Hindi

डिजिटल सिग्नेचर एक मैथमेटिकल तकनीक है जो मैसेज, सॉफ्टवेयर या डिजिटल डॉक्यूमेंट की ऑथेंटिसिटी और इंटीग्रिटी को वैलिडेट करता है।

Digital Signature हाथ से लिखा हुआ सिग्नेचर या स्‍टेम्‍प सील के बराबर  होता हैं, लेकिन यह डिजिटल कम्युनिकेशन्स में छेड़छाड़ और प्रतिरूपण की समस्या को हल करता है।

Digital Signature इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट, ट्रैन्ज़ैक्शन या मैसेज के ओरिजिन, पहचान और स्थिति के प्रमाण का अतिरिक्त आश्वासन प्रदान करता हैं, साथ ही साइनर (हस्ताक्षरकर्ता) द्वारा सूचित सहमति स्वीकार कर सकते हैं।

भारत सहित कई देशों में, हाथ से साइन किए डॉक्यूमेंट जितना ही डिजिटल सिग्नेचर का कानूनी महत्व है।

डिजिटल सिग्नेचर का मतलब क्या होता है?

Digital Signature Meaning in Hindi

डिजिटल सिग्नेचर एक क्रिप्टोग्राफिक वैल्‍यू है जो डेटा से कैलकुलेट की जाती है और एक सिक्रेट Keys जिसे केवल साइनर (हस्ताक्षरकर्ता) द्वारा ही जाना जाता है।

डिजिटल सिग्नेचर क्यों जरूरी है?

Why Digital Signatures is Important?

Important of Digital Signature Hindi – यहां तीन महत्वपूर्ण कारण हैं कि Digital Signatures बहुत महत्वपूर्ण हैं:

i) Message authentication:

जब वेरिफायर Digital Signature को सेंडर key पब्‍लीक key से वैलिडेट करता हैं, तो वह आश्वस्त हो जाता हैं, कि सिग्‍नेचर केवल सेंडर द्वारा कि क्रिएट कि गई हैं।

ii) Cut costs:

पेपर और प्रिंटिंग महंगे हो सकते है। Digital Signature से कागज के कचरे को कम कर पैसे की बचत हो सकती हैं।

इससे न केवल प्रिंटिंग की कीमत कम हो जाएंगी, बल्‍की कान्फिडेन्शल फ़ाइलों की वास्तविक प्रोक्युरमेंट और प्रोसेसिंग से संबंधित खर्च भी कम होंगे।

यह पर्यावरणीय कचरे को कम करने में भी मदद करता है, क्योंकि आप डयॉक्‍यूमेंट को भेजने के लिए कुरियर मेल का उपयोग नहीं कर रहे हैं।

Iii) Improve Digital Workflow And Save Time:

कभी-कभी डयॉक्‍यूमेंट प्राप्‍त करने के लिए कई दिन लग जाते हैं। डिजिटल सिग्‍नेचर से डयॉक्‍यूमेंट कभी भी कही भी तुरंत भेजे जा सकते हैं। इससे काफी समय बचता है।

एन्क्रिप्शन क्या है? एन्क्रिप्शन कैसे काम करता है?

डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट (DSC) क्या है?

What is a Digital Signature Certificate (DSC) in Hindi?

Digital Signature एक सिग्‍नेचर का इलेक्ट्रॉनिक रूप हैI ठिक उसी प्रकार से जैसे किसी डॉक्‍यूमेंट को हाथ से किए गए सिग्‍नेचर प्रमाणित करते हैं, वैसे हि डिजिटल सिग्‍नेचर इलेक्‍ट्रॉनिक डॉक्‍यूमेंट को प्रमाणित करते हैं।

Digital Signature Certificate (DSC) को इलेक्ट्रॉनिक रूप से पहचान साबित करने के लिए, इंटरनेट पर सर्विसेस एक्सेस करने या डिजिटल डयॉक्‍यूमेंटस् पर डिजिटर साइन करने के लिए प्रस्तुत किया जा सकता है।

Digital Signature Certificate (DSC) ऑनलाइन ट्रैन्ज़ैक्शन्ज़ मे हो रहे इनफॅार्मेशन एक्‍सचेंज को हाई लेवल सिक्योरिटी प्रोवाइड करता हैं।

DSC में यूजर की पहचान (नाम, पिन कोड, देश, ईमेल एड्रेस, सर्टिफिकेट जारी किए जाने की तारीख और प्रमाणित प्राधिकारी का नाम) के बारे में जानकारी शामिल होती है।

डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट (DSC) की आवश्यकता कहां पर होती हैं?

  • इनकम टैक्‍स रिटर्न के E-filling के लिए।
  • कंपनी इनकॉर्पोशन के E-filling के लिए।
  • चार्टर्ड एकाउंटेंट्स, कंपनी सेक्रेटरी और कॉस्ट एकाउंटेंट द्वारा ई E-Attestation के लिए।
  • गवर्नमेंट टेंडर के E-filling के लिए।
  • ट्रेडमार्क और कॉपीराइट ऐप्‍लीकेशन के E-filling के लिए।
  • एग्रीमेंट और कौन्‍ट्रैंक्‍ट के ई-साइनिंग के लिए।

क्या डिजिटल सिग्नेचर सुरक्षित है?

हां, इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर सुरक्षित हैं। ई- सिग्नेचर हाथ से किए गए हस्ताक्षर की तुलना में अधिक सुरक्षित होते है।

हकीकत यह है कि गीले हस्ताक्षर आसानी से जाली और छेड़छाड़ किए जा सकते हैं, जबकि इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर में लेनदेन के अदालत-स्वीकार्य सबूत के साथ सुरक्षा और प्रमाणीकरण की कई परतें होती हैं।

कोई डिजिटल हस्ताक्षर कैसे प्राप्त कर सकता है?

How Can One Get Digital Signature?

डिजिटल सिग्‍नेचर कैसे प्राप्त कर सकते हैं?

लाइसेंस प्राप्त Certifying Authority (CA) डिजिटल सिग्‍नेचर जारी करते है। CA का अर्थ उस व्यक्ति से है, जिसे सेक्‍शन 24 के इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्‍ट, के तहत डिजिटल सिग्‍नेचर जारी करने के लिए लाइसेंस दिया गया है।

CA से DSC जारी होने के लिए एक दिन से एक सप्‍ताह तक टाइम लग सकता हैं।

हर प्रोवाइडर की फीस आम तौर पर भिन्न होती है, और वे एक या दो साल की वैलिडिटी के साथ जारी कीए जाते है।

डिजिटल सिग्नेचर के कितने क्‍लासेस हैं?

Classes Of Digital Signature

Digital Signature in Hindi – डिजिटल सिग्‍नेचर के विभिन्न क्‍लासेस हैं:

i) Class I DSC:

यह DSC यूजर की ईमेल आइडेंटिफिकेशन को वैलिडेट करता है।

ii) Class II DSC:

क्लास 2 डिजिटल सिग्नेचर (DSC) व्यक्तियों और संगठनों को DSC भारतीय और विदेशी दोनों आवेदकों के लिए दिया जाता हैं। इस प्रमाणपत्र का मुख्य कार्य हस्ताक्षरकर्ता के विवरण को प्रमाणित करना है। यह उपयोगकर्ता के पहले से उल्लिखित डेटा की फिर से पुष्टि करता है। इसका उपयोग विभिन्न फॉर्म भरने, ऑनलाइन पंजीकरण, ईमेल सत्यापन, आयकर फाइलिंग आदि में किया जाता है। क्‍लास 2 डिजिटल सिग्नेचर प्रमाण पत्र के अधिक उपयोग नीचे दिए गए हैं।

  • MCA ई-फाइलिंग
  • इनकम टैक्स ई-फाइलिंग
  • LLP रजिस्ट्रेशन
  • GST एप्लीकेशन
  • IE कोड रजिस्ट्रेशन फॉर्म 16, आदि

iii) Class III DSC:

यह DSC सटिफाइ ऑथेरिटी (CA) द्वारा सीधे जारी किया जाता है और ऑथेंटिसिटी के हाई लेवल को इंडिकेट करता है, क्योंकि इसे पाने के लिए ऐप्‍लीकंट को पंजीकरण प्राधिकरण के सामने खुद को पेश करने और अपनी पहचान साबित करने की आवश्यकता है।

IVG गाइडलाइन के अनुसार 3 डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट जो क्लास 2 सर्टिफिकेट की तुलना में ज्यादा सुरक्षित है प्रदान किया जाता हैं, यह सभी सर्टिफिकेट में सबसे सुरक्षित है। इसका उपयोग उच्च सुरक्षा और सुरक्षा के मामलों में किया जाता है। यह मुख्य रूप से ऑनलाइन ट्रेडिंग और ई-कॉमर्स में उपयोग किया जाता है, जहां बड़ी मात्रा में धन या अत्यधिक गोपनीय जानकारी शामिल होती है। यदि आप क्‍लास 3 सर्टिफिकेट का विकल्प चुनते हैं, तो क्‍लास 3 2 के लिए बनाए गए सभी एप्लीकेशन आपके प्रमाणपत्रों को पहचानने में सक्षम होने चाहिए। क्‍लास 3 सर्टिफिकेट के मुख्य कार्य निम्नलिखित हैं –

  • ई-टेंडरिंग
  • पेटेंट और ट्रेडमार्क ई-फाइलिंग
  • MCA ई-फाइलिंग
  • सीमा शुल्क ई-फाइलिंग
  • ई-खरीद
  • ई-बोली लगाने
  • ई-नीलामी, आदि

डिजिटल सिग्नेचर प्रमाणपत्र की कानूनी वैधता कितनी होती है?

What is the legal Validity of Digital Signature Certificate (DSC’s)?

डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाण पत्र (डीएससी) की कानूनी वैधता क्या है?

इनफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी एक्‍ट 2000 के अनुसार, डिजिटल सिग्‍नेचर भारत में मान्य हैं और सूचना इनफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी मिनिस्‍ट्री के तहत लाइसेंस प्रमाणित अधिकारियों द्वारा जारी किए जाते हैं।

इस वैलिडेशन के अलावा, डिजिटल सिग्‍नेचर की एक स्पष्ट स्‍टार्ट डेट और एक्‍सपाइरी डेट होती है।

एक्‍सपाइरी डेट का उपयोग Certificate Revocation List (CRL) को मैनेज करने के लिए भी किया जाता है। एक्‍सपाइरी की तारीख आने पर सर्टिफिकेट को revocation लिस्‍ट से हटा दिया जाता है।

डिजिटल सिग्नेचर और इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर में क्या अंतर है?

क्र.इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचरडिजिटल सिग्नेचर
1इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर गीले लिंक सिग्नेचर का एक डिजिटल रूप है जो कानूनी रूप से बाध्यकारी और सुरक्षित है।डिजिटल सिग्नेचर एक सुरक्षित सिग्नेचर है जो इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर के साथ काम करता है और पब्लिक की इंफ्रास्ट्रक्चर पर निर्भर करता है।
2यह पहचान को पहचानने और उस पर सहमति देने के लिए संदेश या दस्तावेज़ से जुड़ी एक प्रतीक, छवि, प्रक्रिया हो सकती है।इसे एक इलेक्ट्रॉनिक फिंगर प्रिंट के रूप में देखा जा सकता है जो किसी व्यक्ति की पहचान को एन्क्रिप्ट और पहचानता है।
3इसका उपयोग किसी दस्तावेज़ को सत्यापित करने के लिए किया जाता है।इसका उपयोग किसी दस्तावेज़ को सुरक्षित करने के लिए किया जाता है।
4इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर का सत्यापन किसी भी विश्वसनीय प्रमाणपत्र प्राधिकरण या ट्रस्ट सेवा प्रदाताओं द्वारा नहीं किया जाता है।जबकि डिजिटल सिग्नेचर का सत्यापन विश्वसनीय प्रमाणपत्र अधिकारियों या ट्रस्ट सेवा प्रदाताओं द्वारा किया जाता है।
5यह छेड़छाड़ की चपेट में आ सकता है।जबकि यह बेहद सुरक्षित है।
6इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर आमतौर पर अधिकृत नहीं होते हैं।डिजिटल सिग्नेचर आमतौर पर अधिकृत होते हैं।
7इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर सत्यापित नहीं किया जा सकता है।डिजिटल सिग्नेचर सत्यापित किया जा सकता है।
8इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर में कम सुरक्षा विशेषताएं शामिल हैं।जबकि डिजिटल सिग्नेचर अधिक सुरक्षा सुविधाओं से युक्त है।
9मौखिक, इलेक्ट्रॉनिक टिक या स्कैन किए गए सिग्नेचर ई-सिग्नेचर के सामान्य प्रकार हैं।डिजिटल सिग्नेचर के प्रकारों में Adobe और Microsoft शामिल हैं।
10इसमें कोई कोडिंग या स्‍टैंडर्ड शामिल नहीं है।जबकि डिजिटल सिग्नेचर एन्क्रिप्शन स्‍टैंडर्ड के साथ आता है।

डिजिटल सिग्नेचर कैसे काम करते हैं?

How Digital Signatures Work in Hindi?

Working of Digital Signature Hindi – Digital Signatures,  ई- सिग्नेचर प्रोग्राम के अधिकांश घटक में से हैं, और वे इलेक्ट्रॉनिक साइनिंग मेथड का उपयोग करते समय सेक्‍युरिटी, लिगल वैलिडिटी और रिकॉर्ड मैनेजमेंट एफिशिएंसी का पालन करते हैं।

जब लीज एग्रीमेंट्स, कोर्ट के मामले और एम्प्लॉयमेंट कॉन्ट्रैक्ट के कान्फिडेन्शल डॉक्यूमेंट को साइन करने कि बात आती हैं, और व्यक्तियों को यह सुनिश्चित करना होता है कि वे यथासंभव सुरक्षित हैं, तब Digital Signatures का इस्‍तेमाल किया जाता हैं।

Digital Signature in Hindi

1) सिग्‍नेचर को अप्‍लाई करना –

i) जब आप “साइन” पर क्लिक करते हैं, तो डयॉक्‍यूमेंट का एक युनिक डिजिटल फिंगरप्रिंट (जिसे हैश कहा जाता है) एक मैथमेटिकल एल्गोरिथम का उपयोग कर बनाया जाता है।

यह हैश इस विशेष डयॉक्‍यूमेंट के लिए speicifc है; यहां तक ​​कि थोड़े से बदल से भी एक अलग हैश बनेगा।

ii) हैश साइनर की प्राइवेट key का उपयोग कर एन्क्रिप्ट किया जाता है। एन्क्रिप्टेड हैश और साइनर कि पब्‍लीक key दोनो को डिजिटर सिग्‍नेचर में मिलाया जाता है, जिसे डयॉकूमेंट के साथ संलग्न किया जाता है।

iii) अब यह डिजिटली साइन डयॉक्‍यूमेंट डिस्‍ट्रीब्‍यूशन के लिए तैयार हैं।

2) सिग्‍नेचर को वेरिफाइ करना-

i) जब इस डयॉक्‍यूमेंट को किसी डिजिटल सिग्‍नेचर कैपेबल प्रोग्राम (उदा., एडोब रीडर, माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस) में ओपन किया जाता हैं, तो वे प्रोग्राम ऑटोमेटिक साइनर की पब्‍लीक Key (जिसे डयॉक्‍यूमेंट के साथ डिजिटल सिग्‍नेचर में शामिल किया था) का उपयोग कर डयॉक्‍यूमेंट के हैश को डिक्रिप्ट करते है।

ii) यह प्रोग्राम डयॉक्‍यूमेंट के लिए नए हैश को कैलकुलेट करता हैं। अगर यह नया हैश डिक्रिप्टेड हैश से मेल खाता है, तो प्रोग्राम को यह पता चलता हैं कि डयॉक्‍यूमेंट को बदला नहीं गया हैं और वह प्रोग्राम “The document has not been modified since this signature was applied” का मैसेज डिस्‍प्‍ले करता हैं।

इसके साथ ही यह प्रोग्राम साइनर का नाम भी डिस्‍प्‍ले करता हैं।

ब्लॉकचेन क्या है? ब्लॉकचेन कैसे काम करता है? एक विस्तृत गाइड

डिजिटल सिग्नेचर पर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या सीए के पास डिजिटल सिग्नेचर रखना सुरक्षित है?

सिग्नेचर की अखंडता की रक्षा के लिए, PKI के लिए आवश्यक है कि किज सुरक्षित तरीके से बनाई, संचालित और सेव कि जाएं, और अक्सर एक विश्वसनीय Certificate Authority (CA) की सेवाओं की आवश्यकता होती है। डॉक्यूसाइन जैसे डिजिटल हस्ताक्षर प्रदाता सुरक्षित डिजिटल हस्ताक्षर के लिए PKI आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।

डिजिटल सिग्नेचर का उपयोग कहाँ किया जाता है?

डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट या डीएससी या डिजिटल सिग्नेचर विभिन्न सरकारी एजेंसियों द्वारा अपनाए जा रहे हैं और अब विभिन्न अनुप्रयोगों में एक वैधानिक आवश्यकता है।
इसका उपयोग विभिन्न फॉर्म भरने, ऑनलाइन पंजीकरण, ईमेल सत्यापन, आयकर फाइलिंग आदि में किया जाता है।

मुझे डिजिटल जानकारी की आवश्यकता क्यों है?

एक डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट आपकी पहचान को इलेक्ट्रॉनिक रूप से प्रमाणित करता है। यह आपको डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट का उपयोग करके आदान-प्रदान की गई जानकारी की पूर्ण गोपनीयता सुनिश्चित करके आपके ऑनलाइन लेनदेन के लिए उच्च स्तर की सुरक्षा प्रदान करता है। आप जानकारी को एन्क्रिप्ट करने के लिए सर्टिफिकेट का उपयोग कर सकते हैं, ताकि केवल इच्छित प्राप्तकर्ता ही इसे पढ़ सके। आप प्राप्तकर्ता को यह आश्वस्त करने के लिए डिजिटल रूप से सिग्नेचर कर सकते हैं कि इसे ट्रांज़िट में नहीं बदला गया है, और संदेश भेजने वाले के रूप में अपनी पहचान भी सत्यापित कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.