केवल 4 स्टेप्स में निकाले आपके एंड्राइड फ़ोन से किसी भी वायरस को

Detect Remove Virus from Android Phone

इस हफ्ते, Google ने लोकप्रिय CamScanner PDF क्रिएटर ऐप को हटा दिया, जिसे Google Play स्टोर से एक मिलियन से अधिक बार डाउनलोड किया गया है, क्योंकि यह ऐप यूजर्स के स्‍मार्टफोन पर मैलवेयर पहुंचा रहा था।

दुर्भाग्य से, जब मोबाइल मैलवेयर की बात आती है, तो एंड्रॉइड फोन में मैलवेयर होने या नहीं होने में संदिग्ध अंतर होता हैं, यह भी हैं कि मैलवेयर कहीं भी पॉपअप विज्ञापन डिलीवरी सेवाओं से लेकर परिष्कृत मोबाइल स्पायवेयर तक कुछ भी हो सकता है जो हैकर को आपकी हर कार्रवाई की जासूसी करने की अनुमति देता है।

 

How Detect and Remove Virus from Android Phone in Hindi

इसलिए यदि आपको लगता है कि आपके फोन में वायरस है (नीचे  इसके 5 लक्षण भी बताएं गए हैं), तो आप निश्चित रूप से इसे हटाने के लिए ये कदम उठा सकते हैं-

 

1) Uninstall any suspicious apps from your mobile:

किसी भी संदिग्ध ऐप को अनइंस्टॉल करें

यदि आपको अपने मोबाइल पर एक ऐसा ऐप दिखाई देता हैं, जिसे आपको याद नहीं हैं की कब इंस्‍टॉल किया था, तो यह एक रेड सिग्‍नल हो सकता हैं।

इसके साथ ही अन्य ऐप, विशेष रूप से छोटे डेवलपर्स के मुफ्त ऐप, इसमें एडवेयर हो सकते हैं। इसलिए यदि आप ऐसे ऐप्स देखते हैं जिनकी आपको आवश्यकता नहीं है, तो उन्हें तुरंत अनइंस्टॉल करें, बस सुरक्षित रहने के लिए।

एप्लिकेशन को अनइंस्टॉल करने के लिए, आमतौर पर हर फोन में इस मार्ग से जाएं –

Settings –> Apps या Apps and Notifications –> All Apps

और फिर उस एप पर टैप करें जो संदिग्ध हैं।

अब आपको एक Uninstall बटन दिखना चाहिए, जो मैलवेयर को हटाने के लिए पर्याप्त हो सकता है।

हालाँकि, अगर अनइंस्टॉल बटन को हटा दिया गया है, तो ऐप को एडमिन एक्सेस मिल सकता है, जिससे इसे हटाना मुश्किल हो जाएगा।

इस स्थिति में,

Settings –> Security & location –> Advanced –> Device admin apps में जाएं।

यहां चेक करें की किसी ऐप को इस लिस्‍ट में एक्‍सेस हैं या नहीं। यदि हां, तो आप इसे डिसेबल करने के लिए ऐप पर टैप कर सकते हैं, जिससे आपको Apps & notifications मेनू से इसे अनइंस्टॉल करने की अनुमति मिलनी चाहिए।

 

2) Scan through an antivirus app

एंटीवायरस स्कैन रन करें

किसी डिवाइस पर मैलवेयर की पुष्टि करने का सबसे निश्चित साधन एंटीवायरस स्कैन रन करना है। मोबाइल एंटीवायरस आटोमेटिकली डाउनलोड को स्कैन कर सकते हैं और उन ऐप्स के बारे में चेतावनी दे सकते हैं जो आपकी व्यक्तिगत जानकारी को लीक कर सकते हैं, आपके डिवाइस पर पॉप-अप विज्ञापन की अनुमति दे सकते हैं या आपके फोन की बैटरी की लाइफ को कम कर सकते हैं।

परेशान है एंड्रॉइड स्मार्टफोन के परफॉरमेंस और बैटरी लाइफ से, तो इस पोस्‍ट को पढ़े!

Kaspersky, Avast, Norton और AVG जैसे प्रमुख सुरक्षा सॉफ्टवेयर प्रदाताओं के पास भी एंड्रॉइड ऐप हैं, जिनमें से कुछ के लिए पैसे खर्च करने पड़ते है, लेकिन आमतौर पर सभी एक मुफ्त विकल्प प्रदान करते हैं। आप इनमें से कोई भी ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं, बस Google Play से कुछ कम रैंक के सेक्‍युरिटी ऐप डाउनलोड न करें, इनमें से कई ऐप, करते तो कुछ भी नहीं लेकिन अपने स्वयं के सुरक्षा मुद्दे भी बना सकते हैं।

अपने एंटीवायरस ऐप में जाएं और एक स्कैन को सिलेक्‍ट करें, जो तब आपके डिवाइस के लिए खतरा साबित हो रहे सटीक ऐप को मार्क न करें। आप सीधे ऐप से मैलवेयर हटाने में सक्षम हो सकते हैं, या आपको इसे मैन्युअल रूप से अनइंस्टॉल करने की आवश्यकता हो सकती है।

यदि पहले सेक्‍युरिटी एप के स्कैन कुछ भी नहीं मिलता है, तो आप एक दूसरा एंटीमालवेयर ऐप डाउनलोड कर उससे स्‍कैन कर सकते हैं, क्योंकि मैंने देखा है कि ये सेक्‍युरिटी प्रोग्राम उस वायरस ऐप में भिन्न हो सकते हैं जिसका वे पता लगाते हैं।

(यह ध्यान देने योग्य है कि एंटीवायरस ऐप्स बहुत अधिक फ़ोन बैटरी खा सकते हैं, खासकर यदि आप हमेशा स्‍कैन फीचर को एनेबल करते हैं।)

 

3) Reset your phone to Factory reset

यदि संदिग्ध एप्लिकेशन को अनइंस्टॉल करने पर भी आपके फ़ोन में कष्टप्रद पॉप-अप मैसेजेज आ रहे है, तो आपको factory reset करने का परमाणु विकल्प लेने की आवश्यकता हो सकती है, जो आपके फोन की इंटरनल मेमोरी के डेटा के साथ पूरे फ़ोन को साफ़ कर देगा।

इस स्‍टेप को करने से पहले सुनिश्चित करें कि आपने अपने फोन का फ़ोटो और मीडिया के बैकअप लिया हैं, और कोई भी मैसेज जिसे आप सेव करना चाहते हैं।

इसके बाद,

Settings –> System –> Advanced –> Reset options –> Erase all data पर टैप करें।

 

4) Stop the malware from re-installing

एक बार जब आपका फोन मालवेयर से क्लिन हो जाता है, तो आप जो डाउनलोड करते हैं और जहां से डाउनलोड करते हैं, उससे सावधान रहना अच्छा होगा। हमेशा Google Play या अन्य विश्वसनीय स्रोतों से एप्लिकेशन डाउनलोड करें और केवल उन ऐप्स को डाउनलोड करें जिनकी आपको वास्तव में आवश्यकता है और वे सुरक्षित हैं – फिर भी, इस पर पैनी नज़र रखें कि क्या आप वास्तव में उस लोकप्रिय गेम को डाउनलोड कर रहे हैं जिसके बारे में आपने पढ़ था, या यह केवल उस ऐप का एक चतुर नकली ऐप हैं।

गूगल प्‍ले पर नकली ऐप आपको बेवकूफ़ बना सकते हैं! कैसे पहचानेंगे आप इन्हें?

 

Signs your Android phone is infected with malware

लक्षण – आपका एंड्रॉइड फोन मालवेयर से संक्रमित होने के

जबकि आपका फोन एक मैलवेयर संक्रमण के स्पष्ट लक्षण प्रदर्शित कर सकता है, अक्सर, दुर्भावनापूर्ण एप्लिकेशन फोन पर निष्क्रिय रहते हैं। इसके बजाय, क्षति आपके बैंक कार्ड या फ़ोन बिल पर असामान्य रूप से उच्च डेटा शुल्क के साथ चार्ज के रूप में दिखाई देती है।

“हर दिन यूजर को आमतौर पर अपने फोन पर कुछ गलत नहीं दिखाई देता, जब तक कि बहुत देर हो चुकी होती हैं, क्योंकि खुली आंखों से मैलवेयर का पता लगाना मुश्किल है, विशेष रूप से परिष्कृत मैलवेयर के मामले में, उदाहरण के लिए, वे SMS नोटिफिकेशन्स को छिपा सकते हैं या आपके डिवाइस पर उसी समय काम करते हैं जब वह चार्ज हो रहा होता है (ताकि आपका ध्यान उसपर न जाए)।

 

1) Low battery life:

यदि आप अनजाने में एक क्रिप्टोक्यूरेंसी माइनर डाउनलोड कर लेते हैं, तो संभव है कि आपके फोन की बैटरी लाइफ सामान्य से बहुत तेज खत्म हो जाएगी। हालांकि एंड्रॉइड बैटरी ड्रेन के कई अन्य कारण हो सकते हैं।

 

2) Phone becomes slower:

मालवेयर जो लगातार अपने मालिक को सूचना भेज रहा होता है, आपके फ़ोन की प्रोसेसिंग पावर को रोक सकता है, जिसके परिणामस्वरूप उसका सामान्य प्रदर्शन धीमा हो सकता है।

 

3) Higher data usage:

इसी तरह, आपके फोन की सारी जानकारी चोरी-छिपे अपने मालिक को भेजने के लिए यह बहुत सारे डेटा की खपत भी करता हैं।

इसलिए अपनी settings में चेक करें, की आप महिनें में कितने डेटा की खपत कर रहे हैं। यदि यह सामान्य से ज्यादा हैं, यह मैलवेयर की निशानी हो सकती हैं।

 

4) Getting suspicious notifications from banks and unknown services:

यदि बैंकिंग मालवेयर आपकी डिटेल्स चुराता है, तो इसका परिणाम आपके बैंक – या किसी अन्य वित्तीय संस्थान में हो सकता है – आपको शुल्क या आपके नाम से खोले गए नए खातों को सूचित करना। SMS मालवेयर आपको केवल आपके द्वारा भुगतान की गई फीस की सूचना भेजने के साथ ही प्रीमियम टेक्‍स्‍ट सर्विसेस में भी प्रकट कर सकता है।

 

5) Pop up ads:

मोबाइल पर वेब ब्राउज़ करते समय आपको बहुत सारे पॉप-अप दिखाई दे रहे हैं? तो आप एडवेयर से संक्रमित हो गए होंगे। पॉपअप का मतलब यह हो सकता है कि मैलवेयर ने खुद को ओएस के भीतर स्थापित किया है और पॉपअप के लिए एक ट्रिगर है जो सामान्य तरीकों पर आधारित है जो उपयोगकर्ता अपने फोन को संचालित करेंगे। यह विचार उपयोगकर्ताओं को जोड़ने के लिए है कि वे किसी विज्ञापन या ऑफ़र पर क्लिक करने की सबसे अधिक संभावना रखते हैं, जिससे किसी अन्य बिटवेयर को डाउनलोड करने की क्षमता होती है जिससे उनके डिवाइस या डेटा को अधिक नुकसान होता है।

और अगर आपके फ़ोन में मैलवेयर नहीं है, तो भी ध्यान रखें कि आपके फ़ोन हैक होने के अन्य तरीके भी हैं।

How Detect and Remove Virus from Android Phone in Hindi