कम्प्यूटर वायरस के 8 टाइप – समझे वे क्या हैं और क्या करते हैं

Computer Viruses Types Hindi.

Computer Viruses Types Hindi में

What Is Computer Virus In Hindi:

ह्यूमन वायरस की तरह, कंप्यूटर वायरस भी कई रूपों में आते हैं और आपके पीसी को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित कर सकते हैं।

जाहिर है, आपका पीसी को होने पर बिस्तर पर एक सप्ताह बिताने के लिए नहीं जाता और नहीं इसे हमारी तरह एंटीबायोटिक दवाओं के कोर्स की आवश्यकता होती है। लेकिन एक गंभीर इन्फेक्शन आपके सिस्टम पर कहर बरसा सकता है।

वे आपकी फ़ाइलों को डिलीट कर सकते हैं, आपके डेटा कि चोरी कर सकते हैं, और आसानी से नेटवर्क पर अन्य डिवाइस पर फैल सकते हैं।

कंप्यूटर वायरस के विभिन्न प्रकार हैं। इन्‍हे कई सारे कंप्‍यूटर एक्‍सपर्ट कई सारी बातो आधार पर इन्‍हे क्लासिफाइड करते हैं, जैसे टेक्निक्स, ओरिजिन, अफेक्टेड फ़ाइल टाइप, डैमेज, ओएस, प्‍लैटफॉर्म अटैक और इसके साथ ही वे कौनसी जगह पर छिपे होते हैं आदि।

इसलिए कंप्यूटर वायरस के कितने टाइप होते हैं इस सवाल का जवाब अपेक्षाकृत कठिन है।

लेकिन इस पोस्‍ट में निम्न मुख्‍य वायरस टाइप को शामिल किया गया है:

 

एंटीवायरस सॉफ्टवेयर क्या हैं और वे कैसे काम करते हैं?

 

Computer Viruses Types Hindi में:

1) Resident Virus in Hindi:

Resident viruses आपके पीसी पर सीधे खुद को इंस्‍टॉल करते हैं।

Resident Virus आमतौर पर कंप्यूटर मेमोरी में खुद को छिपाते और स्‍टोर करते है, जिससे वायरस प्रोग्रामिंग के आधार पर कंप्यूटर द्वारा रन हो रहे किसी भी फ़ाइल को इन्फेक्ट करने की अनुमति इन्‍हे आसानी से मिलती है।

एक Resident Virus अपने प्रतिकृति मॉड्यूल को मेमारी में लोड करता हैं, ताकि इसे अन्य फाइलों को इन्फेक्ट करने के लिए एक्सेक्यूट होने की आवश्यकता न हो, बल्कि यह तब ही सक्रिय हो जाता है जब ऑपरेटिंग सिस्टम एक विशिष्ट फ़ंक्शन लोड या ऑपरेट करता है।

यह वायरस सबसे खराब प्रकारों में से एक हो सकता है क्योंकि वे सिस्टम को प्रभावित कर सकते हैं और एंटी-वायरस ऐप्‍लीकेशन को वे अटैच हो सकते हैं,जिससे एंटी-वायरस प्रोग्राम द्वारा स्कैन किए गए किसी फ़ाइल को इन्फेक्ट करने की अनुमति मिल जाती है।

 

2) Overwrite Virus in Hindi:

एंड-यूज़र के लिए, एक Overwrite Virus सबसे निराशाजनक में से एक है, भले ही वह संपूर्ण रूप से आपके सिस्टम के लिए खतरनाक न हो।

ऐसा इसलिए है क्योंकि यह जिस फाइल को इन्फेक्ट करता हैं उसके सभी कंटेंट को डिलीट कर देता हैं।

 

इस वायरस को रिमूव करने का एकमात्र तरीका इन फाइलों को डिलीट करना होता हैं और इसके परिणामस्वरूप आप अपने डेटा को भी खो देते हैं।

Overwrite Virus आमतौर पर कम पाए जाते है और वे ईमेल के द्वारा फैलते है, जिससे उन्हें एवरेज पीसी यूजर्स के लिए पहचानना मुश्किल हो जाता है।

 

3) Direct Action Virus in Hindi:

Direct Action Virus यह पहले के दोनों infector viruses और resident virus के दो मुख्य प्रकारों में से एक है।

यह वायरस आपके पीसी पर न तो अपने आप इंस्‍टॉल होता हैं या नहीं मेमोरी में छिपा रहता हैं।

लेकिन इस वायरस कि एक अच्‍छी बात यह हैं कि यह आपके फ़ाइलों के कंटेंट को डिलीट नहीं करता।

इस वायरस से एक तरफ़ कुछ फ़ाइल इन-एक्सेसिबल होती हैं, लेकिन इसका असर कम होता हैं और इसे आसानी से अच्‍छे एंटिवायरस से रिमूव किया जा सकता हैं।

 

4) Boot Sector Virus in Hindi:

यूजर के नजरिए से, कुछ बूट सेक्टर वायरस खतरनाक होते हैं। क्योंकि वे मास्टर बूट रिकॉर्ड को इन्फेक्ट करते हैं और डिलीट करने के लिए बेहद मुश्किल हैं, अक्सर इसे रिमूव करने के लिए आपको अपनी सिस्टम फॉर्मेट करने की आवश्यकता होती है।

बूट सेक्टर वायरस एक कंप्यूटर वायरस है जो स्टोरेज डिवाइस के master boot record (MBR) को इन्फेक्ट करता है। यह अनिवार्य नहीं है कि पीसी को इन्फेक्ट करने के लिए पीसी बूट होना चाहिए। नतीजतन, यहां तक ​​कि नॉन-बूटेबल मीडिया भी बूट सेक्टर वायरस को स्‍प्रेड कर सकते है।

यह वायरस अपने इन्फेक्टेड कोड को फ्लॉपी डिस्क के बूट सेक्टर या हार्ड डिस्क के पार्टीशन टेबल में कॉपी करते हैं।

स्टार्ट-अप के दौरान, वायरस कंप्यूटर की मेमोरी में लोड हो जाते है। जैसे ही वायरस मेमोरी में सेव हो जाते है, यह सिस्‍टम के द्वारा इस्‍तेमाल हो रहे डिस्क को भी इन्फेक्ट करता है।

वे आमतौर पर रिमूवेबल मीडिया के माध्यम से प्रसारित होते हैं। वे 1990 के दशक में चरम पर पहुंच गए थे जब फ्लॉपी डिस्क बहुत ज्‍यादा इस्‍तेमाल हो रहे थे, लेकिन अब वे यूएसबी ड्राइव और ईमेल में भी आ सकते हैं।

सौभाग्य से, BIOS आर्किटेक्चर में किए गए सुधारों ने पिछले कुछ सालों में उनकी व्यापकता कम कर दी है।

 

5) Overwrite Viruses in Hindi:

यह कंप्यूटर वायरस होस्ट कंप्यूटर सिस्टम के फ़ाइल डेटा पर अपना कोड कॉपी कर ओरिजनल प्रोग्राम को नष्‍ट कर देता हैं।

एंटीवायरस प्रोग्राम का उपयोग कर कंप्यूटर सिस्टम को क्लिन करने के बाद, यूजर को फिर से ओरिजनल प्रोग्राम को इंस्टॉल करना होगा।

इस वायरस को क्लिन करने का एकमात्र तरीका हैं कि फाइल को पूरी तरह से डिलीट कर दे, जिससे आप अपना डेटा खो सकते हैं।

इस वायरस के उदाहरणों में शामिल हैं: Way, Trj.Reboot, Trivial.88.D.

 

6) Multipartite Virus in Hindi:

जबकि कुछ वायरस किसी एक मेथड या एक माध्‍यस से स्‍प्रेड होने में खुश होते हैं, Multipartite viruses यह सब चाहता हैं।

यह वायरस एक ही बार में कई माध्‍यम से फैलते हैं और इन्फेक्टेड कंप्यूटर पर इसे रिमूव करने के लिए अलग अलग एक्‍शन लेने होते हैं जो ऑपरेटिंग सिस्टम पर डिपेन्ड होता हैं।

Multipartite Virus तेज़ी से फैलने वाला वायरस हैं जो फ़ाइल इंफेक्टर्स या बुट इंफेक्टर्स का उपयोग कर बुट सेक्‍टर और एक्सेक्यूटेबल फ़ाइल पर अटैक करता हैं।

अधिकांश वायरस या तो बूट सेक्टर, सिस्टम या प्रोग्राम फाइल को प्रभावित करते हैं। इससे Multipartite वायरस किसी भी अन्य प्रकार की तुलना में अधिक नुकसान का कारण बनता हैं।

एक Multipartite वायरस कंप्यूटर सिस्टम को कई बार और अलग-अलग समयों में इफेक्ट्स करता है। इसे रिमूव करने के लिए, पूरे वायरस को सिस्टम से हटा दिया जाना चाहिए।

 

7) Polymorphic Virus in Hindi:

Polymorphic क वायरस एक कॉम्प्लिकेटेड कंप्यूटर वायरस है जो डेटा टाइप और फंक्‍शन को प्रभावित करता है। यह एक सेल्‍फ-एन्क्रिप्टेड वायरस है जिसे एंटिवायरस के स्‍कैनर में डिटेक्‍ट होने से बचने के लिए बनाया गया हैं।

इन्फेक्शन होने पर, Polymorphic वायरस अपनी खुद कि उपयोग करने योग्‍य लेकिन थोड़ी मॉडिफाइड डुप्लिकेट कॉपी बनाता हैं।

इन वायरस को स्कैनीग करने के लिए ब्रुट फोर्स प्रोग्राम का उपयोग किया जाता हैं। यह वायरस एंटि-वायरस को डिटेक्‍ट करने में सबसे कठिन हैं।

 

8) Ransomware:

Ransomware मैलवेयर का एक प्रकार है जो युजर्स को उनके सिस्‍टम या फाइलों का एक्‍सेस रोक देता है। और फिर इसके लिए युजर्स से पैसे कि मांग करता हैं।

 

Computer Viruses Types Hindi.

Computer Viruses Types Hindi, Types of Computer Viruses in Hindi. Virus Details in Hindi. What Is Computer Virus In Hindi.