Computer Generation Hindi में! क्या आप जानते हैं कम्प्यूटर की इन पीढ़ीओं को?

2315

Computer Generation Hindi

Computer Generation Hindi

Generation Of Computer In Hindi:

कंप्यूटर हमारे रोजमर्रा की जिंदगी का एक अभिन्न हिस्सा हैं। लेकिन आज हम जिस कंप्‍यूटर का इस्‍तेमाल करते हैं वे एक दिन में नहीं बने। कंप्‍यूटर का इतिहास पुराना हैं जो लगभग 1940 के बाद शुरू हुआ।

कंप्यूटर का इतिहास कई दशकों से चला आ रहा है और हर एक दशक में इसमे क्रातिकारी बदलाव हुए हैं।

कंप्‍यूटर के इतिहास को पाच पीढ़ीओं में बाटा गया हैं। प्रत्येक पीढ़ी को एक महत्वपूर्ण टेक्नोलॉजिकल डेवलपमेंट से परिभाषित किया गया है जिसने मूल रूप से कंप्यूटर कैसे ऑपरेट होता है – अधिक कॉम्पैक्ट, कम खर्चीला, लेकिन अधिक पावरफुल, कुशल और मजबूत मशीनों में बदल दिया।

आज तक कम्प्यूटर की पांच पीढ़ीया/जनरेशन हैं। प्रत्येक जनरेशन के टाइम-पिरियड और कैरेक्टरिस्टिक के साथ विस्तार से डिटेल्‍स दिए गए है।

 

Computer Generation Hindi:

जनरेशन ऑफ कंप्यूटर-

Five Generation Of Computer In Hindi-

First Generation of Computer in Hindi

First Generation of Computer in Hindi – कंप्यूटर की पहली पीढ़ी:

तीन मशीनों को पहले इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर के रूप में कई बार प्रचारित किया गया है। इन मशीनों ने इलेक्ट्रोकेमिकल रिले के बजाय वैक्यूम ट्यूब के रूप में इलेक्ट्रॉनिक स्विच का उपयोग किया। सिद्धांत रूप में इलेक्ट्रॉनिक स्विच अधिक विश्वसनीय होंगे, क्योंकि उनके पास कोई हिलने वाला भाग नहीं होगा जो कि खराब हो जाएगा, लेकिन उस समय भी तकनीक नई थी और ट्यूब विश्वसनीयता में रिले के लिए तुलनीय थे। हालांकि, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का एक प्रमुख लाभ था: वे यांत्रिक स्विचों की तुलना में 1,000 गुना तेज ‘ओपन’ और ‘क्‍लोज’ कर सकते थे।

आयोवा राज्‍य में भौतिकी और गणित के प्रोफेसर जे. वी. अटानासॉफ द्वारा 1937 में इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर बनाने का सबसे पहला प्रयास था। अटानासॉफ ने एक ऐसी मशीन का निर्माण किया जो उनके स्नातक छात्रों को पार्शियल डिफरेंशियल समीकरणों के सिस्टम को हल करने में मदद करेगी। 1941 तक उन्होंने और स्नातक छात्र क्लिफोर्ड बेरी ने एक ऐसी मशीन बनाने में कामयाबी हासिल की, जो 29 अज्ञात के साथ एक साथ 29 समीकरणों को हल कर सकती थी। हालांकि, मशीन प्रोग्राम करने योग्य नहीं थी, लेकिन एक इलेक्ट्रॉनिक कैलकुलेटर से अधिक थी।

1943 में ब्रिटिश सेना के लिए एलन ट्यूरिंग द्वारा डिजाइन की गई एक दूसरी प्रारंभिक इलेक्ट्रॉनिक मशीन Colossus थी। द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मन सेना द्वारा इस्तेमाल किए गए कोड को तोड़ने में इस मशीन ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। कंप्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में ट्यूरिंग का मुख्य योगदान ट्यूरिंग मशीन का विचार था, एक गणितीय औपचारिकता जिसका उपयोग कम्प्यूटेशनल कार्यों के अध्ययन में व्यापक रूप से किया जाता है। युद्ध समाप्त होने के काफी समय बाद तक Colossus के अस्तित्व को गुप्त रखा गया था, और ट्यूरिंग और उनके सहयोगियों के पहले काम करने वाले इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटरों को डिजाइन करने के लिए श्रेय देने में देरी हुई।

विश्व युद्ध ने कई विकासों को जन्म दिया और कंप्यूटर युग की शुरुआत की। Electronic Numerical Integrator and Computer (ENIAC) का निर्माण यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सिल्विल्वेनिया और अमेरिकी सरकार के बीच एक साझेदारी द्वारा किया गया था। इसमें 18,000 वैक्यूम ट्यूब और 7000 रेसिस्टर्स शामिल थे। यह जॉन प्रेपर एकर्ट और जॉन डब्ल्यू मौली द्वारा विकसित किया गया था और यह एक सामान्य उद्देश्य वाला कंप्यूटर था।

1943 में सेना आयुध विभाग द्वारा वित्त पोषित कार्य शुरू हुआ, जिसे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बैलिस्टिक की गणना के लिए एक तरीके की आवश्यकता थी। मशीन 1945 तक पूरी नहीं हुई थी, लेकिन तब हाइड्रोजन बम के डिजाइन के दौरान गणना के लिए इसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया गया था। 1955 में जब यह अपघटित हो गया था, तब तक इसका उपयोग पवन सुरंगों, रैंडम नंबर जनरेटर और मौसम की भविष्यवाणी के डिजाइन पर शोध के लिए किया गया था। ENIAC प्रोजेक्ट के सलाहकार, एकर्ट, मौचली और जॉन वॉन न्यूमैन ने ENIAC समाप्त होने से पहले एक नई मशीन पर काम शुरू किया।

इस अवधि के दौरान सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी बहुत ही आदिम थी। पहले प्रोगाम्‍स को मशीन कोड में लिखा गया था, अर्थात् प्रोग्रामर ने सीधे उन नंबर्स को लिखा था जो उन निर्देशों के अनुरूप थे जिन्हें वे मेमोरी में स्टोर करना चाहते थे। 1950 के दशक तक प्रोग्रामर एक प्रतीकात्मक संकेतन का उपयोग कर रहे थे, जिसे असेंबली भाषा के रूप में जाना जाता था, फिर प्रतीकात्मक संकेतन को मशीन कोड में परिवर्तित किया गया। बाद के प्रोग्राम्‍स को असेंबलर के रूप में जाना जाता है, ट्रांसलेशन टास्‍क करते हैं।

First Generation of Computer

संक्षेप में:

  • अवधि: 1942-1955
  • टेक्‍नोलॉजी: वैक्यूम ट्यूब
  • एक कॅल्क्युलेटिंग डिवाइस के रूप में उपयोग किया जाता था।
  • कॅल्क्युलेशन्स को मिलीसेकंड में किया जाता था।
  • आकार में भारी और डिजाइन में जटिल।
  • इसे रखने के लिए बड़े कमरे की आवश्यकता है।
  • बहुत अधिक गर्मी पैदा करता है।
  • निरंतर हार्डवेयर मेंटेनेंस की आवश्यकता है।
  • बहुत गर्मी पैदा करता है इसलिए एयर-कंडीशनर कमरों की आवश्यकता होती है।
  • कमर्शियल प्रॉडक्‍शन मुश्किल और महंगा है।
  • कॉन्फ़िगर करना मुश्किल है।
  • सीमित व्यावसायिक उपयोग।
  • ENIAC, EDVAC, EDSAC पहली पीढ़ी के कंप्यूटर के उदाहरण हैं।

 

पहली पीढ़ी की मुख्य विशेषताएं हैं –

  • वैक्यूम ट्यूब टेक्नोलॉजिकल
  • अविश्वसनीय
  • केवल मशीन सपोर्ट लैग्‍वेज
  • बहुत क़ीमती
  • बहुत गर्मी उत्पन्न होती थी
  • स्‍लो इनपुट और आउटपुट डिवाइस
  • विशाल आकार
  • एसी की आवश्यकता
  • गैर-पोर्टेबल
  • बहुत अधिक बिजली खपत

 

इस पीढ़ी के कुछ कंप्यूटर थे –

  • ENIAC
  • EDVAC
  • UNIVAC
  • IBM-701
  • IBM-650

 

Second Generation of Computer in Hindi

Second Generation of Computer in Hindi – कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी:

कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी का पिरियड 1959 से 1965 के बीच था।

दूसरी पीढ़ी ने कंप्यूटर सिस्टम डिजाइन के सभी स्तरों पर कई महत्वपूर्ण विकास देखे, तकनीक से लेकर वैज्ञानिक एप्‍लीकेशन्‍स को लिखने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रोग्रामिंग लैग्‍वेज क में बुनियादी सर्किट का निर्माण किया।

ट्रांजिस्टर द्वारा वैक्यूम ट्यूबों के प्रतिस्थापन ने कंप्यूटिंग की दूसरी पीढ़ी के आगमन को देखा। हालांकि पहली बार 1947 में आविष्कार किया गया था, लेकिन 1950 के दशक तक ट्रांजिस्टर कंप्यूटर में महत्वपूर्ण रूप से उपयोग नहीं किए गए थे। वे वैक्यूम ट्यूब पर एक बड़ा सुधार थे, फिर भी कंप्यूटर को गर्मी के स्तर तक नुकसान पहुंचाने के बावजूद। हालाँकि, वे वैक्यूम ट्यूबों से बेहद बेहतर थे, जिससे कंप्यूटर छोटे, तेज, सस्ते और बिजली के उपयोग में कम थे। वे अभी भी इनपुट / प्रिंटआउट के लिए पंच कार्ड पर निर्भर थे।

लैग्‍वेज गुप्त बाइनरी लैग्‍वेज से प्रतीकात्मक (असेंबली) लैग्‍वेज तक विकसित हुई। इसका मतलब था कि प्रोग्रामर शब्दों में निर्देश बना सकते हैं। लगभग उसी समय हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैग्‍वेज को विकसित किया जा रहा था (COBOL और FORTRAN के प्रारंभिक संस्करण)। ट्रांजिस्टर से चलने वाली मशीनें उनकी मेमोरी में निर्देशों को संग्रहीत करने वाले पहले कंप्यूटर थे – मैग्‍नेटिक ड्रम से मैग्‍नेटिक कोर ‘प्रौद्योगिकी’ की ओर बढ़ते हुए। इन मशीनों के शुरुआती वर्शन को परमाणु ऊर्जा उद्योग के लिए विकसित किया गया था।

दूसरी पीढ़ी ने विशेष रूप से वैज्ञानिक एप्‍लीकेशन में न्यूमेरिक प्रोसेसिंग के लिए डिज़ाइन किए गए पहले दो सुपर कंप्यूटरों को भी देखा। शब्द “ सुपरकंप्यूटर ” आमतौर पर एक ऐसी मशीन के लिए आरक्षित होता है, जो अपने युग की अन्य मशीनों की तुलना में अधिक शक्तिशाली होती है। 1950 के दशक की दो मशीनें इस खिताब की हकदार हैं। लिवरमोर एटॉमिक रिसर्च कंप्यूटर (LARC) और IBM 7030 (उर्फ Stretch) उन मशीनों के शुरुआती उदाहरण थे जिन्होंने प्रोसेसर ऑपरेशन के साथ मेमोरी ऑपरेशन को ओवरलैप किया था और समानांतर प्रोसेसिंग के आदिम रूप थे।

Second Generation of Computer

 

दूसरी पीढ़ी की मुख्य विशेषताएं हैं –

  • ट्रांजिस्टर का उपयोग
  • प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में विश्वसनीय
  • प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में छोटा आकार
  • पहली पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में कम गर्मी उत्पन्न
  • पहली पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में कम बिजली खपत
  • पहले पीढ़ी के कंप्यूटर्स की तुलना में फास्‍ट
  • बहुत महंगे
  • एसी आवश्यक
  • मशीन और असेंबली लैग्‍वेज सपोर्ट

 

इस पीढ़ी के कुछ कंप्यूटर थे –

  • IBM 1620
  • IBM 7094
  • CDC 1604
  • CDC 3600
  • UNIVAC 1108

Third Generation of Computer in Hindi

Third Generation of Computer in Hindi – कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी:

कंप्‍यूटर की तीसरी पीढ़ी का पिरियड 1965 से 1971 तक था।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में ट्रांजिस्टर की जगह पर Integrated Circuits (ICs) का इस्तेमाल किया गया। एक IC में कई Transistors, Resistors, और Capacitors एसोसिएटेड सर्किट्री के साथ थे।

IC का आविष्कार जैक कल्बी ने किया था। इस विकास ने आकार में छोटे, विश्वसनीय और कुशल कंप्यूटर बनाए। इस पीढ़ी में रिमोट प्रोसेसिंग, टाइम-शेयरिंग, मल्टीप्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया गया था।

इस पीढ़ी के दौरान हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैग्‍वेज (FORTRAN-II TO IV, COBOL, PASCAL PL/1, BASIC, ALGOL-68 आदि) का उपयोग किया गया था।

ये पहले कंप्यूटर थे जहां यूजर्स कीबोर्ड और मॉनिटर का उपयोग करते थे। इसने इन मशीनों को सेंट्रल प्रोग्राम का उपयोग करते हुए एक साथ कई एप्लिकेशन रन करने के लिए सक्षम किया।

Third Generation of Computer

तीसरी पीढ़ी की मुख्य विशेषताएं हैं –

  • IC का इस्तेमाल किया
  • पिछले दो पीढ़ियों की तुलना में अधिक विश्वसनीय
  • छोटे आकार के
  • कम गर्मी उत्पन्न
  • और फास्‍ट
  • कम मेंटेनेंस
  • महंगे
  • एसी आवश्यक
  • कम इलेक्ट्रिसिटी की खपत
  • हाई लेवल लैग्‍वेज को सपोर्ट

 

इस पीढ़ी के कुछ कंप्यूटर थे –

  • IBM-360 series
  • Honeywell-6000 series
  • PDP (Personal Data Processor)
  • IBM-370/168
  • TDC-316

 

Forth Generation of Computer in Hindi

Forth Generation of Computer in Hindi – कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी:

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी का पिरियड 1971 से 1980 तक था।

चौथे पीढ़ी के कंप्यूटर में Very Large Scale Integrated (VLSI) सर्किट का इस्तेमाल किया गया। VLSI सर्किट में लगभग 5000 ट्रांजिस्टर और अन्य सर्किट एलिमेंट्स एक ही चिप पर लगाए गए। इसी के कारण इस चौथी पीढ़ी में माइक्रो कंप्यूटर बनाना संभव हो सका।

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर अधिक पॉवरफुल, कॉम्पैक्ट, विश्वसनीय और सस्ते थे। नतीजन, इसने पर्सनल कंप्यूटर (पीसी) क्रांति को जन्म दिया।

इस पीढ़ी में, टाइम शेयरिंग, रियल टाइम नेटवर्क, डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया गया था। इस पीढ़ी में सभी हाई लेवल लैग्‍वेज जैसे C, C++, DBASE आदि का उपयोग किया गया था।

1981 में पहली बार आईबीएम ने एक ऐसा कंप्‍यूटर बनाया जो विशेष रूप से घरेलू उपयोग के लिए डिजाइन किया गया था। और बाद में 1984 में एप्पल द्वारा मैकंटॉश को बनाया गया। माइक्रोप्रोसेसरों अब कम साइज और हाई प्रोसेसिंग पॉवर में बहुत आगे बढ़ गए थे।

इन छोटे कंप्यूटरों की बढ़ी हुई पावर का अर्थ है कि उन्हें लिंक किया जा सकता है, नेटवर्क बना सकते हैं। आखिरकार इंटरनेट का जन्म और तेजी से विकास हुआ। इस अवधि के दौरान अन्य प्रमुख एडवांसेस जैसे Graphical user interface (GUI), माउस और हाल ही में लैप-टॉप कैपेसिटी और हाथ से पकड़ वाले डिवाइसों में आश्चर्यजनक प्रगति हुई।

चौथी पीढ़ी की मुख्य विशेषताएं हैं –

  • VLSI टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया
  • बहुत सस्ते
  • पोर्टेबल और विश्वसनीय
  • पीसी का उपयोग
  • बहुत छोटी साइज
  • कोई एसी आवश्यक नहीं
  • इंटरनेट की शुरूआत की गई थी
  • नेटवर्क के क्षेत्र में डेवलपमेंट
  • कंप्यूटर आसानी से उपलब्ध हो गया

 

इस पीढ़ी के कुछ कंप्यूटर थे –

  • DEC 10
  • STAR 1000
  • PDP 11
  • CRAY-1(Super Computer)
  • CRAY-X-MP(Super Computer)

 

Fifth Generation of Computer in Hindi

Fifth Generation of Computer in Hindi – कम्प्यूटर की पांचवीं पीढ़ी:

कम्प्यूटर की पांचवीं पीढ़ी  का पिरियड 1980 से आज तक है।

पांचवीं पीढ़ी में, VLSI टेक्नोलॉजी ULSI (Ultra Large Scale Integration) टेक्नोलॉजी बन गई, जिसके परिणामस्वरूप माइक्रोप्रोसेसर चिप्स में 10 लाख इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट्स होते हैं।

यह पीढ़ी समानांतर प्रोसेसिंग हार्डवेयर और AI (Artificial Intelligence) सॉफ्टवेयर पर आधारित है। AI  कंप्यूटर विज्ञान की एक उभरती हुई शाखा है, जो ऐसे कम्प्यूटर बनाने के तरीकों के बारे में खोज कर रहे हैं, जो मनुष्य की तरह सोचते हैं।

C and C++, Java, .Net जैसी सभी हाई लेवल लैग्‍वेज का उपयोग इस पीढ़ी में किया जाता है।

साइंटिस्ट्स लगातार कंप्यूटरों की प्रोसेसिंग पावर को बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं। वे एडवांस प्रोग्रामिंग और टेक्नोलॉजी की सहायता से वास्तविक बुद्धि के साथ एक कंप्यूटर बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

AI  में शामिल हैं –

  • रोबोटिक
  • नेटवर्क का जाल
  • गेम्‍स
  • एक्‍सपर्ट सिस्‍टम को डेवलप करना जो रियल लाइफ स्थितियों में निर्णय ले सके

 

पांचवीं पीढ़ी की मुख्य विशेषताएं हैं –

  • ULSI टेक्नोलॉजी
  • Artificial Intelligence की डेवलपमेंट
  • नैचरल लैग्‍वेज प्रोसेसिंग की डेवलपमेंट
  • एडवांस पैरेलल प्रोसेसिंग
  • सुपरकंडक्टर टेक्नोलॉजी में प्रगति
  • मल्टीमीडिया फीचर के साथ अधिक यूजर फ्रेंडली इंटरफेस
  • सस्ती दरों पर बहुत पॉवरफुल और कॉम्पैक्ट कंप्यूटर की उपलब्धता

 

इस पीढ़ी के कुछ कंप्यूटर प्रकार हैं –

  • Desktop
  • Laptop
  • NoteBook
  • UltraBook
  • ChromeBook

 

 

Computer Generation Hindi.

Computer Generation Hindi. Generation of Computer in Hindi, Computer Generation Information in Hindi Language. जनरेशन ऑफ कंप्यूटर. Five Generation Of Computer In Hindi.