Computer Fundamentals Hindi में! कंप्यूटर कि बेसिक बातें

Computer Fundamentals Hindi

Computer Fundamentals Hindi.

दोस्तों, आप लगभग हर क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा हैं। और आप भी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तरीके से कंप्यूटर का उपयोग कर रहे हैं। आप हम कंप्यूटर के बिना अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं।

तो जब यह इतना अनिवार्य हो गया हैं, तो आपको इसकी कुछ बुनियादी बाते पता होना आवश्यक हैं। आपकी इसी आवश्यकता को पूरा करता हैं यह आर्टिकल, शर्त केवल एक ही हैं की आप इसे पूरा और ध्यान से पढ़े।

Computer Fundamentals in Hindi:

दोस्तों, इस आर्टिकल में आप कंप्यूटर फंडामेंटल की बेसिक लेकिन बहुत जरूरी बाते सीखेंगे। साथ ही यह कैसे काम करता हैं, इसके कौनसे और कितने कंपोनेंट्स होते हैं और इसका उपयोग किन क्षेत्रों में किया जाता हैं यह भी जानेंगे।

कंप्यूटर एक एडवांस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो यूजर्स से इनपुट के रूप में रॉ डेटा लेता है और उसे इंस्‍ट्रक्‍शन के एक सेट (प्रोग्राम) कंट्रोल के तहत प्रोसेस करता है, रिजल्‍ट प्रोडूसस करता है, और फ्यूचर यूज के लिए इसे सेव करता है।

आज की दुनिया एक इनफॉर्मेशन कि दुनिया है और हर एक के लिए कंप्यूटर के बारे में जानना बहुत आवश्यक बन गया है। कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डाटा प्रोसेसिंग डिवाइस है, जो डेटा इनपुट को अक्सेप्ट करता है, डेटा इनपुट पर प्रोसेस करता है, और एक आवश्यक फॉर्मेट में आउटपुट प्रोडूस करता है।

 

What is Computer

कंप्यूटर क्या है?

  • “Computer” शब्द “To Compute” शब्द से आया है जिसका अर्थ है गणना करना।
  • कंप्यूटर को आमतौर पर एक कैलकुलेशन डिवाइस माना जाता है जो अरिथमेटिक के ऑपरेशन को बहुत तेजी से कर सकता है।
  • कंप्यूटर को एक डिवाइस के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो डेटा पर काम करता है।
  • डेटा नंबर्स, लेटर्स, सिम्‍बल, साइज आदि के रूप में हो सकता है और यह विभिन्न आकार और माप में आता है जो कंप्यूटर एप्‍लीकेशन के प्रकार पर निर्भर करता है।
  • जब हम चाहें तब एक कंप्यूटर डेटा को स्टोर, प्रोसेस और पुनर्प्राप्त कर सकता है।
  • तथ्य यह है कि कंप्यूटर प्रोसेस डेटा इतना मौलिक है कि कई लोगों ने इसे “डेटा प्रोसेसर” के रूप में बुलाना शुरू कर दिया है।
  • एक कंप्यूटर पहले यह डेटा प्राप्त करता है, उस पर प्रक्रिया करता है और फिर इनफॉर्मेशन का उत्पादन करता है।

 

Definition of Computer

कंप्यूटर की परिभाषा

एक कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो यूजर्स से इनपुट लेता है, इसे प्रोसेस करता है और यूजर्स की आवश्यकता के अनुसार आउटपुट देता है।

तो कंप्यूटर द्वारा किए जाने वाले मुख्य कार्य हैं:

  1. इनपुट
  2. प्रोसेस
  3. आउटपुट

 

Characteristics of Computer

कंप्यूटर के लक्षण

कंप्यूटर की कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं इस प्रकार हैं:

1) Automatic/आटोमेटिक:

  • कंप्यूटर आटोमेटिक मशीनें हैं क्योंकि यह मानव हस्तक्षेप के बिना अपने आप काम करती है।
  • एक बार जब यह एक जॉब पर शुरू होता है तो वे जॉब खत्म होने तक ले जाते हैं।
  • कंप्यूटर खुद शुरू नहीं कर सकता।
  • वे उन निर्देशों से काम कर सकते हैं जो सिस्टम के अंदर प्रोग्राम के रूप में स्‍टोर होते हैं जो निर्दिष्ट करते हैं कि किसी विशेष कार्य को कैसे किया जाना है।

 

2) Accuracy/सटिकता:

  • कंप्यूटर की सटीकता बहुत अधिक है।
  • किसी विशेष कंप्यूटर की सटीकता की डिग्री उसके डिजाइन पर निर्भर करती है।
  • त्रुटियां कंप्यूटर द्वारा हो सकती हैं। लेकिन ये मानवीय कमजोरी के कारण हैं, गलत डेटा के कारण, लेकिन तकनीकी कमजोरी के कारण नहीं।

 

3) Speed/गति:

  • कंप्यूटर एक बहुत तथ्य डिवाइस है। यह कुछ सेकंड में बहुत सारे काम की मात्रा को पूरा कर सकता है जिसके लिए एक मानव को कुछ साल लग सकते हैं।
  • कंप्यूटर की गति के बारे में बात करते समय हम सेकंड और मिलीसेकंड में नहीं बल्कि माइक्रोसेकंड में बात करते हैं।
  • एक शक्तिशाली कंप्यूटर प्रति सेकंड कई बिलियन (109) सरल अंकगणितीय संचालन करने में सक्षम है।

 

4) Diligence/अविराम:

  • मनुष्य के विपरीत, एक कंप्यूटर एकरसता, थकान और एकाग्रता की कमी से मुक्त है।
  • यह बिना किसी एरर के और बिना किसी गड़बड़ी के लगातार घंटों तक काम कर सकता है।
  • यदि आप काम करने के लिए दस मिलियन कॅल्क्युलेशन्स देते हैं, तो यह पहले वाले के समान सटीकता और गति के साथ प्रदर्शन करेगा।

 

5) Versatility/बहुमुखी प्रतिभा:

  • यह कंप्यूटर के बारे में सबसे शानदार विशेषताओं में से एक है।
  • एक पल यह एक विशेष परीक्षा के परिणाम तैयार करता है, अगले ही पल यह बिजली के बिल तैयार करने में व्यस्त है और बीच में यह एक कार्यालय सचिव को सेकंडों में एक महत्वपूर्ण पत्र का पता लगाने में मदद कर सकता है।

 

6) Power of remembering / याद रखने की शक्ति:

  • कंप्यूटर अपने स्‍टोरेज डिवाइसेस की हाई स्‍टोरेज कैपिसिटी के कारण किसी भी मात्रा में डेटा को स्टोर और रिकॉल कर सकता है।
  • इनफॉर्मेशन के प्रत्येक टुकड़े को यूजर्स द्वारा वांछित रूप में लंबे समय तक बनाए रखा जा सकता है और आवश्यकता के रूप में रिकॉल किया जा सकता है।
  • कई वर्षों के बाद भी, यदि इनफॉर्मेशन रिकॉल कि जाती है, तो यह उस दिन की तरह ही सटीक होगी जब इसे कंप्यूटरों में भरा गया था।

 

7) No Intelligence Quotient (IQ) / बौद्धिक स्तर नहीं

  • कंप्यूटर एक जादुई डिवाइस नहीं है; इसकी अपनी खुद की कोई बुद्धिमत्ता नहीं है
  • इसका आई क्यू शून्य है।
  • इसे बताना पड़ता है कि क्या करना है और किस क्रम में करना है।
  • यह अपना निर्णय नहीं ले सकता।

 

8) No feelings/ कोई भावना नहीं:

  • कंप्यूटर की कोई भावना नहीं है क्योंकि वे मशीनें हैं।
  • हमारी भावनाओं, कार्य, ज्ञान और अनुभव के आधार पर हम अक्सर आज के जीवन में कुछ निश्चित निर्णय लेते हैं।
  • लेकिन कंप्यूटर ठीक उसी तरह जाता है जिस तरह से हमने निर्देश दिए हैं।

 

Function of a Computer in Hindi

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो डेटा को अक्सेप्ट करता है, डेटा पर प्रोसेस करता हैं और आउटपूट जनरेट करता है और इस डेटा को स्‍टोर करता हैं।

कंप्‍यूटर का कांसेप्ट इनपूट डेटा से आउटपूट इनफॉर्मेशन को जनरेट करना हैं।

Functionalities of a Computer

 

कंप्यूटर की इनपुट-प्रोसेस-आउटपुट कांसेप्ट को इस प्रकार समझें-

Input:

कीबोर्ड जैसे इनपुट डिवाइसेस से कंप्यूटर इनपुट डेटा को स्वीकार करता है। इनपुट डेटा कैरेक्‍टर, वर्ड, टेक्‍स्‍ट, साउंड, इमेज, डयॉक्‍युमेंट आदि कुछ भी हो सकता हैं।

 

Process:

कंप्यूटर इनपुट डेटा पर प्रोसेस करता है। इसके लिए, यूजर द्वारा दिए गए इंस्‍ट्रक्‍शन या प्रोग्राम का उपयोग करके डेटा पर कुछ एक्‍शन करता है।

यह एक्‍शन अरिथमेटिक या लॉजीक कैल्‍यूकेशन, एडिटिंग, डयॉक्‍यूमेंट को मॉडिफाइ करना, आदि हो सकती है।

प्रोसेसिंग के दौरान, डेटा, इंस्‍ट्रक्‍शन और आउटपुट को कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी में टेम्पररी स्‍टोर किया जाता है।

 

Output:

डेटा पर प्रोसेस होने के बाद जनरेट हुए रिजल्‍ट ही आउटपुट हैं। यह आउटपुट टेक्‍स्‍ट, साउंड, इमेज, डयॉक्‍युमेंट आदि के रूप में हो सकता है।

कंप्यूटर मॉनिटर पर आउटपुट डिस्‍प्‍ले होता है इसे सॉफ्टकॉपी कहां जाता हैं, प्रिंटर से प्रिंट लिया जाता हैं इसे हार्डकॉपी कहां जाता हैं।

 

Storage:

इनपुट डेटा, इंस्‍ट्रक्‍शन और आउटपुट को परमानेंटली डिस्‍क या टेप जैसे सेकंडरी स्‍टोरेज डिवाइसेस में स्‍टोर किया जाता हैं। इस स्‍टोर डेटा को बाद में रिट्रीव किया जा सकता है, जब भी आवश्यक हो।

 

Data processing cycle of computer

Computer Fundamentals in Hindi – कंप्यूटर डेटा प्रोसेसिंग कोई भी प्रक्रिया है जो कंप्यूटर प्रोग्राम डेटा एंटर करने और सारांशित करने, विश्लेषण करने या डेटा को उपयोग करने योग्य इनफॉर्मेशन में बदलने के लिए करता है।

प्रोसेस आटोमेटेड हो सकती है और कंप्यूटर पर चल सकती है।

इसमें रिकॉर्डिंग, विश्लेषण, स्‍टोरिंग, सारांश और डेटा संग्रहीत करना शामिल है।

क्योंकि जब यह अच्छी तरह से प्रस्तुत किया जाता है और इनफॉर्मेशनपूर्ण होता है तो डेटा सबसे उपयोगी होता है।

 

The Data Processing Cycle:

डाटा प्रोसेसिंग चक्र:

डेटा प्रोसेसिंग साइकल में उन सभी गतिविधियों का वर्णन किया जाता हैं, जो मैन्युअल से इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम तक सभी डेटा प्रोसेसिंग सिस्टम के लिए सामान्य हैं।

इन गतिविधियों को चार कार्यात्मक श्रेणियों, अर्थात, डेटा इनपुट, डेटा प्रोसेसिंग, डेटा आउटपुट और स्टोरेज में वर्गीकृत किया जा सकता है, जो एक डेटा प्रोसेसिंग साइकल के रूप में जाना जाता है।

डेटा प्रोसेसिंग चक्र का मुख्य उद्देश्य डेटा को सार्थक इनफॉर्मेशन में बदलना है।

डेटा प्रोसेसिंग सिस्टम को अक्सर इनफॉर्मेशन सिस्‍टम के रूप में जाना जाता है।

इनफॉर्मेशन सिस्‍टम आमतौर पर आउटपुट के रूप में इनफॉर्मेशन का उत्पादन करने के लिए इनपुट के रूप में कच्चा डेटा लेती है।

 

डाटा प्रोसेसिंग चक्र में मुख्य चार कार्य होते हैं:

  1. डेटा इनपुट
  2. डेटा प्रोसेस
  3. डेटा स्‍टोरेज
  4. डेटा आउटपुट

 

1) डेटा इनपुट

शब्द इनपुट डेटा को रिकॉर्ड करने के लिए आवश्यक गतिविधियों को संदर्भित करता है।

यह कंप्यूटर सिस्टम में डेटा दर्ज करने की एक प्रोसेस है।

इसलिए हमें किसी भी डेटा को इनपुट करने से पहले, डेटा के संदर्भ को जांचना या सत्यापित करना आवश्यक है।

 

2) डाटा प्रोसेसिंग

शब्द प्रोसेसिंग में डेटा को वर्गीकृत, भंडारण, गणना, तुलना या सारांश जैसी गतिविधियां शामिल हैं।

प्रोसेसिंग का मतलब डेटा को सार्थक इनफॉर्मेशन में बदलने के लिए तकनीकों का उपयोग करना है।

 

3) डेटा आउटपुट

यह एक कम्युनिकेशन फंक्‍शन है जो बाहरी दुनिया के लिए इनफॉर्मेशन प्रसारित करता है।

प्रोसेस पूरी होने के बाद डेटा अर्थपूर्ण में परिवर्तित हो जाता है

कभी-कभी आउटपुट में डिकोडिंग गतिविधि भी शामिल होती है जो इलेक्ट्रॉनिक रूप से उत्पन्न इनफॉर्मेशन को मानव पठनीय रूप में परिवर्तित करती है।

 

4) डाटा स्टोरेज

इसमें भविष्य के उपयोग के लिए डेटा और इनफॉर्मेशन को स्‍टोर करना शामिल है।

 

Components of Computer Hardware in Hindi

Computer Fundamentals in Hindi – कंप्यूटर सिस्टम हार्डवेयर में तीन मुख्य कंपोनेंट्स होते हैं –

  1. Input/Output (I/O) Unit
  2. Central Processing Unit (CPU)
  3. Memory Unit

Components of Computer Hardware

Input/Output Unit

I/O युनिट के माध्यम से यूजर कंप्‍यूटर के साथ इंटरैक्ट करता है। इनपुट यूनिट यूजर से डेटा एक्‍सेप्‍ट करता है और प्रोसेस किए हुए डेटा को आउटपुट डिवाइसेस प्राप्‍त करते है जो यूजर्स के लिए इनफॉर्मेशन होती हैं।

कंप्‍यूटर को बाइनरी (0 और 1) की लैंग्‍वेज ही समझ में आती हैं, जो हम समझ नहीं सकते। इसलिए इनपुट युनिट यूजर्स से प्राप्‍त डेटा को कंप्‍यूटर समझ सकता हैं ऐसे फॉर्म से कन्‍वर्ट करता हैं। इसी प्रकार, आउटपुट यूनिट आउटपुट को ऐसे फॉर्म में कन्‍वर्ट करता है जिसे यूजर समझ सकता है।

आम इनपुट डिवाइसेस कीबोर्ड और माउस हैं जबकि आम आउटपुट डिवाइसेस में मॉनिटर और प्रिंटर हैं।

 

Central Processing Unit

Central Processing Unit (CPU) कंप्‍यूटर के ऑपरेशन को कंट्रोल, कोआर्डिनेट और सूपर्वाइज़ करता है। यह इनपुट डेटा के प्रोसेसिंग के लिए ज़िम्मेदार है। सीपीयू में Arithmetic Logic Unit (ALU) और Control Unit (CU) शामिल हैं।

ALU, इनपुट डेटा पर सभी अरिथमेटिक और लॉजिक ऑपरेशन करता है।

CU, कंप्यूटर के ओवरऑल ऑपरेशन को कंट्रोल करता है, अर्थात यह इंस्‍ट्रक्‍शन के एक्सेक्यूशन सिक्‍वेंस को चेक करता है, और कम्प्यूटर युनिट के ओवरऑल फंक्‍शन को कंट्रोल और कोऑर्डिनट करता हैं।

इसके अलावा, मेमोरी युनिट डेटा प्रोसेसिंग के दौरान CPU में डेटा, इंस्‍ट्रक्‍शन, एड्रेस और कैल्‍युकेशन के रिजल्‍ट को स्‍टोर करता हैं। इस Memory को कंप्‍यूटर कि मुख्‍य मेमोरी या प्राइमरी मेमोरी भी कहां जाता हैं।

प्रोसेसिंग होने से पहले इनपूट डेटा को इस मुख्‍य मेमोरी में लाया जाता है। डेटा प्रोसेसिंग के लिए आवश्यक इंस्‍ट्रक्‍शन और किसी भी इंटरमीडिएट रिजल्‍ट भी मुख्य मेमोरी में स्‍टोर किए जाते हैं। आउटपुट डिवाइस में ट्रांसफर होने से पहले आउपुट को मेमोरी में स्‍टोर किया जाता हैं।

सीपीयू मुख्य मेमोरी में स्‍टोर इनफॉर्मेशन के साथ काम कर सकता है। एक अन्य प्रकार की स्‍टोरेज युनिट को कंप्यूटर की सेकंडरी मेमोरी के रूप में भी जाना जाता है। डेटा, प्रोग्राम और आउटपुट को कंप्यूटर के स्‍टोरेज युनिट में परमानेंटली स्‍टोर किया जाता है। सेकंडरी स्‍टोरेज में हार्ड डिस्‍क, ऑप्टिकल डिस्क और मैग्‍नेटीप टेप हैं।

 

Uses of computers in Hindi

Computer Fundamentals in Hindi – कंप्यूटर के उपयोग:

कंप्यूटर में हाई स्‍पीड, डिलिजेंस, एक्यूरेसी, रिलायबिलिटी और वेर्सटिलिटी की वजह से यह हमारे जीवन के साथ ही बिजनेस ऑर्गनिज़ैशन का एक इंटिग्रेटेड हिस्‍सा बन गया हैं।

मॉडर्न ह्यूमन लाइफ में कंप्‍यूटर एक अनिवार्य हिस्सा बन गया हैं। Invention of computer के बाद से इनकी कंप्यूटिंग पॉवर बढ़ी और साइज घटाती गई।

प्रत्येक क्षेत्र में कंप्यूटरों के व्यापक उपयोग के कारण, आज की दुनिया में कंप्यूटर के बिना जीवन अकल्पनीय होगा। उन्होंने मानव जीवन को बेहतर और खुश बनाया है। काम के विभिन्न क्षेत्रों में कंप्यूटर उपयोग कई हैं इंजीनियरों, आर्किटेक्ट्स, ज्वेलर्स और फिल्म निर्माता सभी डिजाइन करने के लिए कंप्यूटरों का उपयोग करते हैं।

टिचर्स, राइटर्स और अधिकांश ऑफीस वर्कर्स, रिसर्च, वर्ड प्रोसेसिंग और ईमेलिंग के लिए कंप्यूटर का उपयोग करते हैं। लघु व्यवसाय कंप्यूटर को पॉइंट-ऑफ-सेल के रूप में और जनरल रिकॉर्ड रखने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

 

1) शिक्षा के क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग:

दुनिया भर के स्कूलों और कॉलेजों ने डिजिटाइजेशन के साथ स्टूडेंट्स को डिजिटली और क्रिएटिवली रूप से पढ़ाने के लिए कंप्यूटर तकनीकों का इस्तेमाल किया है। क्‍लासरूम में कंप्यूटर का उपयोग स्टूडेंट्स के दिमाग में क्रिएटिवीटी और इमेजिनेशन को बढ़ाने के लिए किया जाता हैं।

ड्राइंग टूल्स, स्प्रैडशीट, ऑडियो, वीडियो लेक्चर्स और पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन आदि, स्टूडेंट्स के लिए सब्‍जेक्‍ट को अधिक गहराई से और सही तरीके से जानने के लिए बहुत फायदेमंद हैं।

जैसा कि आप जानते हैं कि हमारे जीवन में शिक्षा सबसे महत्वपूर्ण है। कंप्यूटर ने एजुकेशन सिस्‍टम को पुनः बनाया। यूनिवर्सिटीज, कॉलेज और लगभग सभी तरह के एजुकेशन इंस्टिटयूट कंप्यूटर का उपयोग कर रहे हैं। कई सारे कॉलेज और यूनिवर्सिटीज अब कॉलेज के स्टूडेंट्स के लिए ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम भी चला रहे हैं।

 

2) बिजनेस में कंप्यूटर का इस्तेमाल:

इंटरनेट कनेक्शन के साथ कंप्यूटर का उपयोग कर हम बिज़नेस शुरू कर सकते हैं, बिज़नेस चला सकते हैं और बिज़नेस को मैनेज कर सकते हैं और हम कंप्यूटर के उपयोग से बिज़नेस को डेवलप कर सकते हैं।

गूगल, फेसबुक, लिंक्डइन, अमेज़ॅन, अलीबाबा इत्यादि सभी कम्प्यूटर और इंटरनेट के इस्तेमाल से बनाई गई वेबसाइट हैं।

कंप्यूटर तकनीकों के इस्तेमाल के बिना हम दुनिया भर के डेली बिज़नेस ऑपरेशन की कल्पना नहीं कर सकते। शुरुआती दिनों में जब चार्ल्स बबेज द्वारा आविष्कार किया गया पहला मैकेनिकल कंप्यूटर का उपयोग केवल बिज़नेस सिस्‍टम को कंट्रोल करने के लिए किया गया था और उसने बिज़नेस प्रोसेस को सही ढंग से बढ़ा दिया गया था। लेकिन आज सब कुछ कंप्यूटर द्वारा कंट्रोल और मैनेज किया जाता है

बिज़नेसेस और कंपनियां, मार्केटिंग और बिज़नेस प्‍लानिंग बनाने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करती हैं, वे कंप्यूटर का उपयोग कस्‍टमर्स के डेटा को रिकॉर्ड करने के लिए करते हैं, वे प्रॉडक्‍ट और सर्विसेस और आदि को मैनेज करने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं।

इंटरनेट कनेक्शन के साथ कंप्यूटर वास्तव में बिज़नेस के लिए महत्वपूर्ण है। अब वे इंटरनेट मार्केटिंग कर सकते हैं, वे प्रॉडक्‍ट और सर्विसेस को ऑनलाइन बेच सकते हैं। वे मैनेज कर सकते हैं; कंप्यूटर और इंटरनेट के उपयोग से दुनिया भर के एम्प्लॉइज को हाइर कर सकते हैं।

बिज़नेस में कम्प्यूटर का उपयोग करने से कंपनियां अपने कस्‍टमर बेस को तेजी से बढ़ने में मदद हो रही हैं।

कंप्‍यूटर का इस्तेमाल, कंपनियों और छोटे व्यापार मालिकों के लिए चुनौतीपूर्ण भी बना रहा हैं। चूंकि ग्राहकों के पास इंटरनेट के उपयोग से सर्वोत्तम प्रॉडक्‍ट या सर्विसेस को चुनने के कई ऑप्‍शन हैं।

आज कोई व्यक्ति घर से अपना बिज़नेस शुरू कर सकता है। फ्रीलान्सिंग इसका एक बड़ा उदाहरण है। कंप्यूटर और इंटरनेट के इस्तेमाल से फ्रीलांसर्स घर से दूर काम कर रहे हैं।

कंप्यूटर के इस्तेमाल से पैसे कमाना अब इतना मुश्किल नहीं है, लेकिन इसके लिए आपको बस कुछ ऐप्‍लीकेशन या प्रोग्रामिंग लैग्‍वेज में मास्टर बनने की आवश्यकता है।

 

3) हॉस्पिटल्स में कंप्यूटर का उपयोग:

हॉस्पिटल्स में कंप्यूटर का उपयोग डॉक्टरों और पेशन्ट के लिए बहुत से लाभ प्रदान करता है। हॉस्पिटल अपने पेशन्ट के ट्रीटमेंट के रिकॉडस्, मेडिसिन रिकॉर्डस् का डाटाबेस बना सकते हैं।

डॉक्टर मरीजों की बीमारियों का पता लगाने के लिए एक कंप्यूटर का इस्तेमाल कर रहे हैं। वे कंप्यूटर और हार्डवेयर डिवाइसेस के विभिन्न मेडिकल ऐप्‍लीकेशन की मदद ले रहे हैं। कंप्यूटर और इसके ऐप्‍लीकेशन का उपयोग डिज़ीज़, बल्‍ड टेस्‍ट, और युरिन टेस्‍ट, ब्रेन टेस्‍ट, और बॉडी स्कैनिंग इत्यादि पर रिसर्च करने के लिए होता है।

 

4) बैंकिंग क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग:

बैंक ग्राहकों की डिमांड को फास्‍ट और एक्यूरेट करने के लिए डेली कंप्यूटर का उपयोग कर रहे हैं। बैंक अपने कस्‍टमर्स के अकाउंट में पैसे डिपॉजिट करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग कर रहे हैं। कैशियर अपने बैंकिंग ऐप्‍लीकेशन में कस्‍टमर्स के अकाउंट नंबर्स से एंटर करता है, वे पहले अकाउंट नंबर और कस्‍टमर्स डिटेल्‍स को कन्फर्म करते हैं और फिर किबोर्ड के इस्तेमाल से डिपॉजिट अमाउंट को बैंकिंग ऐप्‍लीकेशन में एंटर करते हैं। यह प्रोसेस फास्‍ट और एक्यूरेट है।

बैंक अपने कस्‍टमर्स के लिए पैसे निकालने और कैश जमा करने के लिए एटीएम भी प्रोवाइड कर रहे हैं, जिससे 24 घंटे बैंकिंग संभव हो गई हैं।

चेक बुक प्रिंट करने के लिए भी अब कंप्‍यूटर मशीन का इस्‍तेमाल किया जाता हैं। लगभग पूरी बैंकिंग प्रोसेस अब कंप्यूटर द्वारा की जाती है।

इंटरनेट बैंकिंग ने कस्‍टमर्स कि बैंक में लगने वाली कतार को ही खत्म कर दिया हैं। क्योंकि कस्‍टमर्स अब ऑनलाइन इंटरनेट पर ही उनके सारे बैंकिंग के काम कर सकते हैं और इससे उनका समय भी बचता हैं।

मोबाइल बैंकिंग से इस क्षेत्र में क्रांति आ गई हैं। कस्‍टमर्स अब अपने स्‍मार्टफोन से ही पैसे ट्रांसफर, मासिक बिल या शॉपिंग कर रहे हैं।

इसके अलावा कस्‍टमर्स कंप्यूटर द्वारा विभिन्न बैंक लोन स्‍क्रीम, जैसे कि बिजनेस लोन, होम लोन और कार लोन के बारे में नॉलेज प्राप्त कर सकते हैं।

कस्‍टमर्स अब लोन के लिए अपनी पात्रता भी ऑनलाइन चेक कर सकते हैं और लोन के लिए ऑनलाइन अप्‍लाई कर सकते हैं।

 

5)  सरकारी कार्यालयों में कंप्यूटर का उपयोग:

गवर्नमेंट के काम या ऑफिशियल कामों को करने के लिए अतीत में बहुत अधिक समय लगता था। लेकिन आज कंप्‍यूटर के आने से यह काम फास्‍ट करना आसान हो गया हैं।

 

6) घर में कंप्यूटर का उपयोग:

अब बहुत सारे यूजर्स अपने घर पर कंप्‍यूटर या लैपटॉप पर निर्भर होते हैं। घर बैठे ही वे अपने कई सारे काम कर सकते हैं। वे घर के बिलों को ऑनलाइन भर सकते हैं और इसके साथ ही वे घर से ही अपने बिजनेस को चला सकते हैं।

जबकि कुछ लोग गाने सुनने और मुवी देखने के लिए घर पर कंप्‍यूटर का उपयोग करते हैं।

आप कंप्यूटर के उपयोग से दुनिया भर के लोगों के साथ कम्युनिकेशन  कर सकते हैं। आप नए कौशल सीख सकते हैं।

 

7) मार्केटिंग में कंप्यूटर का उपयोग:

इंटरनेट के साथ कंप्यूटर का उपयोग ऑनलाइन प्रॉडक्‍ट और सर्विसेस कि मार्केटिंग करने के नए तरीके तैयार कर रहे हैं। डिजिटल मार्केटिंग सर्विसेस, प्रॉडक्‍ट, वेबसाइट और बिजनेस बढ़ रहे हैं। बिजनेस वेबसाइटों और सोशल मीडिया पर कंटेंट मार्केटिंग आर्टिकल पब्‍लीश करने के लिए,  कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं। वे अमेज़ॅन जैसे अपने पोर्टल पर प्रॉडक्‍ट बेच सकते हैं।

 

8) ट्रैवल:

अब आप अपने घर या ऑफिस में बैठकर ही ऑनलाइन एरलाइन या रेल्‍वे टिकट बुक कर सकते हैं। इसके साथ ही आप ऑनलाइन अपने ट्रैवल कि प्‍लानिंग और हॉटेल भी बुक कर सकते हैं।

 

9) टेलीकम्युनिकशन्स:

सॉफ़्टवेयर का व्यापक रूप से यहां उपयोग किया जाता है। इसके अलावा सभी मोबाइल फोन में कस्‍टमर्स के डिटेल्‍स को बनाए रखने और मोबाइल सॉफ्टवेयर के माध्यम से मैसेज, ऑडियो और वीडियो भी भेजने के लिए सॉफ्टवेयर एम्बेडेड है। अब इंटरनेट मोबाइल फोन पर ही उपलब्ध है।

 

10) डिफेंस:

लगभग हर हथियार में एम्बेडेड सॉफ्टवेयर है। सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल फ्लाइट को कंट्रोल करने और बैलिस्टिक मिसाइलों में टार्गेट करने के लिए किया जाता है। सॉफ्टवेयर का उपयोग परमाणु बम को कंट्रोल और एक्‍सेस करने के लिए किया जाता है।

 

Computer Fundamental Notes In Hindi PDF Download:

Computer Fundamentals Notes in Hindi

 

Computer Fundamentals Hindi.

Computer Fundamentals Hindi. Computer Fundamentals in Hindi, Fundamentals of Computer in Hindi. Computer Fundamental Notes In Hindi PDF Download.