ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शन क्या हैं? यह कैसे काम करता हैं?

Broadband Hindi

Broadband Kya Hai In Hindi:

डिजिटल कम्युनिकेशन के भविष्य का वर्णन करने के लिए “ब्रॉडबैंड” शब्द आम हो गया है। डेटा कम्युनिकेशन सर्विसेस के वितरण के लिए प्रस्तावित या विकसित प्रौद्योगिकियों की एक श्रृंखला को संदर्भित करने के लिए इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

ब्रॉडबैंड आमतौर पर होम और छोटे बिज़नेस यूजर्स के उद्देश्य से लेकर हाई स्‍पीड वाले कम्युनिकेशन सर्विसेस की एक नई पीढ़ी को संदर्भित करता है। इसका नाम पर्याप्त बैंडविड्थ को संदर्भित करता है कि एक हाई स्‍पीड कनेक्शन यूजर्स को प्रदान कर सकता है।

लेकिन क्या एक अच्छी तरह से परिभाषित सीमा है जो ब्रॉडबैंड और नैरोबैंड सर्विसेस के बीच की सीमा को चिह्नित करता है, जिससे कोई यह कह सकता हैं की सर्विस ब्रॉडबैंड है?

इस आर्टिकल में आज हम इस और अन्य आयामों की पड़ताल करेंगे कि कैसे ब्रॉडबैंड परिभाषित होता है और इसके कैरेक्‍टरिस्टिक्स क्या है।

 

Broadband History in Hindi:

इंटरनेट काफी लंबे समय से आसपास रहा है – क्योंकि पहला ई-मेल 1970 के दशक में भेजा गया था। इसे 1990 के दशक में व्यापक ध्यान मिला और तब से यह हर समय में सबसे महत्वपूर्ण तकनीकी विकास में से एक बन गया है।

जिस तरह से, हमें अपने टेलीफ़ोन के माध्यम से एक कनेक्शन डायल करना पड़ता था, जो दर्दनाक 56 kbps की धीमी गति से पर चलता था। तुलना के लिए, एक 8 mbps कनेक्शन 8000 kbps कनेक्शन के बराबर है, और हम केवल 56 kbps से कनेक्ट होते थे। आज की सबसे स्‍लो मान्यता प्राप्त ब्रॉडबैंड स्‍पीड का यह एक छोटा सा अंश है।

इस कनेक्‍शन पर टेक्स्ट से अलग कुछ भी डाउनलोड करना बहुत मुश्किल था। पूरी स्‍पीड से केवल एक लो क्‍वालिटी वाला गीत (लगभग 3.5 MB) को डाउनलोड करने में लगभग 10 मिनट लगते थे।

लेकिन इंटरनेट की स्‍पीड हमेशा सुसंगत नहीं होती थी, इसलिए वास्तव में, एक गीत डाउनलोड करने में 30 मिनट से लेकर कुछ घंटों तक का समय लगता था।

यदि आप लो क्‍वालिटी वाली फिल्म (लगभग 700 MB) डाउनलोड करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको पूर्ण गति से डाउनलोड करने के लिए 28 घंटे लगेंगे, या कम स्‍पीड पर तीन से पांच दिन लगेंगे।

गति को क्रॉल करने के अलावा, डायल-अप इंटरनेट भी बेहद असुविधाजनक था क्योंकि उसने टेलीफोन लाइनों का पूरा उपयोग किया। लोग फोन कॉल करने और एक ही समय में इंटरनेट ब्राउज़ करने में असमर्थ थे, जिससे उन्हें बड़ी असुविधा होती थी या उन्हें अन्य लाइन के लिए अतिरिक्त लागत के बीच चुनने के लिए मजबूर किया गया।

और फिर ब्रॉडबैंड आया …

ब्रॉडबैंड ने 2000 के दशक के शुरू में इंटरनेट में नए जीवन को सांस लेने की अनुमति देकर टेलीफोन और इंटरनेट के बीच एक लाइन में सिग्नल की इजाजत दी, जिसका अर्थ है कि यूजर्स एक ही समय पर ऑनलाइन रह सकते हैं और फोन कॉल कर सकते हैं। इससे तेजी से कनेक्शन हुए, जिससे इंटरनेट ब्राउज़ करना और फ़ाइलों को डाउनलोड करना आसान हो गया।

ब्रॉडबैंड नेटवर्क के आगमन का मतलब था कि लोग अधिक स्‍पीड से फाइलें, गाने, टीवी शो और फिल्में डाउनलोड करने में सक्षम थे। इसने ऑनलाइन मीडिया में एक पूरी नई दुनिया को  जनम दिया: पिछले 56 kbps कनेक्शन की स्‍पीड पर, यूट्यूब जैसी साइटें संभव नहीं थीं।

सबसे नई प्रौद्योगिकियों की तरह, ब्रॉडबैंड बहुत महंगा था जब इसे पहली बार लॉन्च किया गया था, इसलिए प्रारंभिक उपयोग कम था। एक बार कीमतें अधिक प्रतिस्पर्धी हो गईं, हालांकि, ISP ने तेजी से ब्रॉडबैंड, ‘भारी उपयोग’ ब्रॉडबैंड और ब्रॉडबैंड बंडलों की पेशकश जैसी चीजों पर एक दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा करना शुरू कर दिया।

अब, लगभग सभी लोग ब्रॉडबैंड के कुछ रूपों में उपयोग करते हैं, चाहे वे उनके फोन लाइन या कनेक्‍शन टाइप के माध्यम से।

ब्रॉडबैंड लॉन्च होने के बाद से, हमने 4 G मोबाइल ब्रॉडबैंड जैसी नई ब्रॉडबैंड तकनीक का उदय देखा है, जो यूजर्स को कहीं भी ऑनलाइन और केबल (फाइबर ऑप्टिक) ब्रॉडबैंड प्राप्त करने की अनुमति देता है, जिसने कनेक्शन की गति को बढ़ा दिया है अधिकतम 300 MBPS।

 

Technical Characteristics of Broadband In Hindi:

ब्रॉडबैंड की तकनीकी विशेषताएं:

कम्युनिकेशन कपैसिटी या स्‍पीड, केवल इस सर्विस की कुछ विशेषताओं के एक है। डायल-अप एक्‍सेस के विपरीत ब्रॉडबैंड में पूरी तस्वीर आसानी से नहीं देखी जाती, जहां मॉडेम को एक टेलीफोन कॉल करना होता हैं और आईएसपी के मॉडेम के साथ कनेक्शन की रिक्‍वेस्‍ट करनी होती थी।

आज उपलब्ध सर्विसेस जिन्हें आम तौर पर ब्रॉडबैंड माना जाता है-जो अक्सर ऑफ़र करता है “आलवेज ऑन” कनेक्टिविटी के साथ हाई स्‍पीड। स्‍पीड और हमेशा के साथ बैंडविड्थ समरूपता और एड्रेसबिलिटी जैसे अतिरिक्त पैरामीटर हैं जो ब्रॉडबैंड की परिभाषा के महत्वपूर्ण घटक हैं।

Speed or capacity

Latency and jitter

Always on

Bandwidth symmetry

Addressability

 

1) Speed or capacity:

इसका मतलब है कि यूजर और ब्रॉडबैंड सर्विस प्रोवाइडर के बीच नेटवर्क लिंक की क्षमता। यह ब्रॉडबैंड के महत्वपूर्ण फैक्‍टर में से एक है। कई प्रकार की ब्रॉडबैंड प्रौद्योगिकियां या तो वायर्ड या वायरलेस हैं। यह विशेषता हर ब्रॉडबैंड तकनीक में है। जब यूजर बड़ी फ़ाइलों, स्ट्रीमिंग, या डाउनलोड करना चाहता है या वीडियो कॉल करना चाहता हैं तो डाउनलोड लिंक की बेहतर क्षमता होनी चाहिए।

 

2) Latency and jitter:

यह विशेषता उन ऐप्‍लीकेशन में बहुत महत्वपूर्ण है जो रियल टाइम इनफॉर्मेशन या कम्युनिकेशन जैसे टेलीफोन कॉल (VOIP) और इंटरैक्टिव गेम खेलने पर निर्भर होते हैं।

सरल शब्दों में, लेटेंसी एक एक्सप्रेशन हैं जो यह बताता हैं कि एक डेस्टिनेशन पॉइंट से दूसरे तक डेटा पैकेट को कितना समय लगेगा।

और jitter आने वाले पैकेट के बीच में भिन्नता के लिए है। जब हम VOIP कॉल करते हैं और ऑनलाइन गेम खेल रहे हैं तो यह विशेषता बहुत महत्वपूर्ण है।

 

3) Always on:

यह विशेषता विशेष रूप से तब होती है जब लोग चौबीसों घंटे दुनिया से कनेक्‍ट रहना चाहते हैं। कुछ इंटरनेट ऐप्‍लीकेशन को इस फीचर की काफी हद तक जरूरत होती हैं।

उदाहरण के लिए जब हम SKYPE (VOIP ऐप्‍लीकेशन) का उपयोग कर रहे हैं तो हम पूरी दुनिया के लिए ओपन हैं। हमें हर समय ध्यान देने की जरूरत है। हमेशा अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए जरूरी है। और यह हेल्‍थ ऐप्‍लीकेशन, सेक्‍युरिटी, लाइव अपडेट और इंस्‍टंट मैसेजिंग जैसे नए ऐप्‍लीकेशन का मौका भी प्रदान करता है।

बेस्‍ट एंड्रॉइड हेल्‍थ और फिटनेस ऐप्स: 2018 में फिट रहने के लिए

 

4) Bandwidth Symmetry:

बैंडविड्थ समरूपता – आज टेलीकम्यूनिकेशन सर्विसेस, विशेष रूप से ब्रॉडबैंड को एक जैसी कपैसिटी और डाउन स्ट्रीम को प्रोवाइड करना आवश्यक नहीं है। यह विशेषता ब्रॉडबैंड कनेक्शन की आवश्यकता पर निर्भर करती है। जब कोई यूजर वेब ब्राउज़िंग करता है; तो अपस्ट्रीम के लिए कम बैंडविड्थ पर्याप्त हो सकती है। इसका मतलब है कि लिंक का उपयोग केवल सर्वर तक रिक्‍वेस्‍ट भेजने के लिए कर सकता है। रिक्‍वेस्‍ट करने के लिए यूजर्स को बहुत कम बैंडविड्थ की आवश्यकता होती है और हाई डाउन स्ट्रीम कनेक्शन कंटेंट के लिए होता है।

जब हम सहकर्मी को बड़ी फाइलें ट्रांसफर करते हैं तो हमें हाई डाउनस्ट्रीम और अपस्ट्रीम की रिक्‍वेस्‍ट करनी होगी।

 

5) Addressability:

एड्रेस योग्यता ऐसी कार्यक्षमता को भी सक्षम करता, जब यूजर ऐसे सर्वर को रन करने में सक्षम होता है जिसे अन्य इंटरनेट यूजर्स एक्सेस कर सकते है।

होम कंस्यूमर को डायनैमिकली असाइन किए गए एड्रेस प्रदान किए जाते हैं, और बहुत कम यूजर्स हैं जिनके पास स्‍टैटिक एड्रेस होते है।

इनबाउंड कंट्रोल के बिना Addressability से कंप्यूटर पर हमलों का मौका बढ़ जाता है। फिर होम कंप्यूटर की सुरक्षा फायरवॉल जैसे डिवाइस के अंदर स्थापित गेटवे की सुरक्षा के बड़े हिस्से में निर्भर करती है।

 

Types of Broadband Connections in Hindi:

ब्रॉडबैंड कनेक्शन के प्रकार:

ब्रॉडबैंड में कई हाई-स्‍पीड ट्रांसमिशन टेक्‍नोलॉजीज शामिल हैं जैसे कि:

डिजिटल सब्सक्राइबर लाइन (डीएसएल)

केबल मॉडम

फाइबर

वायरलेस

सैटेलाइट

पावरलाइन पर ब्रॉडबैंड (BPL)

 

1) Digital Subscriber Line (DSL)

DSL एक वायरलाइन ट्रांसमिशन तकनीक है जो पारंपरिक कॉपर टेलीफोन लाइनों पर पहले से ही घरों और बिजनेस में इंस्‍टॉल डेटा को तेजी से ट्रांसमिट करती है।

DSL-आधारित ब्रॉडबैंड कई सौ kbps से लाखों bits प्रति सेकंड (Mbps) तक ट्रांसमिशन स्‍पीड प्रदान करता है। आपकी DSL सर्विस की उपलब्धता और स्‍पीड आपके घर या व्यापार की दूरी पर निकटतम टेलीफोन कंपनी सुविधा पर निर्भर हो सकती है।

निम्नलिखित डीएसएल ट्रांसमिशन टेक्‍नोलॉजी के प्रकार हैं:

i) Asymmetrical Digital Subscriber Line (ADSL):

मुख्य रूप से होम यूजर्स द्वारा इसका उपयोग की जाती है, जैसे कि इंटरनेट सर्फर, जो बहुत सारे डेटा प्राप्त करते हैं लेकिन ज्यादा नहीं भेजते।

ADSL आमतौर पर अपस्ट्रीम दिशा की तुलना में डाउनस्ट्रीम दिशा में तेज गति प्रदान करता है। ADSL उस लाइन पर नियमित टेलीफोन कॉल को बाधित किए बिना वॉयस सर्विस प्रदान करने के लिए उपयोग की जाने वाली उसी लाइन पर तेज़ी से डाउनस्ट्रीम डेटा ट्रांसमिशन की अनुमति देता है।

 

ii) Symmetrical Digital Subscriber Line (SDSL):

आमतौर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग जैसी सर्विसेस के लिए बिज़नेस द्वारा उपयोग की जाती है, जिसके लिए अपस्ट्रीम और डाउनस्ट्रीम दोनों के लिए महत्वपूर्ण बैंडविड्थ की आवश्यकता होती है।

आमतौर पर बिज़नेस के लिए उपलब्ध DSL के फास्‍ट रूपों में शामिल हैं:

High data rate Digital Subscriber Line (HDSL); और

Very High data rate Digital Subscriber Line (VDSL).

 

2) Cable Modem:

केबल मॉडेम सर्विस केबल ऑपरेटर को उसी कॉक्सियल केबल्स का उपयोग करके ब्रॉडबैंड प्रदान करने में सक्षम बनाती है जो आपके टीवी सेट पर पिक्‍चर और साउंड प्रदान करती है।

अधिकांश केबल मॉडेम एक्‍सटर्नल डिवाइस होते हैं जिनमें दो कनेक्शन होते हैं: एक केबल वॉल आउटलेट में से एक, दूसरा कंप्यूटर पर। वे 1.5 Mpbs या उससे अधिक की कम्युनिकेशन स्‍पीड प्रदान करते हैं।

एक ISP डायलिंग किए बिना, बस अपने कंप्यूटर को ऑन करके अपने केबल मॉडेम सेवा तक पहुंच सकते हैं। इसका उपयोग करते समय भी आप केबल टीवी देख सकते हैं। ट्रांसमिशन स्‍पीड केबल मॉडेम, केबल नेटवर्क, और ट्रैफिक लोड के टाइप के आधार पर भिन्न होती है। इसकी स्‍पीड DSL की तुलना में अधिक हैं।

 

3) Fiber:

फाइबर ऑप्टिक टेक्‍नोलॉजी डेटा के इलेक्ट्रिक सिग्‍नल को लाइट में कन्‍वर्ट करती है और मानव के बाल के व्यास के बराबर पारदर्शी ग्लास फाइबर के माध्यम से प्रकाश भेजती है।

फाइबर वर्तमान DSL या केबल मॉडेम स्‍पीड से अधिक स्‍पीड से डेटा ट्रांसमिट करता है, आमतौर पर दस या यहां तक ​​कि सैकड़ों Mbps।

आपके द्वारा ए‍क्‍सपिरियंस की जाने वाली वास्तविक स्‍पीड विभिन्न फैक्‍टर के आधार पर अलग-अलग हो जाएगी, जैसे कि आपके कंप्यूटर के करीब कितने सर्विस प्रोवाइडर की फाइबर का कनेक्‍शन लेते है और सर्विस प्रोवाइडर बैंडविड्थ की मात्रा सहित सर्विस को कैसे कॉन्फ़िगर करता है।

आपके ब्रॉडबैंड प्रदान करने वाला वही फाइबर वीडियो-ऑन-डिमांड सहित वॉयस (VoIP) और वीडियो सर्विस भी प्रदान कर सकता है।

दूरसंचार प्रदाता कभी-कभी सीमित क्षेत्रों में फाइबर ब्रॉडबैंड प्रदान करते हैं और अपने फाइबर नेटवर्क का विस्तार करने और बंडल वॉयस, इंटरनेट एक्सेस और वीडियो सेवाओं की पेशकश करने की योजना की घोषणा करते है।

 

4) Wireless:

वायरलेस ब्रॉडबैंड ग्राहक के स्थान और सर्विस प्रोवाइडर की सुविधा के बीच एक रेडियो लिंक का उपयोग कर घर या बिज़नेस को इंटरनेट से कनेक्‍ट करता है। वायरलेस ब्रॉडबैंड मोबाइल या फिक्‍स किया जा सकता है।

लंबी दूरी के दिशात्मक डिवाइसेस का उपयोग कर वायरलेस टेक्‍नोलॉजीज रिमोट या दुर्लभ आबादी वाले क्षेत्रों में ब्रॉडबैंड सेवा प्रदान करती हैं जहां डीएसएल या केबल मॉडेम सेवा प्रदान करने के लिए महंगी होगी हैं।

इनकी स्‍पीड आमतौर पर डीएसएल और केबल मॉडेम से ज्यादा होती है। इसके लिए एक एक्‍सटर्नल एंटीना आमतौर पर आवश्यक है।

फिक्‍स नेटवर्क पर दी जाने वाली वायरलेस ब्रॉडबैंड इंटरनेट एक्सेस सर्विसेस उपभोक्ताओं को एक निश्चित पॉइंट से इंटरनेट एक्‍सेस की अनुमति देती हैं जबकि स्‍टेशनरी और अक्सर वायरलेस ट्रांसमीटर और रिसीवर के बीच सीधे सीधी रेखा की आवश्यकता होती है। इन सेवाओं को लाइसेंस प्राप्त स्पेक्ट्रम और लाइसेंस रहित उपकरणों दोनों का उपयोग करके प्रोवाइड किया जाता है।

उदाहरण के लिए, हजारों छोटे वायरलेस इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (WISP) लाइसेंस रहित उपकरणों का उपयोग करते हुए लगभग 1 Mbps की स्‍पीड पर ऐसे वायरलेस ब्रॉडबैंड प्रदान करते हैं, जिसे अक्सर ग्रामीण क्षेत्रों में केबल या वायरलाइन ब्रॉडबैंड नेटवर्क द्वारा नहीं प्रदान किया जाता।

 

5) Satellite:

जैसे ही पृथ्वी परिक्रमा करने वाले उपग्रह टेलीफोन और टेलीविजन सेवा के लिए आवश्यक लिंक प्रदान करते हैं, वे ब्रॉडबैंड के लिए लिंक भी प्रदान कर सकते हैं। सैटेलाइट ब्रॉडबैंड वायरलेस ब्रॉडबैंड का एक और रूप है, और रिमोट या दुर्लभ आबादी वाले क्षेत्रों की सर्विस के लिए भी उपयोगी है।

उपग्रह ब्रॉडबैंड के लिए डाउनस्ट्रीम और अपस्ट्रीम की स्‍पीड कई फैक्‍टर पर निर्भर करती है, जिसमें प्रोवाइडर और सर्विस पैकेज खरीदा जाता है। आम तौर पर एक उपभोक्ता को लगभग 500 kbps की स्‍पीड से (डाउनलोड) प्राप्त करने की उम्मीद कर सकता है और लगभग 80 kbps की स्‍पीड से (अपलोड) भेज सकता है।

ये स्‍पीड डीएसएल और केबल मॉडेम की तुलना में धीमी हो सकती हैं, लेकिन वे डायल-अप इंटरनेट एक्सेस के साथ डाउनलोड की स्‍पीड से लगभग 10 गुना फास्‍ट हैं। चरम मौसम की स्थिति में यह सर्विस बाधित हो सकती है।

 

6) Broadband over Powerline (BPL):

BPL मौजूदा निम्न और मध्यम वोल्टेज इलेक्ट्रिक पावर डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क पर ब्रॉडबैंड की डिलीवरी है। बीपीएल की गति डीएसएल और केबल मॉडेम गति से अधिक है। बीपीएल मौजूदा इलेक्ट्रिक कनेक्शन और आउटलेट का उपयोग कर घरों को प्रदान किया जा सकता है। बीपीएल एक उभरती हुई तकनीक है जो बहुत सीमित क्षेत्रों में उपलब्ध है। इसमें महत्वपूर्ण क्षमता है क्योंकि प्रत्येक ग्राहक के लिए नई ब्रॉडबैंड सुविधाओं को बनाने की आवश्यकता को कम करने के लिए बिजली लाइनों को लगभग हर जगह स्थापित किया जाता है।

 

Broadband Hindi.

Broadband Hindi, What is Broadband in Hindi. What Is Broadband Transmission In Hindi, Broadband Kya Hai In Hindi, What Is Baseband In Hindi, Baseband And Broadband In Hindi, Broadband Connection Meaning In Hindi, What Is Baseband And Broadband Transmission In Hindi, Baseband Transmission In Hindi.

Summary
Reviewed Item
Broadband in Hindi
Author Rating
51star1star1star1star1star